Read latest updates about "लेडीज स्पेशल" - Page 1

  • घर परिवार: बच्चे कहना क्यों नहीं मानते

    आम माता-पिता को यह शिकायत रहती है कि बच्चे कहना नहीं मानते। कभी कभी इस शिकायत के चलते इन्हें खीझ होने लगती है। कभी वे दु:खी व परेशान हो जाते हैं तो यदा-कदा निराशा व हताशा में घिर जाते हैं। वे समझ नहीं पाते कि किस तरह बच्चों को समझायें और उन्हें सही मार्गदर्शन प्रदान करें। स्कूल में भी टीचर...

  • ऊंची एड़ी के सैंडिल हड्डियों की बीमारी भी दे सकते हैं

    हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के विशेषज्ञों द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार ऊंची एड़ी के जूते घुटने के पास स्थित मांसपेशियों पर अधिक दबाव डालते हैं। इन विशेषज्ञों के अनुसार लोगों में यह धारणा है कि प्लेटफार्म हील पैंसिल हील से अच्छी होती है व इससे कोई नुकसान नहीं पहुंचता पर ऐसा नहीं है बल्कि प्लेटफार्म हील...

  • परिवार के बीमार सदस्य की सेवा को फर्ज समझें

    व्यक्ति कितना भी खुशमिजाज हो, बीमारी अगर गंभीर और लंबी हो तो उसकी शक्ति निचोड़ के रख देती है। जिसका असर संपूर्ण परिवार पर पड़ता है। परिवार में कई बार कोई अपंग, सदस्य होता है जिसे भावनात्मक सहारे की जरूरत ज्यादा होती है क्योंकि कोई भी छोटी सी बात उसके मन को दुखा सकती है जैसे बेचारा या बेचारी शब्द...

  • चेहरे के हिसाब से बालों को संवारने के टिप्स

    फैशन के इस जमाने में कौन सा स्टाइल आजकल लोग ज्यादा पसंद कर रहे हैं, इन सब बातों को लेकर माथापच्ची ज्यादा ही होती है। अगर चेहरे के हिसाब से बालों को सजाया जाए तो यह किसी भी व्यक्ति को अपनी ओर आकर्षित किए बिना नहीं रह सकता। यही कारण है कि बालों के आकर्षक अंदाज ने सदा से ही कवियों गीतकारों को भी अपनी...

  • देखभाल ऊनी वस्त्रों की

    सुबह शाम की ठंडी हवाएं जाड़े के आने का संकेत दे रही हैं। उसी के साथ जाड़े के कपड़े भी बाहर निकल आये हैं। बाजार में आकर्षक रंगों के ऊनी कपड़ों के ढेर दिखाई दे रहे हैं। इस बढ़ती महंगाई में आये दिन मंहगे ऊनी वस्त्रों को खरीदना या बनवाना बहुत कठिन हो गया है। प्रस्तुत हैं, कुछ महत्त्वपूर्ण और उपयोगी...

  • बालों की कुछ समस्याएं और समाधान

    बढ़ते प्रदूषण, बदलते लाइफस्टाइल और तनाव भरी जिंदगी ने हमारे शरीर,त्वचा,मन, दिमाग और बालों पर कुप्रभाव बढ़ाया है। बालों की समस्या काफी बढ़ रही है जैसे बालों का टूटना, बेजान होना, समय से पहले सफेद होना, डैंड्रफ, दोमुंहे बाल, चमकहीन बाल आदि। बालों की इन समस्याओं ने खूबसूरती पर भी प्रभाव डाला है। कुछ...

  • भोजन परोसना भी एक कला है

    ऐसे अनेक अवसर आते हैं जब आप लंच या डिनर पर मेहमानों को आमंत्रित करती हैं। मेहमानों को भोजन परोसते समय सावधानियां बरतनी पड़ती हैं। इसलिए आपके भोजन परोसने व खिलाने का ढंग ऐसा होना चाहिए कि मेहमान तृप्ति महसूस करें। कभी-कभी कुछ बिन बुलाए मेहमान भी आ जाते हैं जिन्हें आप बहुत खराब मूड से भोजन परोसती...

  • खूबसूरती के लिए अपनाइए ब्यूटी मास्क

    मौसम एवं जलवायु प्राय: बदलते रहते हैं। इस बदलते मौसम एवं जलवायु का त्वचा पर विशेष हानिकारक प्रभाव पड़ता है। सर्दियों के मौसम में त्वचा प्राय: शुष्क हो जाती है। हाथों में झुर्रियां पडऩे लगती हैं, खुजली होने लगती है तथा त्वचा भी फटने लगती है। त्वचा को अत्यधिक ठण्ड से बचाने के उपायों से ही त्वचा के...

  • क्यों बनते हैं विवाहेत्तर संबंध

    पुरूष की प्रवृत्ति उस भंवरे की तरह होती है जो आकर्षक व सुंदर फूलों के चारों ओर बराबर चक्कर लगाता रहता है। पुरूष को हमेशा दूसरी औरतें अधिक गुणवती व रूपवती दिखाई देती हैं। अपनी खूबसूरत पत्नी को छोड़कर दूसरी औरत के पास जाकर आसरा खोजना पुरूष का एक स्वभाव बनकर रह गया है। यूं तो विवाह भावनात्मक व मानसिक...

  • ससुराल में पहला दिन

    हर लड़की जिस दिन से सबसे अधिक घबराती है वह शायद शादी के बाद ससुराल में पहला दिन होता है। 20-22 वर्ष एक परिवार में पलने के बाद उसके लिए शायद यह एक नया जन्म ही होता है। एक बिलकुल नया परिवार, नये मां बाप, नये भाई बहन और पति जिनकी आदतों, स्वभाव आदि के विषय में कुछ पता नहीं होता। प्राय: ससुराल...

  • लो आ गई सर्दी

    ठंड का मौसम यानी सेहत बनाने का मौसम पर अक्सर लापरवाही से हम बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। आखिर ठंड के बुरे असर से कैसे बचा जाए? अपने तन को ठंड से बचाने के लिए हम तरह-तरह के यत्न करते हैं। यों तो ठंडक से बचने के लिए या शरीर की रक्षा के लिए आहार और कपड़ों की अहम भूमिका है तो भी इस प्रकृति...

  • हाथों को बनायें सुंदर

    प्राय: हमारे द्वारा किया जाने वाला अधिकांश कार्य हाथों से ही सम्पन्न होता है, अत: हमें चाहिए कि हाथों को स्वस्थ एवं सुन्दर बनाये रखने के लिए नियमित देखभाल करते रहें। पोंछा लगाने, बर्तन व कपड़े धोने तथा सफाई इत्यादि करते रहने से खासकर गृहणियों के हाथों में दरारें पड़ जाती हैं तथा कटे-फटे के निशान...

Share it
Top