Read latest updates about "बाल जगत" - Page 1

  • बाल जगत: आज की मां, मां नहीं, सुपर मॉम बन कर रहती है

    आधुनिक युग की मांएं बस मां का कर्तव्य ही नहीं निभाती, उसके साथ-साथ बच्चों के विकास हेतु हर पहलु पर उनका साथ निभाती हैं। गर्भकाल से लेकर उनके विकास, स्कूल, एक्स्ट्रा हॉबी क्लासेज, पौष्टिक आहार, स्पोर्टस पढ़ाई, करियर और उनके शौक का पूरा ध्यान रखती हैं। उनके साथ क्वालिटी टाइम बिताने के लिए पूरा ध्यान...

  • बच्चे का डर दूर करें

    बच्चों का काल्पनिक खतरों से डरना एक आम समस्या है। प्राय: बच्चे भूत-प्रेत, बाबाओं, कुत्ता, बिल्ली, अंधेरे आदि से डरते हैं। इनकी अनुपस्थिति में भी बच्चों के मन में इनके प्रति भय रहता है। इस प्रकार का डर उन्हें दब्बू बना देता है, उनमें आत्मविश्वास की कमी आ जाती है तथा उनके व्यक्तित्व का संतुलित विकास...

  • बाल कथा: कर्म की श्रेष्ठता

    एक बार भाग्य और कर्म में बहस छिड़ गई कि कौन श्रेष्ठ है। उस समय वे एक गरीब ब्राह्मण के झोंपड़े के पास से गुजर रहे थे। कर्म बोला, यदि इस गरीब बाह्मण को बिना कर्म किए अमीर बना दो तो मैं तुम्हारी श्रेष्ठता स्वीकार कर लूंगा। भाग्य बोला, इसमें कौन सी बड़ी बात है। कल देखना यह ब्राह्मण अत्यंत वैभवपूर्ण...

  • बाल जगत: अस्तित्व की समाप्ति की ओर अग्रसर समुद्री जीव

    पूंजीवाद की अत्यधिक दोहन की भूख ने समुद्री जीवों के अस्तित्व पर ग्रहण लगा दिया है। अध्ययनकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि समुद्री मछलियों को बचाने के जल्दी ही पुख्ता इंतजाम नहीं किए गये तो सन् 2050 तक इन जीवों का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। यह चेतावनी समुद्री परिस्थितिकी तंत्र (सी इकोसिस्टम) और खाद्य तथा...

  • बच्चों का व्यक्तित्व चित्रों द्वारा जानिए

    आमतौर पर बच्चे स्कूल में चित्र बनाते हैं, कभी कॉपी पर, कभी किताबों पर तो कभी डेस्कों पर। यह चित्रकारी कहीं न कहीं उनके व्यक्तित्व को उजागर करती है, अनचाहे में उनकी इच्छाओं को झलकाती है। आइए जानें कि आप अपने बच्चों को चित्रों के माध्यम से कैसे समझ सकते हैं। तारे:-यदि आपका बच्चा प्राय: कॉपियों,...

  • बाल कथा: चिडिय़ां भूल गई

    तब की बात है, जब चिडिय़ां पेड़ों पर नहीं रहती थीं। उनके अपने मोहल्ले होते थे। वहां वे सब इकटठी रहकर नाचती-गाती थीं। उनके पास आग भी थी, जिससे खाना पकाती थीं। एक दिन की बात, नाचती-गाती सारी चिडिय़ां सो गईं। बाहर आग जलती रही। उसे अंदर रखना भूल गईं। रात में तेज बारिश हुई। आग बुझ गई। सुबह चिडिय़ों को आग...

  • शेयरिंग करना सिखाएं बच्चों को

    बच्चे अपने माता-पिता, घर-परिवार और आस-पास के वातावरण से बहुत कुछ सीखते हैं। बच्चे गंदी आदतें जल्दी सीखते हैं और अच्छी आदतों पर पूरा ध्यान नहीं देते। ऐसे में माता-पिता की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक बच्चों को बचपन से ही शेयरिंग का अभ्यास करवाना होगा। तभी वह सीख पाएंगेे और साथ ही...

  • बाल कहानी: चांदी की डिबिया

    सुखराम कहने को किसान था पर काम दूसरे के खेतों पर करता था। मुश्किल से परिवार का गुजारा कर पाता था। एक दिन सुखराम को कुछ सामान लेने बाजार जाना पड़ा। वह साहूकार दीनदयाल की दुकान पर पहुंचा। साहूकार ने उसे पहचान कर कहा, 'वर्षों पहले तुम्हारे पिता ने मुझसे पचास रूपए उधार लिए थे। वे रूपए न उन्होंने लौटाए,...

  • बोध कथा: ईश्वर की कृतियां

    एक बार एक किसान के घर में रखे बर्तनों में कांसे की बनी थाली और अल्यूमीनियम के कटोरे में वार्तालाप हो गया। थाली ने कहा, 'मैं तुमसे बड़ी हूं, क्योंकि मैं कांसा धातु की बनी हूं, तुमसे ज्यादा कीमती हूं तथा रसोईघर में मेरा अधिक महत्त्व है। तुम जैसे तीन-चार कटोरों का सामान अकेले मैं रखने के काम आ सकती...

  • बाल कथा : बंदर का बाक्सिंग स्कूल

    आलसी बंदर इस बार शहर से जंगल के जानवरों को बेवकूफ बनाने की एक नई तरकीब सोचकर लौटा था। बात यह थी कि उसने शहर में एक 'बाक्सिंग स्कूल' देख लिया था जिसमें लोग बाक्सिंग सीखने जाते थे। उसने सोचा कि वह भी जंगल में बाक्सिंग सिखाने का स्कूल खोल ले। वह बाक्सिंग तो जानता नहीं था पर अपनी चालबाजी पर उसे पूरा...

  • बाल जगत/जानकारी: क्लोरोफार्म की खोज की कहानी

    क्लोराफार्म की खोज की कहानी भी बड़ी मजेदार है। एक बार एक दुर्घटना में घायल व्यक्ति की टांग काटनी थी नहीं तो कुछ देर में पूरे शरीर में जहर फैल जाता। चिकित्सकों ने मरीज के हाथ-पैर रस्सी से बांध दिए, दो-तीन आदमी भी उसे पकड़े हुए थे मगर रोगी बुरी तरह छटपटा रहा था। बहुत बुरा दृश्य था। ऐसा दृश्य देखकर...

  • बच्चों को सिखाएं कुछ जरूरी काम

    - अपने खिलौने उचित स्थान पर रखना। - स्कूल से आने पर स्वयं स्कूल बैग रखना और पानी की बोतल के स्थान पर बोतल खाली कर रखना। - अपने जूते उचित स्थान पर रखना, स्कूल के लिए यूनिफार्म, रात को बैल्ट रूमाल, जुराब, टाई और जूते आदि निकालकर यथा स्थान पर रखना। - फ्रिज में खाली बोतलें भर कर रखना। - रात्रि में...

Share it
Top