Read latest updates about "लेडीज स्पेशल" - Page 2

  • रसोईघर में होने वाली दुर्घटनाओं को रोकें

    रसोईघर पकवान बनाने की जगह है। इसे दुर्घटनाओं का घर होने से बचायें। प्राय: गृहणियां रसोई घर में ही दुर्घटनाओं का शिकार होती हैं। इसे मात्र थोड़ी सी सूझ-बूझ से सावधान रहते हुए रोका जा सकता है। . रसोईघर में खाना-बनाते समय गृहिणी को सूती कपड़े पहनने चाहिएं। ये शरीर के लिए आरामदायक तो होते ही हैं, साथ...

  • बनाएं पति को अपना दीवाना

    आप चाहती हैं खास टिप्स कि आप का पति आपका दीवाना बना रहे, आपके आगे पीछे घूमे, बस सिर्फ आपको ही चाहे, आपके नाम की माला जपे। आप को थोड़े प्रयत्न करने पड़ेंगे, तभी आप पति के मन में बस पाएंगी व आपके पति आपकी तारीफ दूसरों के समक्ष करने में बिलकुल भी शर्म महसूस नहीं करेंगे। - हो सके तो घर की सभी...

  • कामकाजी अभिभावक-बच्चे क्या सोचते हैं?

    पारिवारिक जीवन में इधर नाटकीय बदलाव आ गया है। पहले स्थिति यह थी कि पिता ऑफिस जाते थे और मां घर बार संभालती थी लेकिन अब तो ज्यादातर परिवारों में माता-पिता दोनों ही नौकरी पर जाते हैं व बच्चे अपना अधिकतम समय माता पिता की गैरहाजिरी में गुजारते हैं। इस तरह के बच्चों के मन में अनेक सवाल उठते होंगे? इन सब...

  • व्यक्तित्व को बनाएं मोहक और आकर्षक

    आकर्षक व्यक्तित्व हर कोई पाना चाहता है। व्यक्तित्व का विकास करने के लिए आपको कठिन श्रम करने की भी आवश्यकता नहीं पड़ती। कई लोगों में यह भी धारणा होती है कि अगर व्यक्ति सुंदर है तभी उसका व्यक्तित्व आकर्षक हो सकता है। सौंदर्य तो प्रकृति प्रदत्त है पर व्यक्तित्व को निखारना व्यक्ति के स्वयं के हाथ में...

  • अच्छी नहीं पति की उपेक्षा

    मरियम की बर्थ-पार्टी में जब जूही काफी देर तक भी न पहुंची तो मैंने फोन करके कारण जानना चाहा। उधर से फोन जूही के पति राजेश ने उठाया। 'हैलो, मैं राजेश बोल रहा हूं।', मैं गीता बोल रही हूं। क्या जीजा जी। आप लोग अभी तक वहीं बैठे हुए हैं। आना नहीं है क्या? 'क्या बताऊं गीता जी, यह जो आपकी सहेली है न...

  • अरेंज्ड मैरिज में आपका फोकस हो लड़के-लड़की की पसंद

    'अरेंज्ड मैरिज' को लड़कियां और लड़के दोनों गंभीरता से लेते हैं क्योंकि 'अरेंज्ड' शब्द उन्हें यह महसूस कराता है कि उनके जीवन का सबसे महत्त्वपूर्ण निर्णय उनके द्वारा नहीं, उनके बड़ों के द्वारा लिया गया है यद्यपि उसमें उन्होंने हामी भरी है। अरेंज्ड मैरिज का अर्थ एक लड़की का एक लड़के से विवाह नहीं...

  • महिलाओं के भी होते हैं विशिष्ट अधिकार

    जैसे-जैसे समाज में स्वतंत्रता और आधुनिकीकरण बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे आदमी और अधिक पाशविक होता जा रहा है उसकी नजर मात्र औरत पर है चाहे वह मासूम, अबोध बच्ची हो या असहाय वृद्धा। आदमी, मां, बहन, चाची, दादी आदि जैसे रिश्तों को भुलाकर उसे सिर्फ एक ही नजर से देखता है और उसे अपनी हवस का शिकार बनाना चाहता...

  • शिशु की देखभाल के लिए कुछ जरूरी टिप्स

    नवजात शिशुओं की देखभाल सही ढंग से करना माताओं के लिए एक समस्या बन जाती है। थोड़ी सी चूक अथवा अज्ञानता के कारण बड़ी मुश्किल का भी सामना करना पड़ सकता है। पहले ऐसा होता था कि घर की बड़ी बूढ़ी महिलाएं इन बच्चों की देखभाल में काफी ध्यान रखती थी लेकिन आधुनिक शहरी परिवेश में जहां परिवार का दायरा काफी...

  • हमारी सुंदरता का सहयोगी - आंवला

    आंवले के गुणों से लगभग सभी लोग परिचित हैं। स्वास्थ्य के साथ आंवला हमारी सुंदरता के लिए भी लाभप्रद है। इसके नियमित सेवन से हमारी त्वचा में कसाव आता है, बालों में चमक आती है और बाल रूसी की समस्या से दूर रहते हैं। आइए जानें सुंदरता बरकरार रखने के लिए इसके गुणों को:- एक्ने के दाग:- आंवले के नियमित...

  • रजोनिवृत्ति के समय जरूरी है उचित आहार व व्यायाम

    मेनोपॉज या रजोनिवृत्ति का समय एक ऐसी अवस्था है जिसका सामना उम्र के साथ हर महिला को करना पड़ता है। यह एक स्त्री के जीवन की वह अवस्था होती है जब उसका मासिक धर्म बंद हो जाता है। रजोनिवृत्ति का यह समय 40-45 वर्ष के बीच आता है। उम्र के इस पड़ाव में स्त्री के शरीर में बहुत से परिवर्तन आते हैं।...

  • ब्यूटी को रखें बरकरार

    ब्यूटीफुल दिखना हर नारी का सपना है। वह सुंदर दिखने के लिए कुछ भी कर सकती है। चेहरे की सर्जरी, बोटोक्स, विटामिन थेरेपी, मेकओवर, ब्यूटी प्राडक्ट्स प्रयोग कर स्वयं को सबसे खूबसूरत महिला का खिताब जीतने का पूरा प्रयास करती है। तो आइए कुछ टिप्स हैं जिन्हें अपना कर हम ब्यूटी बरकरार रख सकते हैं:- -त्वचा...

  • बेटी को दें सुसंस्कारों का दहेज

    बच्चों के जवान होते ही माता-पिता को उनकी शादी-विवाह की चिंताएं घेरने लगती हैं। बेटा हो या बेटी, हर माता-पिता की इच्छा होती है कि विवाहोपरान्त उनके बच्चे खुश रहें और जीवन साथी अच्छा मिले जिससे उनका आगे बढऩे वाला परिवार आदर्श परिवार बन सके। बेटों के विवाह होने पर तो बहू आपके घर आती है। उसे अपने...

Share it
Top