Read latest updates about "लाइफ स्टाइल"

  • दूसरे के घरेलू मामलों में ताक-झांक न करें

    औरत और ईष्र्या एक दूसरे के पर्याय हैं। यह भावना आगे बढऩे में सबसे बड़ी रूकावट है। झूठे अहम् का दंभ और र्ईष्र्यालु स्वभाव एक ऐसी निरर्थकता की संरचना करता है जिसमें ऊब-डूब करती गृहिणी अपने अस्तित्व को व्यक्तिहीन बना लेती है।क्यों नहीं सीख लेती है वे जीने की कला? क्या यह कार्य इतना मुश्किल है? क्या...

  • बोर न होने दें स्वयं को

    कभी-कभी जीवन में ऐसे क्षण आते रहते हैं जब मन उदास सा लगता है। किसी काम को करने की अन्दर से इच्छा नहीं होती। आप अपनी दिनचर्या की पूर्ति में लगे तो रहते हैं पर मज़ा नहीं आ रहा होता। जिन्दगी में उत्साह कम लगता है। घबरायें नहीं। यह तो अस्थाई दौर है जो दो चार दिन में दूर हो जाएगा। आइए कुछ ऐसा करें ताकि...

  • बिजली बचाएं: घर और ऑफिस में

    आजकल घर और आफिस में बिजली की खपत इतनी ज्यादा हो गई है कि इसका बिल जेबों पर भारी पडऩे लगा है। ऐसे में बिजली की कीमतें दिनों दिन बढ़ती जा रही हैं, साथ ही उसके इस्तेमाल के उपकरण भी बढ़ते जा रहे हैं। आज हर कोई यह बिल कम करने को लेकर परेशान है। हमें जरूरत है कुछ कदम उठाने की। अगर हम अपने घर और आफिस में...

  • गर्मियों में पाएं निखरा रंग रूप

    गर्मी हो या सर्दी, हमारी त्वचा को हर मौसम प्रभावित करता है और हर मौसम में त्वचा को विशेष देखभाल की जरूरत होती है। गर्मियों की कड़कती धूप, गर्म हवाएं, पसीना हमारी त्वचा पर बुरा प्रभाव डालते हैं इसलिए हमें गर्मियों में त्वचा की सुरक्षा की तरफ विशेष ध्यान देना चाहिए। सूर्य की किरणें जहां त्वचा को...

  • हमारे धर्मस्थल: शक्ति पीठ माता भीमेश्वरी देवी सरकार

    हरियाणा के जिला झज्जर में प्रसिद्ध बेरी कस्बे में माता भीमेश्वरी देवी शक्तिपीठ राज्य भर में अनूठी पहचान रखता है। इसे लोकप्रिय भाषा शैली में माता बेरी वाली के नाम से जाना जाता है। प्रतिदिन यहां माता के दर्शन करने वालों की भीड़ देखने को मिलती है। नवरात्रों में तो यह भीड़ इतनी अधिक होती है कि पुलिस...

  • ....और बाल्मीकि विश्व के प्रथम कवि बन गये

    पूर्व नाम रत्नाकर था। यद्यपि वे प्रचेता च्यवन ऋषि के वंशधर थे लेकिन दुष्टों की संगति में पड़कर भयंकर दस्यु बन गये थे। वे लोगों की हत्याएँ एवं उन्हें लूट कर के ही अपने परिवार का भरण पोषण करते थे। उनकी इस अति पतित अवस्था एवं आचरण को देख कर सभी दु:खी थे पर किसी का साहस नहीं होता था कि उन्हें सही मार्ग...

  • 23 जून: आज ही भारत के अमर शहीद प्रसिद्ध क्रांतिकारी राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी का जन्म हुआ था

    नयी दिल्ली। भारतीय एवं विश्व इतिहास में 23 जून की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं-1757- प्लासी की लड़ाई में बंगाल के नवाब सिराजुदौला को रॉबर्ट क्लाइव की नेतृत्व वाली ब्रिटिश सेना के हाथों हार का सामना करना पड़ा।1761- पानीपत की तीसरी लड़ाई हारने के बाद मराठा शासक पेशवा बालाजी बाजीराव का निधन।1901-...

  • ताकि सुखमय बना रहे वैवाहिक जीवन

    विवाह से कुछ समय पूर्व हर लड़का लड़की चिंतित होते हैं कि शादी के बाद का जीवन सुखमय होगा या नहीं। सुखमय वैवाहिक जीवन सभी को भाता है, पर अलग वातावरण, अलग परिवार से आए दोनों पति पत्नी जब एक साथ मिलते हैं तो प्रारंभ में थोड़ी कठिनाई तो आती है क्योंकि सभी का खान-पान, रहन-सहन, व्यवहार, भाषा, बात...

  • लंबे बाल-मांगते हैं देखभाल

    लंबे बाल स्त्री की शोभा बढ़ाते हैं और आकर्षण का केन्द्र होते हैं परन्तु लंबे बालों की देखरेख करना कुछ मुश्किल होता है। उनके लिए विशेष देखभाल की जरूरत होती है। उसके मुकाबले में छोटे बालों की देखरेख आसान होती है।लम्बे बालों में दो मुंहे बाल अधिक और शीघ्र हो जाते हैं। उनको समय समय पर ट्रिम कराते रहने...

  • जन्मदिन पर मोमबत्ती न बुझाएं, दीपक जलाएं

    एक समय ऐसा भी था जब भारतवर्ष की संस्कृति और ज्ञान का परचम सारे विश्व में लहरा रहा था किंतु आज हम स्वयं अपने संस्कारों को भूलते जा रहे हैं और 21वीं सदी के हमारे सोने की चिडिय़ा कहलाने वाले देश की तस्वीर कैसी होगी, यह अभी भविष्य के कैमरे में कैद है। हमारी सांस्कृतिक परंपराएं व आदर्श जग-जाहिर रहे हैं...

  • चिकित्सा भी करती हैं पुस्तकें

    कहने-सुनने में तो यह विचित्र-सा ही लगता है कि पुस्तक पढऩा अथवा कि़स्से कहानी सुनना उपचार की एक विधि हो सकती है लेकिन यह सच है। आपने दिल्ली के प्रसिद्ध सूफ़ी संत हजऱत निज़ामुद्दीन औलिया का नाम अवश्य सुना होगा। हिंदी-उर्दू के प्रसिद्ध कवि अमीर ख़ुसरो उनके प्रिय शिष्य थे।एक बार हजऱत निज़ामुद्दीन साहिब...

  • नेत्र ज्योति की संभाल

    - सिर व मस्तक पर रोज तेल लगाने से नेत्रों को लाभ मिलता है।- दिन में जितनी बार पानी पीना, उतनी बार नेत्रों पर ठण्डे जल के छपके देने से नेत्रों की ज्योति ठीक रहती है।- हरी चीजें देखने से नेत्रों का तेज बढ़ता है।- पैरों को धोकर साफ रखना और पैरों में तेल की मालिश करने से नेत्रों को लाभ होता है।- भोजन...

Share it
Share it
Share it
Top