पर्यावरण बचाने हेतु बदलें अपना लाइफ स्टाइल

पर्यावरण बचाने हेतु बदलें अपना लाइफ स्टाइल

प्रकृति ने हमें इतना कुछ दिया है पर अगर हम इसका प्रयोग अंधाधुंध करेंगे तो प्रकृति हमारा साथ कब तक देगी। धीरे-धीरे भंडार भी कम होते जाएंगे और अगली आने वाली पीढ़ी को इसका नुकसान भुगतना पड़ेगा।

हमें बचपन से ही बच्चों को सिखाना चाहिए कि प्रकृति ने हमें इतना कुछ दिया है अत: हमें प्रकृति के प्रति अपने दिल में एक सॉफ्ट कार्नर रखना चाहिए और उसके द्वारा प्रदत्त चीजों को सोच समझ कर प्रयोग करना चाहिए ताकि उनका लाभ हम अधिक से अधिक समय तक उठा सकें। आइए जानते हैं कि हम कैसे पर्यावरण को सुरक्षित रखने हेतु अपना योगदान दे सकते हैं।

बिजली बचा कर करें पर्यावरण का ध्यान:- आप सभी जानते हैं कि बिजली बनाने में पर्यावरण का नुकसान होता है अगर हम बिजली का प्रयोग समझदारी से करें तो पर्यावरण बचाने में अपना सहयोग दे सकते हैं। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

- बिना जरूरत के लाइट, पंखे, खुले न छोड़ें क्योंकि बिजली की बर्बादी होती है।

- जिन बिजली के उपकरणों का हम प्रयोग नहीं कर रहे तो उनके प्लग निकाल दें। बिजली की बचत होगी।

- साधारण ब्लब और टयूब का प्रयोग न कर एलईडी इस्तेमाल करें। इससे आप बिजली बचा सकते हैं।

- पूरी रात एसी न चलाएं। कुछ घंटे एसी चलाकर कमरा ठंडा कर लें। उसके बाद पंखा कमरे को काफी घंटे तक ठंडा रखता है।

- एसी का तापमान अधिक ठंडा न रखें कि कंबल ओढ़ कर सोना पड़े। तापमान इतना रखें कि बिना कुछ ओढ़े सोएं।

- बिजली के उपकरण खरीदते समय उसकी स्टार रेटिंग पर ध्यान दें। जितने अधिक स्टार अर्थात उतनी कम बिजली खर्च होगी।

- माइक्रोवेव प्रयोग करते समय बार-बार न खोलें। बिजली अधिक खर्च होगी।

- बचे हुए खाने को ठंडा कर फ्रिज में रखें। गर्म खाना रखने से बिजली की खपत बढ़ेगी। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

घर में रखें पर्यावरण का ख्याल:-

- मार्केट से खरीदारी करते समय घर से जूट बैग या कपड़े का बैग लेकर जाएं। पालिथिन प्रकृति के लिए जहर है।

- पेपर नेपकिन का इस्तेमाल न कर कपड़े के नेपकिन का इस्तेमाल करें क्योंकि पेपर बनाने हेतु पेड़ों को काटना पड़ता है।

- पुरानी किताबों को रद्दी में न बेचें। उन्हें लाइब्रेरी में दे दें ताकि उन किताबों का लाभ अन्य उठा सकें और नई किताबों की जरुरत भी कम होगी। इससे पेड़ों को बचाया जा सकता है।

- बाजार से आए प्लास्टिक के डिब्बों में खाद्य पदार्थ प्रयोग करने के बाद उन्हें धोकर उनमें छोटा सामान फ्रिज में रख सकते हैं या अपने संबंधी को कुछ खाद्य सामग्री देते समय उनका प्रयोग कर सकते हैं। इससे उन्हें बाहर फेंकने से प्रदूषण भी नहीं फैलेगा।

- सूखे और गीले कूड़े को अलग डस्टबिन में डालें ताकि उनमें सडऩ पैदा न हो और उससे खाद भी बनाई जा सकती है।

- पार्टी में डिस्पोजेबल प्लेटस के स्थान पर पत्तलों का प्रयोग करें। प्रकृति का बचाव होगा।

- प्लास्टिक की क्रॉकरी के स्थान पर कांच की कॉकरी प्रयोग में लाएं।

घर से बाहर रखें ध्यान एन्वायरनमेंट का:-

- पेट्रोल और डीजल वातावरण को प्रदूषित करते हैं। इससे पर्यावरण को बहुत नुकसान होता है। पब्लिक ट्रांसपोर्ट का प्रयोग अधिक से अधिक करें ताकि आपकी गाड़ी का धुआं पर्यावरण को खराब करने में मदद न करें।

- रेड लाइट पर गाड़ी बंद कर दें। इससे पर्यावरण को धुआं कम मिलेगा और डीजल पेट्रोल की बचत भी होगी।

- गाडिय़ों का पॉल्यूशन चेक समय समय पर कराते रहें और रेग्यूलर सर्विस भी कराएं।

- गाड़ी की एवरेज बढ़ाने के लिए गाड़ी को अधिक तेज या धीरे न चलाएं। रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

- थोड़ी दूरी के लिए गाड़ी का प्रयोग न कर पैदल, रिक्शा, स्कूटर, ऑटो पर जा सकते हैं।

- गाड़ी पूल कर ऑफिस जाने से धन की बचत होगी और साथ में पेट्रोल की भी बचत होगी।

पानी बचाकर भी पर्यावरण को सुरक्षित रखा जा सकता है:-

- नहाने की आदत में सुधार लाएं। शावर के स्थान पर बाल्टी मग का प्रयोग करें। पानी की बचत होगी।

- नलों से पानी लीक हो रहा हो तो नल ठीक करवाएं ताकि पानी का बचाव हो सके।

- गाड़ी को धोते समय बाल्टी में पानी लें। पाइप से न धोएं।

- इसी प्रकार पौधों में पानी पाइप से न डालकर मग या फव्वारे वाले डिब्बे से डालें।

- टॉयलेट में नए वाटर सेवर लगवाएं।

- वर्षा का पानी बर्बाद न हो, इसीलिए घर में रेन वॉटर हार्वेस्टिंग लगवाएं।

- नीतू गुप्ता

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top