संतकबीर नगर- सांसद शरद त्रिपाठी से पिटने के बाद विधायक ने कहा, हिसाब बराबर होगा, धैर्य रखें

संतकबीर नगर- सांसद शरद त्रिपाठी से पिटने के बाद विधायक ने कहा, हिसाब बराबर होगा, धैर्य रखें


संतकबीर नगर। बुधवार की देर शाम सांसद शरद त्रिपाठी द्वारा मेहदावल विधायक राकेश सिंह बघेल को जूते से पीटने की घटना के बाद विधायक राकेश बघेल समर्थकों के साथ कलेक्ट्रेट में धरने पर पूरी रात बैठे रहे। विधायक लाठीचार्ज के दोषियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। जिलाधिकारी रवीश गुप्त ने सुबह 9 बजे विधायक को मनाने की कोशिश किया लेकिन विधायक कार्रवाई की मांग पर अडिग रहे। विधायक को मनाने के लिए डीआईजी कमिश्नर ने भी दो बार विधायक से वार्ता किया लेकिन फिर भी विधायक टस से मस नहीं हुए। विधायक के धरने की खबर सुनकर रात से ही समर्थकों का हुजूम कलेक्ट्रेट पर जमा हो गया। पुलिस प्रशासन किसी भी स्थिति से निपटने के लिए भारी संख्या में पुलिस फोर्स मौके पर तैनात किया हुआ है। पूरे मामले को प्रशासन द्वारा शासन को भी अवगत कराया जा रहा है। सीएम योगी आदित्‍यनाथ से फोन पर वार्ता होने के बाद विधायक माने और समर्थकों के साथ धरना समाप्‍त किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का फोन जिलाधिकारी के पास आया उसके बाद वह फौरन धरनास्थल पर विधायक से मुख्यमंत्री की वार्ता कराने के लिए मौके पर पहुंचे। डीएम ने विधायक को अपने चेंबर में ले जाकर मुख्यमंत्री से वार्ता कराई। इसके बाद विधायक ने धरना समाप्‍त किया।

बुधवार को संतकबीर जिले के प्रभारी मंत्री और प्राविधिक एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन उर्फ गोपाल जी की अध्यक्षता में चल रही योजना समिति की बैठक में भाजपा सांसद शरद त्रिपाठी व भाजपा के ही विधायक राकेश सिंह बघेल के बीच जमकर जूतमपैजार हुई थी। अधिकारियों ने बीच बचाव कर किसी तरह मामला तो शांत कराया पर विधायक के समर्थकों ने कलेक्ट्रेट में जमकर नारेबाजी की। इस बीच सांसद करीब तीन घंटे तक कमरे में बैठे रहे।

दरअसल, बैठक में सांसद शरद त्रिपाठी ने बैठक के दौरान पीडब्ल्यूडी प्रांतीय खंड के एक्सईएन एके दूबे से पूछा कि करमैनी-बेलौली बंधे के मरम्मत कार्य का शिलान्यास कल हुआ है। इसमें केवल विधायक का ही नाम क्यों है। क्या सांसद का नाम नहीं रह सकता। यह किस गाइडलाइन में है, मुझे बताएं। इस पर एक्सईएन ने कहाकि गलती हो गई, सुधार कर दिया जाएगा। इसी बीच मेहदावल के विधायक राकेश ङ्क्षसह बघेल ने बोल पड़े और कहाकि जो पूछना है मुझसे पूछे एक्सईएन से नहीं। इस पर सांसद ने कहाकि तुम्हारे जैसे तमाम विधायक मैंने देखे हैं। तुमसे क्या पूछना। इसी पर बात बढ़ती गई और देखते ही देखते कलेक्ट्रेट सभागार जंग का मैदान बन गया।

विधायक राकेश सिंह बघेल ने धरना समाप्‍त करने के बाद अपने फेसबुक पर लिखा कि सभी समर्थकों से निवेदन है कि धैर्य रखें, हिसाब बराबर होगा। इसके बाद राजनीतिक हलके में इसे लेकर तरह तरह की चर्चा होने लगी। लोग फेसबुक पोस्ट पर भी सांसद के खिलाफ प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे है। बाहर भी इस घटना की प्रतिकिया हो रही है। कुछ लोग फेसबुक पर कमेंट कर रहे हैं।

इस घटना को लेकर सपा नेता जयराम पाण्‍डेय लिखते हैं – इस कुकृत्‍य घटना की मैं कड़ी निन्‍दा करता हूं, मेरे जनपद का दुर्भाय है कि सूफी संत कबीर की नगरी को शर्मसार किया जा रहा है। .... इस घटना में तीसरा व्‍यक्ति दोषी है, कार्यवाही होनी चाहिए। आम जन की तरफ से विवेक पाण्‍डेय लिखते हैं कि ये लड़ नहीं रहे थे बल्कि भारत पाकिस्‍तान के युद्ध का अभ्‍यास कर रहे थे। शम्‍भू नाथ तिवारी 11.20 बजे अपनी पोस्‍ट में लिखते हैं कि – संतकबीरनगर की घटना में कुछ लोग जातिवादी जहर घोलना चाहते हैं।

Share it
Top