Read latest updates about "लाइफ स्टाइल" - Page 2

  • उच्च रक्तचाप से बच कर रहें

    अनियमित खान पान, रहन सहन, तनाव तथा शारीरिक श्रम बिलकुल नहीं करने से उच्च रक्तचाप रोगियों की मात्र काफी तेजी से बढ़ रही है। वैसे तो उच्च रक्तचाप अब आम बीमारी बनती जा रही है। बड़ी उम्र के साथ-साथ अब बच्चों में भी उच्च रक्तचाप पाया जाने लगा है। उच्च रक्तचाप की गिरफ्त में एक बार आने से उसमें से निकलना...

  • दिल खोलकर करें मन की बात

    रमा की परीक्षाएं समाप्त हो चुकी थीं। आजकल वह अपने पापा के साथ उनके क्लीनिक पर चली जाती है। उसने अपने पापा में एक खास बात देखी, फिर रात को डाइनिंग टेबल पर पूछा, पापा, आप मरीजों से पूरा ब्यौरा क्यों लेते हैं। आप बोर नहीं होते।' नहीं, यह तो मेरा अपना अंदाज है। मरीज जब अपना दुख बयान करता है तो उसका मन...

  • पर्व विशेष: होली: भारतीय प्रदेशों की बहुरंगी अलबेली होली

    शीतल सुगंध से बौराया पवन मंद-मंद बहने लगा है। सारी सृष्टि पुलकित होकर नये उल्लास, नई उमंग और उत्साह से झूम रही है। नगर में, गांव-गांव में डगर-डगर पर मस्ती की धूम मचाता हुआ रंगों की पिचकारी लिए अलबेला फागुन निकल पड़ा है आज होली खेलने। अत्यंत ही मधुर और प्रेम-सौहार्द की भावनाओं का प्रतीक है होली।...

  • होली खेलें, पर खून की नहीं

    होली सिर्फ रंगों का त्योहार ही नहीं बल्कि हमारी एकता और अखंडता का प्रतीक भी माना जाता है। जिस तरह होली में सभी रंग हरे, नीले, पीले इत्यादि मन को भाते हैं। किसी का महत्त्व कम नहीं दिखता, एक रंग से होली खेलने का मजा अधूरा होता है। उसी प्रकार इस दिन हम अपने सभी आपसी भेदभाव जातपात मिटाकर एक दूसरे पर...

  • रंगों का प्रभाव

    - सफेद रंग हल्केपन एवं शीतलता का आभास देता है। - पीला रंग उत्फुल्लता, हल्केपन खुलेपन और गरमाहट का आभास देता है; नब्ज की रफ्तार तेज करता है परंतु आक्रामक प्रतिक्रिया भी पैदा कर सकता है। - बैंगनी रंग थकान और भारीपन का भ्रम उत्पन्न कर थकान, बोरियत या बोझ की अनुभूति करता है। - गहरा नीला रंग मस्तिष्क...

  • होली विशेष: अंधविश्वास के चक्रव्यूह में घिरा समाज

    विज्ञान ने इंसान को धर्म के नाम पर स्थापित ऐसी कई प्रथाओं व अंधविश्वासों से छुटकारा दिलाने का काम किया है जिन्हें समाज के परंपरावादी लोग तर्कहीन ढंग से मानते आ रहे थे। इनमें कुछ अंधविश्वास तो बर्बरता एवं उन्माद का परिचय देते हैं। सदियों से बेटे की इच्छा में ढोंगी तांत्रिकों, बाबाओं के कहने पर...

  • 21 मार्च:आज ही के दिन प्रख्यात शहनाई वादक बिसमिल्लाह खान का बिहार के डुमरांव में जन्म हुआ था

    नयी दिल्ली । भारतीय एवं विश्व इतिहास में 21 मार्च की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं:1413 – हेनरी पंचम इंग्लैंड के राजा बने। 1791 – अंग्रेजों की सेना ने टीपू सुल्तान को पराजित कर तत्कालीन बैंगलोर अब बेंगलुरु पर कब्जा किया। 1804 – नेपोलियन ने फ्रांस की नागरिक संहिता को अपनाया। 1836 – कलकत्ता (अब...

  • मोबाइल पर फिल्म देखना सेहत के लिए खतरा

    23 साल का श्रेयांश आईपीएल-11 के सारे मैच अपने मोबाइल पर ही देख रहा है। श्रेयांश का कहना है कि टीवी के मुकाबले मोबाइल पर मैच देखना आसान है। मैं कहीं भी बैठकर और कभी भी मैच देख सकता हूं। फिर मेरे पास सिर्फ हाईलाइट्स देखने का विकल्प भी है। श्रेयांश उन करोड़ों युवाओं में से है जो अपने पसंदीदा...

  • होली विशेषः लोक कथाओं में होली

    कहते हैं कि जब फाल्गुन के पूर्णिमा को होली का त्योहार अपने साथ हजारों रंग समेटे दस्तक देता है तो हम जिन्दगी के तमाम गम,द्वेष और परस्पर वैमनस्य भूल कर एक दूसरे से गले लग जाते है। सच है कि होली पर सारी कायनात इंद्रधनुष सी सतरंगी हो जाती है और हम सब उत्साह और उमंग से सराबोर हो जाते हैं।किसी शायर ने...

  • दूध से करें स्वास्थ्य व सौंदर्य रक्षा

    - यदि रात में नींद कम अथवा बिलकुल नहीं आती तो भैंस का ताजा दूध रात में सोने के पूर्व पिएं। दूध जितना गाढ़ा होगा, नींद उतनी गहरी आएंगी। - आंखों में जलन होने पर रात के समय सोने से पूर्व दूध की मलाई पलकों पर लगाएं। सुबह तक जलन समाप्त हो जाएंगी। - कभी-कभी महिलाओं के होंठों के ऊपर मूंछें दिखाई देती...

  • होली-विकृतियों से उबारें

    अधर्म पर धर्म की, अनीति पर नीति की, हिंसा पर अहिंसा की, अनाचार पर सदाचार की कीर्ति पताका फहराने वाला यह त्यौहार प्रेम, उल्लास व उमंग क स्रोत है। यह इन्द्रधनुषी रंगीन त्यौहार आगत और अनागत वर्ष का सशक्त और महत्त्वपूर्ण त्यौहार है। प्रेम, सद्भाव, मिलन, आलिंगन का मदमस्त पर्व है होली। प्राचीन काल में...

  • कब्ज को दूर रखते हैं सुपरफूड्स

    कब्ज एक आम समस्या है जो अधिकतर हमारे लाइफस्टाइल से जुड़ी होनी है। अधिकांश बीमारियां भी हमारे पेट से जुड़ी होती हैं, इस लिए पेट का स्वस्थ रहना आवश्यक है। कब्ज वाले लोगों की पाचन क्रिया ठीक न होने के कारण पेट में पड़े पड़े मल सख्त हो जाता है और पेट अच्छी तरह से साफ नहीं होता जिससे गैेस, बदहजमी व...

Share it
Top