Read latest updates about "धर्म-दर्शन" - Page 1

  • पर्यटन: तिरूपति में बालाजी

    दक्षिण भारत का सबसे प्रसिद्ध तीर्थ स्थल तिरूपति अब पूरे भारत में लोकप्रिय है। यहां श्री वेंकटेश्वर स्वामीजी का भव्य मंदिर है। तिरूपति नगर में स्थित यह मंदिर बालाजी के नाम से मशहूर है। आंध्रप्रदेश में यह शहर राजधानी हैदराबाद से करीब सात सौ किलोमीटर दूर है। रेल या सड़क मार्ग से तिरूपति पहुंचने के...

  • धनतेरस पर क्या खरीदें और क्या दान करें..?

    धनतेरस को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता हैं। धनतेरस दीपावली पर्व से ठीक दो दिन पूर्व, कार्तिक मास की कॄष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन मनाया जाता हैं। एक पौराणिक मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान धंवंतरी का जन्म हुआ था। भगवान धन्वंतरी को आयुर्वेद विद्या के जनक माने जाते हैं। पृथ्वी लोक पर आयुर्वेद का...

  • शिक्षा का चयन - ज्योतिष के चश्में से

    उत्तम शिक्षा ही एक सभ्य, सुसंस्कृत एवं जिम्मेदार नागरिक बनाने का कार्य करती हैं। आर्थिक प्रतिस्पर्धा के इस युग में शैक्षिक क्षेत्र में उचित विषय चयन कर अच्छे परिणाम प्राप्त किये जा सकते हैं। कोई व्यक्ति कितनी शिक्षा प्राप्त करेगा या उसका पढाई के प्रति क्या रूझान हैं यह जन्म पत्रिका के माध्यम से...

  • आईये मिलकर ज्योतिष विद्या के वृक्ष को संरक्षण दें

    आईये मिलकर ज्योतिष विद्या के वृक्ष को संरक्षण दें आज शिक्षा के सभी क्षेत्रों में नई पीढ़ी के लाखों व्यक्ति हरेक स्तर पर देश व विदेश में पढ़ व शोध कर रहे हैं। लेकिन ज्योतिष 17वीं शताब्दी में जहां रुका था, आज भी वहीं रुका है, जबकि हमारे देश में ज्योतिष से अच्छी रिसर्च की परम्परा किसी शास्त्र के पास...

  • धर्म संस्कृति: सेवक के साथ-साथ सुत भी कहलाये हनुमान जी

    हनुमान! भक्ति का, सेवक का, एक ऐसा मील का पत्थर हैं कि जिससे भक्त और सेवक प्रेरणा ले सकते हैं। सेवक होने के साथ-साथ हनुमान प्रभु श्रीराम व माता जानकी के सुत भी कहलाये। यूं तो हम सभी ईश्वर के पुत्र हैं लेकिन न तो सेवक हैं और न ही भक्त जैसे हनुमान थे। तिस पर स्वयं भगवान 'सुत' कह कर बुलाएं, यह गौरव का...

  • दिग्विजयी बने परशुराम!

    यह बात त्रेता युग के प्रारंभकाल की है। सरस्वती नदी के तट पर महर्षि जमदग्नि अपनी प्रिय पत्नी रेणुका के साथ आश्रम में सुविधापूर्वक निवास करते थे। इसी आश्रम में 'परशुराम' ने जन्म लिया था। उन दिनों विश्वविख्यात राजा सहस्त्रबाहु अपनी शक्ति को अर्जित कर...

  • महागौरी-8

    श्वेते वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बरधरा शुचि:। महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा।। मां दुर्गा जी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। इनका वर्ण पूर्णत: गौर है। इस गौरता की उपमा शंक, चन्द्र और कुन्द के फूल से दी गई है। इनकी आयु आठ वर्ष की मानी गई है। 'अष्टवर्षा भवेद् गौरी'। इनके समस्त वस्त्र एवं आभूषण...

  • कालरात्रि-7

    एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता। लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।। वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा। वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी।। मां दुर्गा जी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। इनके शरीर का रंग घने अंधकार की तरह एकदम काला है। सिर के बाल बिखरे हुए हैं।...

  • कात्यायनी-6

    चन्द्रहासोज्जवलकरा शार्दूलवरवाहना।। कात्यायनी शुभं दद्यादेवी दानवघातिनी।। मां दुर्गा के छठवें स्वरूप का नाम कात्यायनी है। इनका कात्यायनी नाम पडने की कथा इस प्रकार है- कत नामक एक प्रसिद्ध महर्षि थे। उनके पुत्र ट्टषि कात्य हुए। इन्हीं कात्य के गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन उत्पन्न...

  • हिन्दू धर्म ही नहीं मानव जाति में गौ का माहात्म्य अद्भुत

    गाय की पवित्रता, हिंदू धर्म में, यह विश्वास है कि गाय दिव्य और प्राकृतिक लाभ का प्रतिनिधि है और इसलिए उसे संरक्षित और वंदित किया जाना चाहिए। गाय को विभिन्न देवताओं से भी जोड़ा गया है, विशेष रूप से शिव, जिनका नंदी एक बैल है, इंद्र कामधेनु के साथ निकटता से, इच्छा पूर्ण करने वाली गाय, कृष्ण गौ सेवक...

  • स्कन्दमाता-5

    सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया। शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी।। मां दुर्गा जी के पांचवें स्वरूप को स्कन्द माता के नाम से जाना जाता है। ये भगवान स्कन्द 'कुमार कात्तिकेय नाम से भी जाने जाते हैं। ये प्रसिद्ध देवासुर-संग्राम में देवताओं के सेेनापति बने थे। पुराणों में इन्हें कुमार...

  • माता दुर्गा को पुकारें 108 नामों से - देवी करेंगी सभी मनोकामना पूर्ण

    देवी दुर्गा महाशक्ति की दिव्य शक्ति स्वरुपा हैं। दुर्गा साहस, शक्ति, नैतिकता और सुरक्षा का प्रतिनिधित्व करती है। वह पाप और बुराई का नाश करने वाली और नैतिकता की रक्षक है। देवी दुर्गा देवी शक्ति का एक रूप हैं। दुर्गा महा लक्ष्मी, महा सरस्वती और महा काली की शक्ति, सुंदरता और बुद्धिमत्ता का संगम है।...

Share it
Top