Read latest updates about "अनमोल वचन" - Page 2

  • अनमोल वचन

    जीवन में लिये गये सही फैसले हमारे भाग्य को निखारते हैं, वहीं गलत फैसले और निर्णयों के कारण हमारा भाग्य अन्धकार के गर्त में चला जाता है। हम सभी के जीवन में निर्णय लेना एक क्षण का कार्य होता है, परन्तु इसका परिणाम दीर्घकालिक, जीवन की दिशा तथा दशा परिवर्तित करने वाला होता है। सही फैसला लेकर न केवल...

  • अनमोल वचन

    हम सभी के जीवन में ऐसे पल आते हैं, जिनमें हम द्वंद की स्थिति में होते हैं, निर्णय लेने में असमंजस की स्थिति में होते हैं और इस अनिर्णय की स्थिति के कारण हम वह अमूल्य समय व्यर्थ कर देते हैं, जिस पर कदम रखकर हम न जाने कहां से कहां पहुंच सकते थे। कुछ विशेष कर सकते थे, द्वंद की स्थिति में रहने वाले...

  • अनमोल वचन

    'सादा जीवन और उच्च विचार। इस वाक्य को दूसरे शब्दों में भी कहा जा सकता है कि सादगी में ही महानता छिपी होती है। सादा जीवन जीने वाले व्यक्तियों का रहन-सहन भले ही सामान्य दिखता हो, परन्तु उनके कार्य विशेष होते हैं। जो व्यक्ति अपने रहन-सहन और पहनावे में सादगी नहीं अपनाते, हर पल दूसरों को अपनी ओर आकर्षित...

  • अनमोल वचन

    जब आदमी जीवन में संघर्ष करता है, तभी उसे अपने बल और सामथ्र्य का पता चलता है। संघर्ष करने से वह कम नहीं होता, बल्कि बढता जाता है। संघर्ष करने से ही आगे बढने का हौंसला मिलता है, जिससे हम अपनी मंजिल को हासिल कर लेते हैं। जीवन को एवरेस्ट की चढाई से कम न समझो। जब एवरेस्ट जैसी मंजिल हो और उस तक पहुंचने...

  • अनमोल वचन

    जीवन में आसानी से मिलने वाली सफलता से उत्पन्न सुख वास्तव में व्यक्ति को उतना सुखी और प्रसन्न नहीं करता, जितना कठिन संघर्षों के बाद मिलने वाली सफलता करती है। वही जीवन सार्थक है, जो भरे पूरे संघर्ष का प्रतिफल हो। गौतमबुद्ध ने दुख के निवारण के लिये वर्षों तय किया, संघर्ष किया और इसके बाद यह सूत्र दिया...

  • अनमोल वचन

    मिलें यदि क्रियाशील हैं, चालू हैं तो मशीनों के पुर्जे भी क्रियाशील रहते हैं, मशीनें अच्छे से कार्य करती हैं और यदि किसी मशीन को बंद करके लम्बे समय तक यौं ही रख दिया जाये तो उसके पुर्जे जाम हो जाते हैं, चलने में आवाज करते हैं और आसानी से न चलकर जोर लगाने पडते हैं, तभी चल पाते हैं। ठीक इसी प्रकार...

  • अनमोल वचन

    संघर्ष ही जीवन है। वास्तव में जीवन संघर्ष का ही दूसरा नाम है। इस सृष्टि में छोटे से छोटे प्राणी से लेकर बडे से बडे प्राणी तक सभी किसी न किसी रूप में संघर्षरत हैं। जिसने संघर्ष करना छोड दिया, वह मृतप्राय: हो गया। जीवन में संघर्ष है प्रकृति के साथ, स्वयं के साथ, परिस्थितियों के साथ। तरह-तरह के...

  • अनमोल वचन

    तिलक, गले में कंठी माला, विशेष प्रकार के वस्त्र, नमाजी टोपी धारण कर कोई भी धार्मिक होने का ढोंग कर सकता है, पर धार्मिक हो नहीं जाता। धर्म तो औरों के लिए स्वयं को मिटा देने का नाम है। धर्म का सच्चा प्रतीक एक दीपक है, जो स्वयं को तिल-तिल जलाकर अंत तक प्रकाश की किरणें बिखेरता है। वह स्वयं जल जाता है,...

  • अनमोल वचन

    धर्म होगा तो साहस होगा, साहस होगा तो प्रस्तुत चुनौतियों से डटकर मुकाबला होगा। प्राणपण से उनका सामना किया जायेगा। साहस होगा तो धर्म से कभी भी कदम वापिस नहीं खींचे जा सकेंगे, चाहे इसके लिए कैसी भी और कितनी भी कीमत चुकानी पडे। जो डरपोक होते हैं, कायर होते हैं, पल-पल घबरा उठते हैं, वे कभी भी धर्म के...

  • अनमोल वचन

    अपनी सार्मथ्य और सम्पदा का उपयोग और उपभोग तो सभी करते हैं। अपने सुख को प्राथमिकता देना भी सामान्य बात है। स्वयं के लिए तो सभी जीते हैं, परन्तु ये सभी मापदंड और मानदंड ईश्वर के श्रेष्ठ पुरूष के लिए सही नहीं ठहराये जा सकते। ऐसी प्रवृत्ति और प्रकृति तो मानव से इतर अन्य प्राणियों में भी पाई जाती है फिर...

  • अनमोल वचन

    स्वार्थ और अहंकार से मुक्त होकर दूसरों के लिए जो कष्ट उठाया जाता है, वही सच्चा धर्म है। दूसरों के लिए, राष्ट्र के लिए, विश्व के लिए, स्वयं का उत्सर्ग ही धर्म है। परहित अर्थात दूसरों की भलाई के लिए, खुशी के लिए, दूसरों की पीडा मिटाने के लिए, स्वयं का उत्सर्ग कर देना ही धर्म है। यह प्रक्रिया कुछ...

  • अनमोल वचन

    आज का इन्सान दुनियादारी में इतना उलझ गया है कि उसके पास अपने लिये समय ही नहीं है। हम केवल एक अंतहीन अंधी दौड का हिस्सा बनकर रह गये हैं। ऐसी दौड जिसकी न कोई दिशा है, न ही कोई उद्देश्य। यह दौड है आधुनिकता की, इच्छाओं की, प्रलोभनों की, सबसे आगे बढने की, जबकि आज आवश्यकता है हमें इस दौड से बाहर निकलकर...

Share it
Top