हंदवाड़ा मुठभेड़ में शहीद पिता विनोद को नौ साल के बेटे ने दी मुखाग्नि

हंदवाड़ा मुठभेड़ में शहीद पिता विनोद को नौ साल के बेटे ने दी मुखाग्नि



गाजियाबाद। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ के दौरान वीरगति को प्राप्त हुए शहीद विनोद चौधरी को पतला कस्बे के इंटर कॉलेज में हजारों लोगों ने नाम आंखों से अंतिम विदाई दी। शहीद विनोद के नौ वर्षीय पुत्र अंश ने उनकी चिता को मुखाग्नि दी। इस दौरान भारत माता की जय, सपूत विनोद अमर रहे का उद्धघोष होता रहा।

गाजियाबाद के पतला निवासी 35 वर्षीय विनोद कुमार सीआरपीएफ की 92 बटालियन में तैनात थे। वह कश्मीर के कुपवाड़ा में तैनात थे। विनोद कुमार के शहीद होने की सूचना मिलने पर परिवार में कोहराम मच गया। पिछले एक माह में इस क्षेत्र के दो जवान आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहीद हो चुके हैं। शहीद विनोद कुमार अपने पीछे पत्नी नीतू, पुत्र अंश (9) व पुत्री एलिस उर्फ अनवी (6) को छोड़कर गए हैं। इनके अलावा परिवार में तीन भाई राजेंद्र, जोगेंद्र व पप्पू के अलावा बहन कुसुम व राजवती हैं। विनोद कुमार जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में शुक्रवार को आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए सीआरपीएफ के इंस्पेक्टर सहित चार जवानों में से एक थे। इस मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार गिराया गया था।

रविवार को सुबह करीब साढ़े दस बजे जब सेना की गाड़ी में विनोद का पार्थिव शरीर मुरादनगर गंग नहर पहुंचा तो हजारों की संख्या में लोग एकत्र हो गए और वहां से पार्थिव शरीर को उनके पतला कस्बा स्थित उनके पैतृक निवास पर ले जाया गया। उस समय वहां मौजूद हर शख्स की आंखों में आंसू और पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा था। केंद्रीय राज्य मंत्री व स्थानीय सांसद सत्यपाल सिंह, राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह, प्रदेश के राज्य मंत्री अतुल गर्ग, मोदीनगर भाजपा विधायक डॉ. मंजू शिवाच, सपा नेता अतुल प्रधान समेत तमाम लोग अपने लाल को अंतिम विदाई देने के लिए एकत्र हो हुए। सभी ने शहीद विनोद को श्रद्धांजलि अर्पित की।


Share it
Top