प्रधानमंत्री आवास योजना में बागपत में लाखों की बंदरबाट, अपात्रों को दे दिये लाखों रूपये

प्रधानमंत्री आवास योजना में बागपत में लाखों की बंदरबाट, अपात्रों को दे दिये लाखों रूपये


बागपत। बागपत में प्रधानमंत्री योजनाओं को चुना लगाकर लाखों की कमाई की जा रही है। जांच के नाम पर उगाही और फिर चहेते को लाभार्थी बना दिया गया, और जब लाभार्थियों की सूची विभाग से मांगी गयी तो गोपनीय कागज बताकर विभाग ने जानकारी देना भी उचित नहीं समझा, इसकी शिकायत जब लखनऊ पहुंची तो जांच के आदेश जारी कर दिये गये हैं। जिसके बाद विभागीय अधिकारियों में हडकंप मचा हुआ है।

गौरतलब है कि जनपद के बागपत, अग्रवाल मंडी टटीरी, बड़ौत, खेकड़ा, अमीनगर सराय, छपरौली, टीकरी और दोघट कस्बों में 3761 गरीब चयनित हैं। इनमें से 1683 गरीबों को मदद दी जा चुकी है। बाकी को रकम देना बाकी है। प्रति लभार्थी ढाई लाख रुपये दिए जाते हैं।

सरकार की मंशा है कि कोई भी परिवार प्रधानमंत्री आवासीय योजना के तहत आवासहीन न रहे, लेकिन गरीबों को मिल रही सुविधा में तंत्र भी चांदी काट रहा है। लेकिन अधिकारियों को इस तरह लापरवाही अब भारी पड़ने वाली है। क्योंकि मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को पहुंची शिकायतों के बाद राज्य नगरीय विकास अभिकरण के निदेशक उमेश प्रताप सिह ने बागपत समेत सात जिलों के लिए जांच को टीम गठित की हैं।

निदेशक ने डूडा परियोजना अधिकारी को भेजे पत्र में बागपत और मुजफ्फरनगर के लिए सूडा के जेई एलके दीक्षित समेत तीन अधिकारियों की कमेटी गठित कर 23 से 25 जनवरी तक जांच करने का आदेश दिया है। जिसकी सूचना मिलते ही विभाग में हडकंप मच गया है और विभागीय कर्मचारी और अधिकारी अपने काम को दुरूस्त करने में जुटे हैं अब देखने वाली बात यह होगी की अपनी करनी को छुपाने के लिए जांच टीम के सामने विभाग कौन से गुल खिलाएगा।


Share it
Top