'बेटी दिवस' के अवसर पर मुजफ्फरनगर में सामने आई रौंगटे खडे कर देने वाली वारदात....कलयुगी हत्यारिन मां ने जुड़वां नवजात बच्चियों को तालाब में डुबोकर मार डाला

मुज़फ्फरनगर -आर्थिक तंगी व ससुराल वालों की छींटाकसी से परेशान होकर एक माँ हैवान बन गयी और उसने बेटी दिवस के अवसर पर ही अपनी 20 दिन की दो नन्हीं जुड़वां बच्चियों को तालाब में फेंककर मौत के घाट उतार दिया। यह सनसनीखेज मामला प्रकाश आने पर हर कोई सन्न रह गया। इस मामले मेें पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से दोनों नवजात बच्चियों के शव तालाब से निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिये है। इस घटना को लेकर गांव भिक्की में सनसनी फैल गयी। जानकारी के के अनुसार थाना सिखेडा क्षेत्रा के गांव भिक्की निवासी वसीम अहमद की पत्नी नाजिमा ने 20 दिन पूर्व दो सुन्दर जुड़वा बच्चियों को जन्म दिया था। बताया जा रहा है कि जुड़वा बच्चियों का जन्म होने के बाद उनकी मां नाजिमा को उसके ससुराल पक्ष के लोग ताने मारने लगे और तरह-तरह की छींटाकसी करने लगे। दो बच्चियों का जन्म होने के बाद आर्थिक तंगी से जूझ रहे परिवार को और भी ज्यादा परेशानियों को सामना करना पड़ा। बताया जा रहा है कि नाजिमा का पति वसीम अपने घर पर खर्चा भी नहीं दे रहा था। इस कारण पूरा परिवार ही आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। वसीम के खर्चा न देने के कारण उसके परिजन दो बच्चियां होने पर नाजिमा को ताने मारने लगे। इन सब बातों से तंग होकर आज प्रात: नाजिमा ने अपनी दोनों जुड़वा बच्चियों को गांव के ही तालाब में पफेंक दिया तथा घर आकर शोर मचा दिया कि बच्चियां गायब हो गयी है। नाजिमा ने बताया कि आज सवेरे जब वह शौच करने के लिए गयी थी, तो अपनी दोनों बच्चियों को चारपाई पर लिटाकर गयी और वापस आकर देखा, तो बच्चियां चारपाई पर नहीं मिली, जबकि वसीम भी वहीं सो रहा था। इस बात का शोर मचते ही बडी संख्या में ग्रामीण मौके पर एकत्रित हो गये और चारों तरफ 20 दिन की नवजात बच्चियों की तलाश शुरू कर दी गयी। ग्रामीणों ने आसपास के क्षेत्रों में छानबीन करने के साथ ही सिखेडा पुलिस को भी इस मामले की सूचना दी। सूचना मिलने पर सिखेडा पुलिस भी मौके पर पहुंची। पुलिस ने जब नाजिमा से सख्ती से पूछताछ की, तो उसने बताया कि बच्चियां उसने पांच बजे गायब हुई है। दोनों बच्चियों के नाम आफरीन व आफिफया भी नाजिमा ने बताये। सिखेडा थानाध्यक्ष ने 20 दिन की जुड़वा नवजात बच्चियों के गायब होने की जानकारी एसएसपी अभिषेक यादव को भी दी। एसएसपी ने सूचना मिलते ही पुलिस को निर्देश दिये कि इस मामले को तत्काल खोला जाये और सही तरह से जांच की जाये। पूरे प्रकरण की मोनिटरिंग एसएसपी अभिषेक यादव स्वयं करते रहे और मिनट दर मिनट सिखेडा थानाध्यक्ष से मामले की जानकारी करने के साथ ही आवश्यक दिशा निर्देश भी देते रहे। सिखेडा थानाध्यक्ष ने महिला पुलिसकर्मियों के साथ बंद कमरे में नाजिमा व उसके पति वसीम से सख्ती से पूछताछ शुरू की, तो पूरी कहानी सुनकर पुलिस के भी रोंगटे खड़े हो गये। नाजिमा ने पुलिस के सामने स्वीकार किया कि वह अपनी 20 दिन की नवजात जुड़वा बच्चियों आफरीन व आफिया को सुबह पांच बजे दिशा शौच के लिए जाते समय स्वयं ही तालाब में फेंककर आयी है। नाजिमा का कहना था कि उसका पति वसीम घर में खर्चा नहीं दे रहा था और अब दो बच्ची पैदा होने पर आर्थिक तंगी ज्यादा बढ़ गयी थी, जिस कारण ससुराल वाले उसे ताने देने लगे थे। यही कारण रहा कि उसने अपनी मासूम बच्चियों को तालाब में फेंककर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने नाजिमा को तालाब पर ले जाकर उससे बच्चियों को फेंके जाने वाली जगह की जानकारी ली और पिफर ग्रामीणों की मद्द से दोनोंं नवजात बच्चियों के शव तालाब से निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिये। अपनी ही कोख से जन्मी दो मासूम की बच्चियों की हत्यारिन मां को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इस मामले को लेकर नाजिमा के पति वसीम से भी पुलिस पूछताछ कर रही है। घटना को लेकर गांव में तरह-तरह की चर्चाएं व्याप्त है। पुलिस ने हत्यारिन मां के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी शुरू कर दी।

Share it
Top