Read latest updates about "वे कहते हैं" - Page 2

  • विश्लेषण: चुनाव की आहट ने कम करवा दिये पेट्रोल-डीजल के दाम

    पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की घोषणा से पूर्व केंद्र सरकार ने पेट्रोल डीजल की कीमतों को घटाने की घोषणा की। केंद्र सरकार की यह घोषणा चुनावी मजबूरी के तहत हुई है, यह तथ्य किसी से छिपा नहीं है। केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज घटाने के साथ ही पेट्रोलियम कंपनियों पर दबाव डालकर कीमतें कम...

  • राजनीति:भाजपा को 2019 का डर

    भारतीय जनता पार्टी बार-बार सवाल पूछ रही है कि अगर भाजपा 2019 में हारी तो प्रधानमंत्री कौन होगा? इससे साफ लगता है कि पार्टी को आशंका नजर आ रही है कि वह 2019 में हार सकती है। 2004 में भाजपा ने यह सवाल उठाया ही नहीं था क्योंकि तब शाइनिंग इंडिया और विवादों से परे अटल बिहारी वाजपेयी की प्रधानमंत्री के...

  • मुद्दा: चरमराती बैंकिंग व्यवस्था, डूबते बैंक

    राष्ट्र एवं समाज के निर्माण में कुछ संस्थाओं का अत्यंत महत्त्वपूर्ण स्थान एवं योगदान होता है। उन नामों में शिक्षा, स्वास्थ्य, रक्षा, न्याय आदि अत्यंत प्रमुख हैं। आज के युग में अब उनमें एक नाम और जुड़ गया है। वह नाम 'बैंकÓ है। आज की आधुनिक व्यवस्था में बैंक जीवन का एक अंग बन गए हैं। लगभग नित्य अनेक...

  • राष्ट्ररंग: एस सी - एस टी एक्ट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजनीति के शिकार हुए

    एस सी - एस टी एक्ट पर वर्षों की मेहनत के बाद उच्चतम न्यायालय ने एक प्राकृतिक न्याय सिद्धान्त के अंतर्गत 2० मार्च 2018 को अपना फैसला सुनाया कि दलित की किसी भी शिकायत पर सक्षम अधिकारी की जांच के उपरांत दी गई रिपोर्ट पर ही आरोपी की गिरफ्तारी होगी। उच्चतम न्यायालय के इस व्यावहारिक फैसले से विपक्षी दलों...

  • अब वैश्विक कारोबारी संभावनाओं के द्वार खोलेगा 'एसएमईएक्स इंडिया'

    यदि आप छोटे एवं मध्यम आकार के उद्यमी हैं और विश्व बाजार में अपने लिए कारोबारी सम्भावनाएं तलाश रहे हैं तो नए डिजिटल प्लेटफार्म 'एसएमईएक्स इंडिया' नामक पोर्टल पर सक्रिय हो जाइए। सम्भव है कि आपके सपनों को पंख लग जाए क्योंकि यह एक कमर्शियल वेब पोर्टल है जिसे 'स्राम म्राम टेक्नोलाजी ने लांच किया है।...

  • राजनीति: कांग्रेस का डीएनए

    कुछ दिन पहले ही कांग्रेस के दिग्गज नेता सलमान खुर्शीद ने कहा था - 'हमारे (कांग्रेस के) हाथ भी मुसलमानों के खून से रंगे हैं।' अब दूसरे नेता रणदीप सुरजेवाला 'कहावत वाले' का कथन है - 'कांग्रेस में ब्राह्मणों का डीएनए है।' कहावत वाले नेताजी ने राहुल जी की शिव भक्ति के विषय में भी कुछ कहा लेकिन मैं...

  • राजनीति: यूपी में डूबता मुलायम का समाजवाद!

    लोहिया के समाजवाद को मुलायम सिंह यादव संजो नहीं पाए। दो साल पूर्व सत्ता को लेकर परिवारवाद की जंग की वजह से सुलगता बारुद आखिर फट पड़ा और समाजवादी पार्टी शिवपाल सिंह यादव के बगावती तेवर के बाद दो फाड़ हो गयी। हालांकि जिस तरह पार्टी पर अधिकारवाद को लेकर लड़ाई चल रही थी, उससे यह तस्वीर साफ थी कि विभाजन...

  • बहस: जीएसटी नए रिटर्न सिस्टम के औचित्य पर उठने लगे सवाल?

    जीएसटी काउंसिल और जीएसटीएन जनवरी 2019 से नया रिटर्न सिस्टम आनलाइन करने के लक्ष्य पर काम कर रहे हैं जबकि मौजूदा फार्म जीएसटीआर- वन और थ्री बी मार्च 2019 तक जारी रखने के उनके फैसले से एक बात साफ हो गई है कि छोटे कारोबारियों को तिमाही रिटर्न की सुविधा किसी भी सूरत में अब अगले वित्त वर्ष से ही मिल...

  • विश्लेषण: पाकिस्तान में निजाम बदलता है इरादे नहीं

    क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान अहमद खान नियाजी पाकिस्तान के नए हीरो बन गए हैं। चुनावों के दौरान इमरान खान ने नए पाकिस्तान का नारा दिया। नवाज शरीफ के भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई थी। पनामा पेपर्स में नवाज शरीफ का नाम आने के बाद इमरान खान का उत्साह और बढ़ गया। लोगों ने नए पाकिस्तान के नारे पर...

  • विश्लेषण: नवजोत सिद्धू की सोच अच्छी पर पाक से रिश्ते सुधरने में ढेरों अड़चनें

    क्रिकेटर से सियासतदान बने नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब के कैबिनेट मंत्री हैं। उनके क्रिकेटर सखा इमरान खान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बन गए हैं। दोनों क्रिकेट मैचों में कमेंटरी भी साथ साथ करते रहे हैं पर अब दोनों सियासतदान हैं। यह भी सच है कि सियासत का मैदान क्रिकेट के मैदान से बहुत अलहदा होता है। नवजोत...

  • राष्ट्ररंग: जनता को अकर्मण्य न बनाये सरकार

    'अजगर करे न चाकरी, पंछी करे न काम, दास मलूका कह गये सबके दाता राम' संत मलूक दास जी के इस दोहे के अनुपालन के उद्देश्य के लिये, इन दिनों देश में तरह तरह की योजनाएं चल रही हैं। अकर्मण्य और नाकारा लोगों के हितार्थ सरकारें नित नई घोषणाएं कर रही हैं। कहीं कर्ज माफी हो रही है, तो कहीं लोक अदालतें लगाकर...

  • राष्ट्ररंग: स्पष्ट रूप से हो पैकेट पर लेबलिंग

    जंक या फास्ट फूड सारी दुनिया के साथ हमारे देश में भी लोगों के स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर खतरा बन गया है। हालात इतने बुरे हो चुके हैं कि नई पीढ़ी का भविष्य बीमार व कमजोर हो रहा है। यही कारण है कि यूजीसी को स्थिति का अध्ययन कर महाविद्यालयों व विश्वविद्यालयों में जंक फूड पर प्रतिबंध लगाना पड़ा लेकिन यह...

Share it
Top