Read latest updates about "हेल्थ" - Page 2

  • काम के साथ-साथ आहार पर भी ध्यान दें

    आज की व्यस्तता भरी जिंदगी में व्यक्ति के पास इतना समय नहीं बच पाता कि वह इस बात पर गहराई से ध्यान दे सके कि वह सही भोजन ले रहा है या नहीं लेकिन हमारे शरीर को ढंग से कार्य करने के लिए एनर्जी की आवश्यकता की पूर्ति तो सही भोजन ही करता है। कई बार तो व्यक्ति को इतना भी समय नहीं मिलता कि वह समय निकाल...

  • गुणों का भंडार है आंवला

    आंवला एक अत्यंत पौष्टिक फल है। इसमें शक्ति प्रदान करने वाले सभी गुण पाए जाते हैं। इसके फल में जल 81.2 प्रतिशत, कार्बोहाइडे्रट 21.8 प्रतिशत, रेशा 3.4 प्रतिशत, खनिज 0.7 प्रतिशत, प्रोटीन 0.5 प्रतिशत, वसा 0.1 प्रतिशत, कैल्शियम 0.05 प्रतिशत तथा फास्फोरस 0.02 प्रतिशत पाया जाता है। इसमें विटामिन 'सी' जैसे...

  • मुंहासों के दागों से निजात

    किशोरावस्था में आते-आते अधिकांश लड़कियों की समस्या होती है मुंहासे। मुंहासे युवावस्था की निशानी हैं क्योंकि इस शरीर में हार्मोंस के स्तर में परिवर्तन होता है परन्तु कभी-कभी हमेशा के लिए इसके निशान रह जाते हैं। लड़कियों की सुन्दरता पर ये मुंहासे एक प्रश्नचिन्ह लगा देते हैं। लड़कियों के मन में एक...

  • दिल-फैलना (हार्ट फैलियर) क्या बला है?

    नोर्मल दिल की पंपिंग (ईको में इजेक्शन फ्रेक्शन/ईएफ) 50% के ऊपर होती है, परंतु विभिन्न कारणों से दिल के फैल जाने पर उसकी पंपिंग कम हो सकती है (लो ईएफ) जैसे 45%-थोड़ी कम, 40%-कम, 35% के नीचे-बहुत कम)। जब यह कमजोर, बड़े साइज वाला दिल शरीर में खून को पूरा पंप नहीं कर पाता तो शरीर के विभिन्न अंगों जैसे...

  • न होने दें रीढ़ की हड्डी को नुकसान

    हमारी गलत जीवनशैली से जुड़ी जो समस्याएं अब बाहें पसारे लोगों को अपने आगोश में धीरे धीरे जकड़ती जा रही हैं, उनमें रीढ़ की हड्डी भी है। अधिक देर तक बैठकर काम करना या अधिक समय तक खड़े होकर काम करना हमारी रीढ़ पर प्रभाव डालता है जिसका परिणाम पीठदर्द के रूप में सामने आता है। आइए ध्यान दें अपनी गलत आदतों...

  • अपना स्वास्थ्य अपने हाथ

    आज की तेज भागती जिंदगी में हम यदि अपने स्वास्थ्य पर ध्यान न दें तो जीवन के दिन इतने तेजी से निकल जायेंगे कि हमें पता भी न लग पायेगा। समय का अभाव तो हमेशा ही रहता है और रहेगा। फिर भी जिस प्रकार हम अपनी पार्टियों या कार्य के लिए समय बखूबी निकाल लिया करते हैं, ठीक उसी प्रकार जरा सा समय निकालकर निम्न...

  • दही बीमारी दूर भगाए

    भारतीय परंपरा एवं खानपान में विविध अवसरों पर दही का उपयोग किया जाता है। मक्खन, दही का टीका लगाया जाता है। पंचगव्य, पंचामृत, प्रसाद बनाया जाता है। दही चखाकर शुभ काम के लिए रवाना किया जाता है। दही से बनी सब्जी, दही, बड़ा, लस्सी, मठा आदि से सभी परिचित हैं। इससे खमीर उठाकर इडली, दोसा, उत्तपम, ढोकला आदि...

  • तन-मन की सुंदरता के लिए आवश्यक है तनावमुक्त आंखें

    आधुनिकता के साजो-सामान ने जीवन में जहां ऊब और नीरसता से बचने के लिए अनेक साधन दिए हैं, वहीं शरीर और मन की सेहत के लिए नई दिक्कतें भी ला खड़ी की हैं। टेलीविजन, वीडियो और कम्प्यूटर-खेलों के इस युग ने आंखों पर जुल्म ढाना शुरू कर दिया है। कम्प्यूटर चाहे प्रगति की निशानी क्यों न हो, सुबह से शाम तक उस...

  • चिंतन: अन्न नहीं, आजीविका द्वारा निर्धारित होती है हमारी मानसिकता

    हमारे यहाँ कहा जाता है कि 'जैसा अन्न, वैसा मन।' इसका ऊपरी अर्थ तो यही लगता है कि अन्न की प्रकृति का हमारे मन पर गहरा असर पड़ता है लेकिन क्या वास्तव में भोजन या अन्न इस प्रकार का प्रभाव डाल सकता है? यदि भोजन के अनुसार ही व्यक्ति का मन बनता तो एक विशेष प्रकार का भोजन करने वालों की मानसिकता भी एक...

  • कुछ शाही स्वादिष्ट व्यंजन

    मसाला पनीर सामग्री:- 3-4 प्याज, 25 ग्राम अदरक, 3-4 लहसुन के छोटे टुकड़े, 5०० ग्राम पनीर, 3 टमाटर, 3-4 हरी मिर्च, 2 शिमला मिर्च, नमक, मिर्च हल्दी, गरम मसाला स्वादानुसार, थोड़ा-सा हरा धनिया। विधि:- प्याज को थोड़ा बड़ा-बड़ा काटें। लहसुन व अदरक का पेस्ट बना लें। कड़ाही में थोड़ा घी डालें। उसमें लहसुन...

  • सौंदर्य वृद्धि के हर्बल नुस्खे

    प्रकृति की खूबसूरत रचनाओं और सौंदर्य की परिभाषाओं में नारी को एक विशिष्ट स्थान मिलता आया है। फिर भी नारी सौंदर्य को परिभाषित करना दुष्कर है चाहे वह कवि की कल्पना हो, चित्रकार की सजीव चित्रकृति हो अथवा लेखक का अथाह शब्दकोष। वैसे सौंदर्य की परिभाषा नहीं हो सकती। इसे जितना निखारा जाये, इसमें उतना ही...

  • खतरनाक है किसी भी नशे की आदत

    आप अक्सर बड़े-बूढ़ों, नवयुवकों, यहां तक कि छोटे छोटे बच्चों को भी बीड़ी-सिगरेट मुंह में लगाए अदा से मुंह व नाक से धुआं छोड़ते देखते हैं। तम्बाकू, पान, गुटखा आदि खाने वालों से भी अक्सर आपका पाला पड़ता होगा। हो सकता है कि उन चीजों में से किसी एक का आप भी शौक फरमाते हों। यदि आप पान, बीड़ी, सिगरेट,...

Share it
Top