Read latest updates about "हेल्थ" - Page 2

  • बीमारियों से छुटकारे के लिए टीवी देखना कम करें

    शरीर को क्रि या करने की जरूरत होती है लेकिन टी.वी. देखने के दौरान शरीर निश्चल होता है। इससे मोटापा बढ़ता है। इसलिए बच्चों को प्रेरित करें कि टी.वी. के सामने बैठे रहने की तुलना में साइकिल चलाएं या फिर मैदान में जाकर खेले। बहुत से लोग टी.वी. के सामने ऐसी पोजीशन में बैठते हैं कि उनकी रीढ़ की हड्डी पर...

  • सर्द हवाएं कहीं आपकी त्वचा की नमी न चुरा ले

    सर्दियां आते ही अचानक त्वचा में रूखापन व खिंचाव महसूस होने लगता है। त्वचा को इन सर्दियों का सामना करने के लिए तैयार कीजिए। - सबसे पहले तो बाजार से कोई बॉडी आयल खरीद कर रखें क्योंकि अब इसकी आवश्यकता पड़ेगी। रात को सोने से पूर्व त्वचा पर इसे लगाएं। - बहुत अधिक गर्म पानी का प्रयोग नहाने के लिए न...

  • विनाशक शराब से दूर रहें

    कहते हैं कि पहले व्यक्ति शराब पीने लगता है, बाद में शराब व्यक्ति को पीने लगती है यानी एक बार जो शराब का स्वाद लेता है वह शराब के प्रति इतना आकृष्ट हो जाता है कि वह शराब का गुलाम बन जाता है। वह अधिकाधिक मात्र में शराब पीता जाता है। आखिर इस स्थिति में पहुंचता है कि बिना शराब पिए वह एक दिन भी रह नहीं...

  • चुस्त, छरहरी काया पाइये

    पतला-छरहरा बदन, पतली बल खाती कमर, लम्बी-लम्बी अंगुलियों वाली युवतियों की ओर भला कौन-सा ऐसा पुरुष होगा जो आकर्षित नहीं होगा? आज की सौन्दर्य कांशस नवयुवतियां पतली, छरहरी बनने के लिए डायटिंग, एरोबिक्स और न जाने क्या-क्या करती नजर आती हैं? यूं तो औरतें उम्र भर अपनी फिगर के प्रति कांशस रहती हैं लेकिन...

  • गले की खिच खिच - नो प्राब्लम

    सर्दी इस समय अपने यौवन पर है। भरपूर सर्दी के कारण सर्दी-जुकाम, गला खराब, खांसी, बुखार का होना आम बात है। अधिकतर लोग इन इंफेक्शनों से परेशान हैं। थोड़ी सी लापरवाही सीधा गले पर प्रभाव डालती है। परिणामत: गले की खिच-खिच, खांसी होना स्वाभाविक सी बात है। अगर समय रहते इस खिच खिच को नियंत्रित न किया जाए तो...

  • शीतकाल का आहार विहार

    एक जमाना था जब हमारे पूर्वज संयुक्त परिवारों में रहा करते थे। संयुक्त परिवार के बड़े बूढ़ों से उनके उत्तराधिकारियों को ऋतुओं के अनुसार बालकों, युवाओं, वृद्धों, स्त्रियों, पुरूषों तथा गर्भवती स्त्रियों को कौन-कौन सी वस्तुओं का कम या अधिक सेवन या त्याग करना चाहिए, का अनुभव मिलता रहता था पर आज के छोटे...

  • बॉलीवुड हस्तियां: ह्रदय रोग जिनके लिए घातक रहा

    'बाबू मुशाय जिंदगी बड़ी होनी चाहिए, लम्बी नहीं' आनंद मूवी में राजेश खन्ना एक बहुत सुंदर और प्रेरक उद्धरण कह गए जिसका अर्थ है कि जीवन लम्बा नहीं, बेहतर होना चाहिए। जीवन सभी मनुष्यों के लिए समान है। हम हमारे बॉलीवुड सितारों के लिए हमेशा सोचते हैं कि चांदी की स्क्रीन पर अपने बेजोड़ अभिनय से भूमिकाओं...

  • टीकाकारण से नहीं होता निमोनिया का खतरा

    - सिर्फ बच्चों को हो नहीं वयस्कों को भी लगाया जाता है टीकानई दिल्ली । निमोनिया बच्चों के लिए ही नहीं बल्कि वयस्कों के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है। निमोनिया बच्चों के साथ-साथ वयस्कों और खासकर बुजुर्गों को भी प्रभावित करता है लेकिन वयस्कों में अक्सर निमोनिया के लक्षणों को साधारण फ्लू समझने की गलती...

  • जायके का सफर 'बाटी' के साथ

    स्वादिष्ट व्यंजनों का नाम सुनते ही मुँह में पानी आ जाता है ,चाहे पेट भरा हो या खाली हो, ऐसे ही एक सर्वव्यापी व्यंजन का नाम है 'बाटी'। हम सभी इस नाम से परिचित हैं । राजस्थान का 'दाल बाटी चूरमा' और बिहार का 'बाटी चोखा' विश्व प्रसिद्ध है। बाटी मालवा का प्रसिद्ध भोजन है । यह हर घर की पसंद है। वहाँ के...

  • आंवले के पौष्टिक व्यंजन

    आंवले की चटनी सामग्री:- एक किलो आंवले, सौ ग्राम मेथी पाउडर, पचास ग्राम नमक, दस-दस ग्राम भुना हुआ जीरा पाउडर, पीसा हुआ अदरक, लहसुन, तीन ग्राम हल्दी पाउडर, दो दो ग्राम लाल मिर्च पाउडर, काली मिर्च पाउडर, सौ ग्राम भुना हुआ राई पाउडर और एक किलो चीनी, चालीस मि. ली. सिरका। विधि:- ताजे व दागरहित आंवले को...

  • भोजन करने से पहले पिएं पानी..वजन कम करने में मिलेगी मदद

    अभी तक आपने खाना खाने से पहले और खाने के बीच में पानी नहीं पीने के सुझाव देते हुए कई विशेषज्ञों को सुना होगा लेकिन अब भोजन से से पहले पानी पीने की सलाह विशेषज्ञ दे रहे हैं। विशेषज्ञ का कहना है कि खाने से पहले पानी पीने की एक छोटी सी आदत से आपको न सिर्फ वजन कम करने में मदद करेगी बल्कि सही वजन को...

  • ओवरईटिंग को कहें बॉय-बॉय

    ओवरईटिंग की आदत को अधिकतर लोगों में बचपन से ही पड़ जाती है पर बचपन में की गई ओवरईटिंग बच्चों के खेलकूद करने में बराबर हो जाती है। बस ओवरईटिंग के शिकार कुछ बच्चे ही होते हैं जो बस खाते हैं, उसे खेल कूद कर पचाते नहीं, सुस्त होकर टीवी के सामने या मोबाइल में गेम्स खेलने में समय व्यतीत करते हैं। वे...

Share it
Top