मुजफ्फरनगर में रिश्वतख़ोर लेखपाल रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार


मुजफ्फरनगर। जनपद मुजफ्फरनगर में एक बार फिर एंटी करप्शन टीम ने एक रिश्वतखोर लेखपाल को 20 हज़ार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया । एयरफोर्स में तैनात गांव पिन्ना निवासी एक सैनिक की शिकायत पर मेरठ की एंटी करप्शन टीम ने कार्यवाही करते हुए लेखपाल को 20 हज़ार रुपये की रिश्वत लेते हुए दबोच लिया। टीम ने रिश्वतखोर लेखपाल से 20 हजार की नगदी बरामद करते हुए थाना नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज करा कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

दरअसल मामला थाना नगर कोतवाली क्षेत्र का है, जहां गांव पिन्ना निवासी रोबिन मलिक पुत्र देवेंद्र सिंह जोकि एयरफोर्स में तैनात है और फिलहाल अंडमान निकोबार में तैनाती है, ने मुख्यमंत्री के जनसुनवाई पोर्टल पर 4 मई को एक शिकायत की थी कि उनकी पौने 6 बीघा जमीन गांव लकड़संधा मैं है, जिस पर लोगों द्वारा कब्जा किया गया है। इसमें 4 बीघा जमीन गांव लकड़ संधा निवासी धरम वीर पुत्र अतर सिंह द्वारा कब्जा की गई है।

जिसे कब्जा मुक्त कराने की मांग की थी जिसके बाद पीड़ित रोबिन मलिक 6 मई को हल्का लेखपाल सुनील कुमार से मिला था, जिसमें लेखपाल सुनील कुमार पुत्र सेवाराम निवासी गांव लाडवा थाना तितावी ने पहले तो 30 हज़ार रुपये की रिश्वत मांगी थी मगर बाद में 20 हज़ार रुपये की रिश्वत लेकर उनकी जमीन कब्जा मुक्त कराने के लिए तैयार हो गया। रोबिन ने रिश्वतखोर लेखपाल को पकड़वाने के लिए एंटी करप्शन टीम मेरठ में शिकायत कर दी। इसी शिकायत पर गुरुवार की शाम को लेखपाल द्वारा बताए गए स्थान थाना नगर कोतवाली क्षेत्र के काली नदी पुल पर रिश्वत की रकम मंगाई। जिसमें रोबिन के साथ एंटी करप्शन टीम भी मौके पर पहुंची और जैसे ही रोबिन ने लेखपाल को रिश्वत की रकम दी तो एंटी करप्शन टीम ने आरोपी रिश्वतखोर लेखपाल को रिश्वत लेते ही दबोच लिया, जिसके बाद थाना नगर कोतवाली लाया गया जहां एंटी करप्शन टीम ने रिश्वतखोर लेखपाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराते हुए आगे की कार्यवाही शुरू कर दी है। देर रात तक नगर कोतवाली में लेखपालों का भी जमावड़ा लगा रहा।

Share it
Top