इस वजह से भी हो सकता है हार्ट फेल

इस वजह से भी हो सकता है हार्ट फेल

heart attack
नई दिल्ली। दिल जब रक्त पंप नहीं कर पाता तो उस स्थिति को हार्ट फेल होना कहा जाता है। लेकिन हार्ट फेल होने की एक और वजह सामने आई है जिसमें दिल के रक्त पंप करने की कुशलता लगभग सामान्य रहती है। यह जानकारी एचसीएफआई के अध्यक्ष एवं आईएमए के नवनिर्वाचित अध्यक्ष डॉ के के अग्रवाल ने दी है। दूसरी किस्म के इस हार्ट फेल होने को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है, जो कि जानलेवा होता है। इस हालत में दिल की मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं। अंदर का चैंबर छोटा हो जाता है और दिल को आराम करने की उस स्थिति में जाने का मौका नहीं मिलता, जिससे रक्त पंप होकर बाहर निकल सके। ऐसा न होने पर रक्त वापस फेफड़ों में चला जाता है। इस तरह की गड़बड़ी इजेक्शन फ्रैक्शन (प्रंकुचन के दौरान कोन्ट्रकल द्वारा फेंके गए रक्त की प्रतिशतता) से नहीं मापी जा सकती।
स्वास्थ्य ही नहीं, समाज के विकास में भी बाधक है तंबाकू का सेवन व धूम्रपान
डॉ अग्रवाल ने न्यू इंग्लैंड जनरल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित दो अध्ययनों के हवाले से कहा कि इस किस्म के हार्ट फेल होने को डायस्टॉलिक हार्ट फेल होना कहा जाता है, क्योंकि इसमें यह समस्या दिल की गतिविधि के डायस्टॉल हिस्से में होती है, जब दिल धड़कने के बाद आराम की स्थिति में होता है। ऐसे एक-तिहाई लोगों में इजेक्शन फ्रैक्शन 50 प्रतिशत से ज्यादा होता है, जो काफी सामान्य बात है।
royal-3-1-1-300x254
वैसे इससे होने वाली मौतों की दर सामान्य हार्ट फेल होने से होने वाली मौत के बराबर है। हर साल 20 प्रतिशत लोगों की मौत हार्ट फेल होने से होती है। पिछले 15 सालों में हार्ट फेल होने के दोनों तरीकों में वृद्धि हुई है। दोनों तरह के हार्ट फेल होने के लक्षण एक जैसे होते हैं, जैसे कि सांस टूटना, कसरत करने में मुाqश्कल और शरीर में तरल बढ़ना आदि।

Share it
Top