आजमगढ़ में जहरीली शराब पीने से 5 की मौत, छह लोगों की हालत गंभीर

आजमगढ़ में जहरीली शराब पीने से 5 की मौत, छह लोगों की हालत गंभीर

आजमगढ़। जिले के रौनापा क्षेत्र के केवटहिया गांव में जहरीली शराब पीने से पांच लोगों की मौत हो गयी। वहीं ओढरा सलेमपुर में ताड़ी पीने के बाद दो लोगों ने दम तोड़ दिया। जबकि छह लोगों का उपचार विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। मामले की जानकारी होते ही अपर पुलिस अधीक्षक सहित आबकारी विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। पुलिस और विभाग के लोग प्रथम दृष्टया मौत का कारण ताड़ी और भोज का जहरीला भोजन मान रहे हैं। जबकि ग्रामीण सभी मौतें का कारण जहरीली शराब को मान रह हैं। फिलहाल प्रशासन ने पांच मौतों की पुष्टि की है। रौनापार थाना क्षेत्र के केवटहियां गांव में कच्ची शराब का धंधा लंबे समय से चलता है। बुधवर की रात गांव के करीब 12 लोगों ने कच्ची शराब पी। शराब जहरीली होने के कारण थोड़ी ही देर में लोगों की हालत बिगड़ने लगी। परिजनों ने स्थानीय स्तर पर उपचार शुरू कराया, लेकिन गुरूवार की अपराह्न मौत का सिलसिला शुरू हो गया।
देखते ही देखते रामवृक्ष (70), चरित्र (85), शिवकुमार (18), श्यामप्रीत (40), रामनयन (70) की शुक्रवार की सुबह तक मौत हो गयी। जबकि सहादत, दुर्ग विजय, तपन्जू, बजरंगी, लालचन्द्र, मनोज, विजय नरायण की हालत गंभीर बनी हुई है। सभी का उपचार चल रहा है।
एसिड अटैक मामला निकला फर्जी, महिला के खिलाफ कार्रवाई शुरू
मामले की जानकारी होने पर अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण और आबाकारी विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच गये। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस अभी मौत का कारण ताड़ी और फूड प्वाइजनिंग बता रही है। अधिकारियों का कहना है कि पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही स्थित स्पष्ट होगी।
रसूलपुर और ओढरा सलेमपुर गांव में भी जहरीली शराब का कहर देखने को मिला है। रसूलपुर गांव निवासी सोबरी (40) व ओढरा सलेमपुर निवासी केशव (42) की मौत हो गयी। यहां भी पुलिस मौत की वजह जहरीली ताड़ी मान रही है। ग्रामीण मौत का कारण जहरीली शराब बता रहे हैं। एक साथ हुई सात मौतों से पुलिस के हाथ पांव फूल गये हैं।
गौरतलब है कि यह जिले में अब तक की तीसरी बड़ी घटना है। इसके पूर्व 2009 में इरनी में जहरीली शराब पीने से नौ और 2013 में मुबारकपुर में 46 मौतें हुई थीं।

Share it
Share it
Share it
Top