बीसीसीआई को 1792 करोड़ रू. राजस्व का घाटा

बीसीसीआई को 1792 करोड़ रू. राजस्व का घाटा

नयी दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड(बीसीसीआई) को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद(आईसीसी) की बोर्ड बैठक में राजस्व मामले पर अपनी जंग हारने से लगभग 1792 करोड़ रूपये का घाटा उठाना पड़ेगा।बीसीसीआई को दुबई में हुई आईसीसी बोर्ड बैठक में सभी सदस्यों के बीच अकेले पड़ जाना पड़ा और बिग थ्री सदस्यों के दो अन्य बड़े बाेर्डों इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया ने भी उसका साथ नहीं दिया। भारत को बिग थ्री के राजस्व मॉडल में 57 करोड़ डॉलर(3648 करोड़ रूपये) का राजस्व मिलता था जो नये राजस्व मॉडल में घटकर 29.3 करोड़ डॉलर (1856 करोड़ रूपये) रह गया है। आईसीसी में पैसे के खेल में दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड समझे जाने वाले बीसीसीआई को ही मात मिल गयी। नये राजस्व मॉडल में बीसीसीआई के खजाने में खासी कमी आयी है जबकि खेल के साथ अन्य पूर्ण सदस्य देशों को एक समान पैसा मिलेगा।
OMG ! युवती एक महीने में हुई दो बार गर्भवती, दिया 3 बच्चों को जन्म
बीसीसीआई ने राजस्व मामले का लगातार विरोध किया और पिछले एक सप्ताह तक भारत के विरोध तथा अन्य देशों को मनाने की कोशिशों के बावजूद शेष सदस्यों ने भारतीय बोर्ड का कोई साथ नहीं दिया। हालांकि इस बीच आईसीसी के चेयरमैन शशांक मनोहर ने बीसीसीआई को 10 करोड़ डॉलर अतिरिक्त देने की पेशकश की थी जिससे बीसीसीआई का राजस्व लगभग 40 करोड़ डॉलर पहुंच सकता था लेकिन बीसीसीआई के प्रतिनिधि अमिताभ चौधरी ने इसे ठुकरा दिया था।

Share it
Top