आओ जीना सीखें

आओ जीना सीखें

कुछ लोग जीते नहीं, जीने की तैयारी में ही जीवन गुजार देते हैं। जीना भी एक कला है। जीते तो सभी हैं लेकिन कलापूर्ण एवं सफल जीवन जीना एक कला से कम नहीं।

जीवन में कुछ बातों को अपनाने एवं कुछ बातों को त्यागने से आने वाली मुसीबतों से बचा जा सकता है। बड़े बुजुर्गों की कही बातों से हमें सदा सीखते रहना चाहिए। दूसरों के अनुभवों से सीखने से जीवन सुखी एवं सफल रहता है। अत: कुछ बातें ऐसी हैं जिनका ख्याल रखने से आने वाली मुसीबतों से बचा जा सकता है और होने वाली दुर्घटनाओं को टाला जा सकता है।

- अपने अज्ञान का आभास ही ज्ञान होता है।

- क्रोध में भी अपशब्द मुंह से मत निकालें।

- जो नसीहत नहीं सुनता, उसे लानत सुननी पड़ती है।

- सदा वर्तमान में जीना सीखें।

- किसी चीज को बर्बाद मत करो।

- परिस्थितियों से समझौता करना सीखें।

- सोचिए कम, करिए ज्यादा।

- दूसरों को संतुष्ट और खुश करने में समय व्यर्थ मत गवाएं।

- विपत्तियों का सामना हंसते हुए करें।

- दिमाग को खाली मत रखें। अपना लक्ष्य सदा सामने रखें।

- हर दिन ऐसे जिएं जैसे जीवन का अन्तिम दिन हो।

- आपकी बातचीत का अंत दुख और गुस्से से नहीं होना चाहिए।

- हीनभाव से बचें।

- कुछ पल मौन रहकर एकांत में आत्मनिरीक्षण करें।

- समय बर्बाद मत करें अन्यथा समय आपको बर्बाद कर देगा।

- अपनी कमजोरियों को पहचानें और स्वीकार करें।

- बिना मांगे सलाह न दें, टीका टिप्पणी मत करें।

- कर्म करें, अहंकार त्यागें, परमात्मा को याद रखें।

- नहीं कहना सीखें। किसी के पीछे मत लगें।

- जीवन में किसी से मुफ्त कोई उपहार न लें।

- किसी काम को टालें मत।

- सदा मुस्कुराते रहें, सारे संसार को अपना परिवार समझें।

- संसार नहीं बदलेगा, स्वयं को बदलें।

- मधुर संगीत, उचित रंग चुनें, स्वच्छ रहें, व्यायाम करें, हंसिए और हंसाइयें।

- हस्तरेखा मत दिखाएं। भविष्य मत जानें।

- छोटी छोटी बातों से परेशान मत हों। आशावादी रहें।

- गुस्सा कमजोर करता है। सहनशील बनें, विकास करते रहें।

- अपने जीवन के निर्णय स्वयं लें।

- विनम्र बनें, हर भूल से शिक्षा लें।

जीवन में ऊब, दु:ख, क्लेश, तनाव से बचें।

- विजेन्द्र कोहली गुरदासपुरी

Share it
Share it
Share it
Top