बाल जगत: लाल किला - कुछ रोचक जानकारी

बाल जगत: लाल किला - कुछ रोचक जानकारी

- अनिल शर्मा 'अनिल'- 5 अगस्त को प्रधानमंत्री देश को लालकिले की प्राचीर से ही सम्बोधित करते हैं।
- विदेशी आक्रमणकारियों ने कई बार इस पर हमला किया। बेशकीमती सामान लूटा। अंग्रेज भी देश से जाते जाते लालकिले से कीमती वस्तुएं ले जाने से नहीं चूके।
- महल में बादशाह के कर्मचारियों की रिहायश के भी भवन बने थे।
- कहते हैं इसका निर्माण स्वर्ग के किले के वर्णन पर आधारित है।
- दीवाने खास का तख्ते ताऊस वैभव का प्रतीक ऐसा सिंहासन था जिसमें हीरे जवाहरात जड़े हुए थे। यह भाग बेशकीमती नगों, सोने की कारीगरी व हीरो जवाहरातों से सुसज्जित था।

- लालकिले में मोती महल, मोती मस्जिद, दीवाने खास दीवाने आम, रंग महल, सावन, भादों, मीना बाजार आदि बनवाये गये थे।
- पश्चिमी यमुना नहर से एक नहर निकालकर पानी को किले तक लाया गया। इसे किले में नहर बहिश्त का नाम दिया गया।
- लालकिले के चार दरवाजे थे लाहौरी दरवाजा, काबुली दरवाजा, कलकत्ता दरवाजा, काश्मीरी दरवाजा। बाद में दो दरवाजे बन्द करा दिये गये।
- इसके चारों ओर दीवारें हैं। नदी की ओर 60 फुट तथा जमीन की तरफ दीवार 110 फुट ऊंची है। इसी के साथ 30 फुट चौड़ी और 30 फुट गहरी खाई है।
- लालकिला लगभग डेढ़ किलोमीटर की परिधि में फैला हुआ है। पूर्व से पश्चिम 1800 फुट और उत्तर से दक्षिण 3200 फुट फैला है।
- उस समय इसकी लागत एक करोड़ रूपये आयी थी। ऐसा इतिहासकारों का मत है।
- लाल पत्थर बैलगाडिय़ों पर लादकर धौलपुर से लाया गया। देश भर के राजा-महाराजाओं ने इसके निर्माण में हर संभव सहयोग किया।
- शुभ मुहूर्त में लालकिले का निर्माण करने के लिए नींव खुदवायी गयी थी। एक वर्ष तक नींव यूं ही रही ताकि मौसमी हवा-पानी का प्रभाव जो भी पडऩा है उस पर पड़ जाये।
- लालकिले का निर्माण 1638 में शुरू किया गया। नौ वर्षों में इसका निर्माण पूर्ण हुआ। 1648 में शाहजहां ने इसमें प्रवेश किया।
लालकिला (दिल्ली) अपने आप में इतिहास के इतने पृष्ठों को समेटे हुए है, इतनी घटनाओं का मूक साक्षी है, जिनका वर्णन करने में वर्षों लग जायें। हिन्दुस्तान पर मुगल शासन, अंग्रेजी शासन और फिर स्वतंत्रता के 64 वर्ष इतने लंबे काल की हर घटना का गवाह लालकिला यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल किया गया है। प्रस्तुत हैं लालकिले से जुड़े कुछ रोचक तथ्य-:

Share it
Share it
Share it
Top