फेडरर को खिताब न बचा पाने का सता रहा डर

फेडरर को खिताब न बचा पाने का सता रहा डर

मेलबोर्न। स्विट्जरलैंड के अनुभवी टेनिस स्टार रोजर फेडरर सोमवार से शुरु हो रहे साल के पहले ग्रैंड स्लेम आस्ट्रेलियन ओपन में हिस्सा लेने उतरेंगे लेकिन 36 वर्षीय और गत चैंपियन फेडरर को अपनी उम्र के चलते खिताब बचाने का पूरा भरोसा नहीं है। फेडरर ने गत वर्ष स्पेन के राफेल नडाल को हराकर आस्ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता था और इस बार वह स्लोवेनिया के अल्जाज बेडेन के खिलाफ मंगलवार को होने वाले अपने पहले मुकाबले से अपने खिताब बचाव अभियान की शुरुआत करेंगे। फेडरर ने रविवार को संवाददाताओं से कहा, इस उम्र के साथ मुझे लगता है कि मैं खिताब बचाने के मौके को गंवा दूंगा क्योंकि मुझे नहीं लगता है कि 36 साल की उम्र में आपको खिताब का दावेदार माना जाना चाहिए। आप सब को पता है कि मैं इस समय अपने करियर के अंतिम पड़ाव पर हूं, इसलिए मैं चीजों को बेहद शांत तरीके से लेता हूं। पांच बार ऑस्ट्रेलियन ओपन का खिताब अपने नाम कर चुके फेडरर अपने करियर का 20वां ग्रैंड स्लेम जीतने के लिए मंगलवार को कोर्ट में उतरेंगे। फेडरर अगर मेलबोर्न में जीतते हैं तो सबसे उम्र में नंबर एक रैंक हासिल करने वाले खिलाड़ी बन जाएंगे। आस्ट्रेलियन ओपन में दूसरी वरीयता पाने वाले फेडरर ने कहा कि छह बार के चैंपियन नोवाक जोकोविच और स्टेनिसलास वावरिका के चोट के बाद वापसी करने से उनको फायदा हो सकता है। उन्होंने कहा, कि मुझे उम्मीद है कि इस वर्ष मैं शुरुआती कुछ राउंड में जीत हासिल करूंगा लेकिन उसके बाद मेरे प्रदर्शन में गिरावट आ सकती है। लेकिन देखते हैं कि टूर्नामेंट कैसा रहता है।

Share it
Share it
Share it
Top