भारत राष्ट्रमंडल खेलों में पाक के खिलाफ शुरू करेगा अभियान

भारत राष्ट्रमंडल खेलों में पाक के खिलाफ शुरू करेगा अभियान

नई दिल्ली। भारतीय पुरूष हॉकी टीम को अगले वर्ष आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों में मुश्किल पूल बी में शामिल किया गया है जहां वह अपने अभियान की शुरूआत चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ करेगा। वहीं भारत की महिला टीम को पूल ए में रखा गया है जो वेल्स के खिलाफ पहला मैच खेलेगी। भारतीय पुरूष टीम को राष्ट्रमंडल खेलों में ग्रुप बी में रखा गया है जहां उसके साथ इंग्लैंड, पाकिस्तान, मलेशिया और वेल्स की टीमें हैं जबकि महिला हॉकी टीम को पूल ए में जगह मिली है जहां उसके साथ इंग्लैंड, मलेशिया, दक्षिण अफ्रीका और वेल्स की टीमें शामिल हैं। ग्रुप की प्रत्येक टीम पांच से 11 अप्रैल तक चलने वाले प्रारंभिक राउंड में एक दूसरे के खिलाफ खेलने उतरेगी जिसके बाद ग्रुप से दो शीर्ष टीमों को सेमीफाइनल में जगह मिलेगी। पदक मैच 12 से 14 अप्रैल तक होंगे। भारत की महिला हॉकी टीम जहां पांच अप्रैल को अपने अभियान की शुरूआत वेल्स के खिलाफ करेगी तो वहीं पुरूष टीम का ग्रुप बी मैच सात अप्रैल को हाईवोल्टेज तरीके से चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ शुरू होगा। अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) ने मंगलवार को 10-10 टीमों के महिला और पुरूष चैंपियनशिप की घोषणा की जिसमें दोनों वर्गां की सभी टीमों को पांच-पांच टीमों के दो ग्रुपों में विभाजित किया गया है। इन टीमों को उनकी रैंकिंग के आधार पर ग्रुपों में रखा गया है।
भारतीय पुरूष हॉकी टीम के कोच शुअर्ड मरीने ने कहाÞ पूल बी काफी मुश्किल है लेकिन हम चुनौती के लिये तैयार हैं। हम भुवनेश्वर में इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलने वाले हैं और यह अनुभव हमें काम आएगा। हर ग्रुप से दो टीमें सेमीफाइनल में जाएंगी तो हमारे लिये मैच काफी मुश्किल होंगे। इससे पहले भारतीय हॉकी टीम राष्ट्रमंडल खेलों में आस्ट्रेलिया के खिलाफ 2014 और 2010 में फाइनल में हार चुकी है। भारतीय पुरूषों के लिये इस बार सबसे बड़ी चुनौती आस्ट्रेलिया की रहेगी जो पांच संस्करणों में पांच बार विजेता रहा है जबकि हाल ही में एशियाई चैंपियन बना भारत पिछले दो संस्करणों में उपविजेता रहा है। गत रजत विजेता भारतीय पुरूष टीम का अपने पूल बी में सात अप्रैल को पाकिस्तान से पहला मैच होगा। इसके बाद वह आठ अप्रैल को वेल्स, 10 अप्रैल को मलेशिया तथा 11 अप्रैल को पिछले कांस्य विजेता इंग्लैंड के खिलाफ मैच खेलेगी। पांच बार की चैंपियन और मेजबान आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका, कनाडा और स्कॉटलैंड ग्रुप ए में हैं। वहीं ग्रुप ए में शामिल भारतीय महिला टीम के साथ रजत विजेता इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका और वेल्स शामिल हैं जबकि ग्रुप बी में गत चैंपियन आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, स्कॉटलैंड, कनाडा और घाना शामिल हैं। भारतीय टीम पांच अप्रैल को अपना पहला मैच खेलेगी जबकि छह अप्रैल को वह मलेशिया, आठ अप्रैल को इंग्लैंड और 10 अप्रैल को दक्षिण अफ्रीका से खेलेगी। भारतीय महिला हॉकी टीम के मुख्य कोच हरेंद्र सिंह ने कहा मैं अपने ग्रुप ए से खुश हूं। मुझे यकीन है कि हमारी टीम दुनिया की किसी भी टीम को चुनौती दे सकती है और रैंकिंग में उछाल से उसका मनोबल भी बढ़ा है। यह राष्ट्रमंडल खेल हैं और हम इन्हें हल्के में नहीं ले रहे हैं। भारतीय टीम ने एकमात्र बार वर्ष 2002 में राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण जीता था।

Share it
Top