द्रविड़ को जाता है मेरी सफलता का श्रेय : हनुमा विहारी

द्रविड़ को जाता है मेरी सफलता का श्रेय : हनुमा विहारी

लंदन। मध्यक्रम के बल्लेबाज हनुमा विहारी ने अपने पदार्पण मैच में अर्धशतक से भारत की लडख़ड़ाती पारी को संभाला, लेकिन उनकी इस सफलता के पीछे तारीफ के असल हकदार पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ हैं। हनुमा ने भारत की पहली पारी में 56 रन की अर्धशतकीय पारी खेली तथा रवींद्र जडेजा के साथ 77 रन की उपयोगी साझेदारी की। हनुमा ने हालांकि पदार्पण अर्धशतक के बाद बताया कि वह मैदान पर उतरने से पहले बहुत घबराये हुये थे इसलिये उन्होंने मैच से पहले द्रविड़ को फोन किया जिन्होंने उन्हें आत्मविश्वास दिलाया।

इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और आखिरी टेस्ट के लिये अंतिम एकादश में ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की जगह शामिल किये गये हनुमा ने कहा कि मैंने अपना पदार्पण करने से पहले राहुल को फोन किया था। उन्होंने मुझसे कुछ मिनट के लिये बात की थी जिससे मुझे कुछ सहज महसूस हुआ। वह एक महान खिलाड़ी हैं और बल्लेबाजी में खासतौर पर उन्होंने मुझे जो बातें सिखायीं उससे मुझे मदद मिली। पूर्व कप्तान द्रविड़ फिलहाल भारत ए टीम के कोच हैं।

24 वर्षीय बल्लेबाज ने कहा कि द्रविड़ ने मुझसे कहा कि तुम्हारे अंदर प्रतिभा है, खेल की समझ है इसलिये मैदान पर जाओ और केवल खेल का मजा लो। मैं द्रविड़ को अपनी सफलता का सबसे अधिक श्रेय दूंगा क्योंकि भारत ए के साथ मेरा सफर बहुत अहम रहा है और उन्होंने मुझे यहां तक पहुंचाने में सबसे अधिक मदद की। द्रविड़ ने मुझे बेहतर खिलाड़ी बनाया है।

आंध्र के क्रिकेटर ने 63 प्रथम श्रेणी और 56 लिस्ट ए मैच खेले हैं। उन्होंने इंग्लिश गेंदबाज का सामना करने को लेकर कहा कि इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड का सामना करने में उन्हें काफी घबराहट हुई। उन्होंने कहा कि मैं सच कहूं तो मुझे शुरूआत में काफी दबाव महसूस हुआ, लेकिन जब मैंने एक बार खेलना शुरू किया तो मेरी घबराहट कुछ कम हुई। मेरी और जडेजा के बीच साझेदारी काफी अहम थी। हनुमा ने कहा कि इंग्लिश गेंदबाज विश्व स्तरीय हैं। ब्रॉड और एंडरसन ने एक साथ करीब 990 विकेट निकाले हैं। वहां मैदान पर जाकर उनके सामने बल्लेबाजी करना आसान नहीं था, लेकिन मैंने सकारात्मक सोच के साथ खेला। खासतौर पर जब विराट मेरे साथ मैदान पर मौजूद थे तो मेरा विश्वास बना हुआ था, क्योंकि तब स्ट्राइक रोटेट करना आसान था। भारतीय खिलाड़ी ने कप्तान विराट की भी उन्हें पदार्पण मैच में मदद करने और खेलने की सलाह देने के लिये धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि विराट मेरे साथ मौजूद थे और उन्होंने भी मुझे मैच में काफी मदद की। उन्होंने मुझे खेल को लेकर बहुत अहम बातें बताई और सहज होकर खेलने की सलाह दी। मुझे उन्हें भी श्रेय देना होगा।

Share it
Top