भारतीय महिला हॉकी टीम पहली बार टॉप 10 में

भारतीय महिला हॉकी टीम पहली बार टॉप 10 में

नयी दिल्ली। भारतीय महिला हॉकी टीम एशिया कप में अपनी खिताबी जीत की बदौलत ताजा एफआईएच विश्व रैंकिंग में दो स्थान के सुधार के साथ 10वें स्थान पर पहुंच गई।
भारतीय टीम पहली बार टॉप-10 में जगह बनाने में सफल हुई है। इससे पहले भारतीय महिला टीम की सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग 11 थी जो उसने वर्ष 2010 में हासिल की थी।
भारत ने जापान के काकामिगाहारा में खेले गए फाइनल में चीन को पेनल्टी शूटआउट में 5-4 से हराकर 13 साल बाद एशिया कप जीता। भारत ने रैंकिंग में स्पेन को 11वें स्थान पर धकेलकर 10वां स्थान हासिल किया। फाइनल में भारत से हारने वाली चीन की टीम पहले की तरह आठवें स्थान पर है। रैंकिंग में टॉप तीन टीमों में कोई बदलाव नहीं हुआ है। विश्व और यूरोपीय चैंपियन हॉलैंड टॉप पर है जबकि इंग्लैंड दूसरे और अर्जेंटीना तीसरे स्थान पर है। पुरुष टीमों की रैंङ्क्षकग में भारत छठे स्थान पर बना हुआ है। पुरुष रैंकिंग में अर्जेंटीना और ऑस्ट्रेलिया क्रमश: पहले और दूसरे स्थान पर हैं। बेल्जियम दो स्थान के सुधार के साथ तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। हॉलैंड चौथे नंबर पर है जबकि जर्मनी की टीम दो स्थान गिरकर पांचवें स्थान पर खिसक गयी है।
रानी ने कहा, कि यह उच्च स्तरीय टूर्नामेंट था और हमने किसी भी समय अपने खेल का स्तर गिरने नहीं दिया। सविता ने सडन डेथ में शानदार बचाव किया और मुझे खुशी है कि मैंने सडन डेथ में विजयी गोल किया। यह जीत पूरे वर्ष की कड़ी मेहनत और हमारे कोचिंग स्टाफ के प्रयासों का परिणाम है।
कप्तान ने साथ ही कहा, कि हम हॉकी इंडिया और साई का उनके सहयोग के लिए धन्यवाद करते हैं। इस जीत से हमें अगले साल होने वाले राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में बेहतर प्रदर्शन करने की प्रेरणा मिलेगी। मुझे पूरा भरोसा है कि हमारी टीम जीत की इस लय को आगे इन दोनों टूर्नामेंट में लेकर जायेगी। कोच हरेन्द्र ङ्क्षसह ने कहा, Þमैंने पिछले महीने मुख्य कोच की जिम्मेदारी संभालने के बाद खिलाडिय़ों की खेल शैली में ज्यादा बदलाव नहीं किया बल्कि मैंने उनकी सोच को बदलने पर काम किया। मैंने लड़कियों से कहा कि वे सब कुछ भूलकर सकारात्मक हॉकी पर ध्यान लगाएं तो अच्छे नतीजे खुद-ब-खुद मिलने लगेंगे। हरेंद्र ने कहा, कि नतीजा आप सबके सामने है। मैं इस जीत का श्रेय किसी एक को नहीं बल्कि पूरी टीम को देता हूं। मैंने खिलाडिय़ों से कहा कि वे एक समय में केवल एक मैच पर ही ध्यान लगाएं और उन्होंने मेरे इस मंत्र को मैदान पर साबित कर दिखाया। हम अपनी योग्यता के आधार पर सीधे महिला विश्व कप के लिए क्वॉलिफाई करने में कामयाब रहे। हम केवल यही नहीं रुकेंगे बल्कि इस लय को आगे ले जाएंगे। भारतीय टीम इस सफलता से विश्व रैंकिंग में 10 वें नंबर पर पहुंच गयी है। हॉकी इंडिया ने एशिया कप का खिताब जीतने वाली 18 सदस्यीय भारतीय महिला टीम की सदस्यों और टीम के कोच हरेंद्र सिंह को एक -एक लाख रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की है। हॉकी इंडिया ने इसके साथ ही सपोर्ट स्टाफ के सदस्यों को भी 50 -50 हजार का नगद पुरस्कार देने की भी घोषणा की है।

Share it
Share it
Share it
Top