नडाल ने मैच छोड़ा, सिलिच सेमीफाइनल में

नडाल ने मैच छोड़ा, सिलिच सेमीफाइनल में

मेलबोर्न। विश्व के नंबर एक खिलाड़ी स्पेन के राफेल नडाल ने क्रोएशिया के मारिन सिलिच के खिलाफ तीन घंटे 47 मिनट तक चले मैराथन संघर्ष के बाद पांचवें सेट में मैच छोड़ दिया जिससे सिलिच ने आस्ट्रेलियन ओपन टेनिस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में जगह बना ली।
मुकाबला बेहद संघर्षपूर्ण रहा और छठी सीड सिलिच ने टॉप सीड नडाल को 3-6, 6-3, 6-7, 6-2, 2-0 से हराया। पहले चार सेट में 2-2 की बराबरी के बाद सिलिच ने निर्णायक सेट में 2-0 की बढ़त बना ली थी कि तभी नडाल ने मैच छोड़ देने का फैसला कर लिया। रॉड लेवर एरेना में नडाल ने चौथे सेट के दौरान अपने कूल्हे की चोट के इलाज के लिये टाइमआउट लिया था और फिर वह मैच में लगातार संघर्ष करते दिखाई दे रहे थे। सिलिच ने चौथा सेट 6-2 से जीतकर मैच में 2-2 की बराबरी कर ली और पांचवें सेट में नडाल की सर्विस ब्रेक करने के बाद 2-0 की बढ़त बना ली। नडाल ने इसके बाद मैच छोडऩे का फैसला किया और चेयर अंपायर तथा सिलिच से हाथ मिलाकर कोर्ट से बाहर चले गये। सिलिच का अब सेमीफाइनल में ब्रिटेन के काइल एडमंड से मुकाबला होगा जिन्होंने एक अन्य उलटफेर में तीसरी वरीय बुल्गारिया के ग्रिगोर दिमित्रोव को 6-4 3-6 6-3 6-4 से हराकर पहली बार ग्रैंड स्लेम सेमीफाइनल में जगह बनाई।
वर्ष 2009 में यहां चैंपियन रह चुके नडाल को दूसरे आस्ट्रेलियन ओपन खिताब की तलाश थी लेकिन 16 बार के ग्रैंड स्लेम चैंपियन नडाल का यह सपना चोट के कारण अधूरा रह गया। हालांकि नडाल पर इस हार से उनकी विश्व रैंकिंग पर कोई असर नहीं पड़ेगा। वह सोमवार को जारी होने वाली नयी रैंकिंग पर नंबर एक स्थान पर बने रहेंगे।
पांचवीं बार ग्रैंड स्लेम सेमीफाइनल में पहुंचे सिलिच की नडाल पर 2009 के चाइना ओपन के बाद यह पहली जीत है। सिलिच यदि फाइनल में पहुंचकर खिताब जीतते हैं तो वह विश्व रैंकिंग में छठे से तीसरे स्थान पर पहुंच जाएंगे। इस बीच दक्षिण अफ्रीका में जन्मे 23 वर्षीय एडमंड ने करियर में पहली बार ग्रैंड स्लेम के सेमीफाइनल में प्रवेश किया है। उन्होंने जबरदस्त सर्विस के लिये मशहूर बुल्गारियाई खिलाड़ी के खिलाफ कमाल के फोरहैंड खेले और दिमित्रोव के 32 की तुलना में 46 विनर्स लगाते हुये रॉड लेवर एरेना में अपने करियर की शानदार जीत दर्ज कर ली। एडमंड ब्रिटेन के मात्र छठे खिलाड़ी भी हैं जिन्होंने मौजूदा पेशेवर टेनिस युग में ग्रैंड स्लेम के सेमीफाइनल में प्रवेश किया है। यह जीत उनके लिये इसलिये भी खास है क्योंकि पूर्व नंबर वन और पांच बार के आस्ट्रेलियन ओपन उपविजेता एंडी मरे के कूल्हे की चोट के कारण टूर्नामेंट से हटने के बाद एडमंड पुरूष ड्रा में अकेले ब्रिटिश खिलाड़ी हैं।
मरे ने भी एडमंड की इस जीत पर उन्हें बधाई दी जो फिलहाल घर पर आराम कर रहे हैं। उन्होंने लिखाÞ कमाल है स्कॉट।Þ स्वीडन के फ्रेडरिक रोसेनग्रेन से कोचिंग ले रहे गैर वरीय ब्रिटिश खिलाड़ी ने तीन घंटे तक संघर्ष के बाद दिमित्रोव के खिलाफ जीत दर्ज की। विश्व में 49वीं रैंकिंग के एडमंड यदि फाइनल तक पहुंचते हैं तो वर्ष 2006 के बाद मरे को पीछे छोड़ ब्रिटेन के नंबर एक खिलाड़ी भी बन सकते हैं।
महिला एकल में भी गैर वरीय खिलाड़ी एलिस मर्टेंस ने चौथी वरीय एलीना स्वीतोलिना को उलटफेर का शिकार बनाकर 6-4 6-0 से जीत दर्ज की और पहले ही प्रयास में मेलबोर्न में अंतिम चार का टिकट कटा लिया। यूक्रेन की स्वीतोलीना की इसी के साथ लगातार नौ मैच जीतने की लय भी टूट गयी और बेल्जियन खिलाड़ी ने एकतरफा अंदा•ा में उन्हें हराया। विश्व की 37वें नंबर की खिलाड़ी ने 26 विनर्स लगाये और बैकहैंड के साथ 73 मिनट में ही अपने करियर के पहले ग्रैंड स्लेम सेमीफाइनल में जगह पक्की कर ली।
22 वर्षीय खिलाड़ी ने जीत के साथ ही कोर्ट पर जमकर नाचते हुये अपनी जीत का जश्न भी मनाया और अपने कोच तथा प्रेमी रॉबी सेसेने को स्टैंड में'फ्लांइग किसÓभी दी। वह वर्ष 2012 में किम क्लिस्टर्स के बाद मेलबोर्न में अंतिम चार में पहुंची बेल्जियम की पहली महिला खिलाड़ी हैं और अब कैरोलीन वोज्नियाकी या कार्ला सुआरे•ा नवारो से मुकाबले में उतरेंगी।

Share it
Share it
Share it
Top