रोमांचक मैच में गोवा को हरा फाइनल में पहुंची चेन्नई

रोमांचक मैच में गोवा को हरा फाइनल में पहुंची चेन्नई

नई दिल्ली। अल्टीमेट टेबल टेनिस (यूटेटे) के तीसरे सीजन के दूसरे सेमीफाइनल में शनिवार रात को चेन्नई लायंस ने बेहद रोमांचक मुकाबले में गोवा चैलेंजर्स को 8-7 से हरा फाइनल में जगह बना ली। त्यागराज स्टेडियम में खेला गया यह मुकाबला आखिरी मैच से पहले 6-6 से टाई था, लेकिन चेन्नई की मधुरिका पाटकर ने महिला एकल वर्ग के मैच में गोवा की अर्चना कामथ के हाथों पहला गेम गंवाने के बाद आखिरी दोनों गेम जीत अपनी टीम को फाइनल में पहुंचा दिया। दिन के पहले मैच में महिला एकल वर्ग में चेन्नई की पेट्रीस सोल्जा के सामने गोवा की चेंग आई चिंग थीं। सोल्जा ने अभी तक इस टूर्नामेंट में शानदार खेल दिखाया था, लेकिन चेंग ने इस मैच में उनकी एक न चलने दी और 3-0 (11-7, 11-9, 11-9) से मात दी। गोवा ने दूसरे मैच में भी अपने विजयी क्रम को जारी रखा। गोवा के अल्वारो रोबेल्स ने चेन्नई के टिएगो अपोलोनिया को 2-1 (11-10, 6-11, 11-3) से हरा दिया। सेमीफाइनल मैच के नियमों के मुताबिक, गोवा फाइनल में पहुंचने से तीन अंक से दूर थी। अगर वह मिश्रित युगल के अगले मैच में तीनों गेम जीत लेती तो फाइनल में पहुंच जाती, लेकिन ऐसा हुआ नहीं और चेन्नई के अंचत शरत कमल तथा सोल्जा की जोड़ी ने गोवा के अमलराज एंथोनी और चेंग की जोड़ी को 3-0 (11-5, 11-4,11-8) से हरा अपनी टीम को मैच में वापस ला दिया। इस जीत के बाद चेन्नई के चार अंक हो गए थे, जबकि गोवा के पांच अंक थे। सेमीफाइनल में जो टीम पहले आठ अंक लेती है, वह मुकाबला अपने नाम करती है। सेमीफाइनल का रोमांच अब असल मायने में कोर्ट पर था और काफी कुछ पुरुष एकल वर्ग के अगले मैच पर था। चेन्नई की जिम्मेदारी शरत पर थी तो वहीं गोवा ने एंथोनी को उतारा था। एंथोनी ने पहला गेम 11-5 से जीत लिया, लेकिन शरत ने अगले दो गेम 11-9, 11-10 से जीत मैच 2-1 से अपने नाम किया और स्कोर 6-6 से बराबर कर दिया। मुकाबले का आखिरी मैच महिला एकल वर्ग का था और इस मैच में दोनों टीमों की जीत दांव पर थी। जो टीम दो गेम जीतती, उसके हिस्से फाइनल की जमीन आती। चेन्नई की मधुरिका पाटकर और गोवा की अर्चना कामथ आमने-सामने थीं। अर्चना ने पहला गेम 11-6 से जीत अपनी टीम को एक बार फिर आगे कर दिया, लेकिन मैच में रोमांच कम नहीं हो रहा था, क्योंकि मधुरिका ने दूसरे गेम में एकतरफा खेल दिखाते हुए यह गेम 11-8 से जीत मैच का कुल स्कोर एक बार फिर 7-7 से बराबर कर दिया। तीसरे गेम में भी मधुरिका अपनी बादशाहत कायम रखने में सफल रहीं और यह निर्णायक गेम मधुरिका ने 11-10 से जीत चेन्नई को इस मैच को 2-1 से जिता कर फाइनल में पहुंचा दिया।

Share it
Top