भारतीय महिलाएं पाकिस्तान को भी धोने के इरादे से उतरेंगी

भारतीय महिलाएं पाकिस्तान को भी धोने के इरादे से उतरेंगी

गयाना। आईसीसी महिला क्रिकेट विश्व कप ट्वंटी-20 टूर्नामेंट में विस्फोटक शुरुआत करने के बाद भारतीय महिला क्रिकेट टीम चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ रविवार को होने वाले अपने दूसरे मुकाबले में ऐसा ही शानदार प्रदर्शन करने के इरादे से उतरेगी।

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

भारतीय टीम ने ग्रुप बी मैच में अपना पहला मैच जीत लिया है जबकि पाकिस्तान को अपने पहले मैच में ऑस्ट्रेलिया के हाथों एकतरफा हार का सामना करना पड़ा है। भारतीय टीम यदि पाकिस्तान को हरा देती है तो 2010 के बाद पहली बार उसकी सेमीफाइनल में जाने की संभावनाएं मजबूत हो जाएंगी। भारत को पाकिस्तान के बाद आयरलैंड और ऑस्ट्रेलिया से खेलना है। विश्व कप के अपने पहले मुकाबले में भारत ने शानदार प्रदर्शन किया और कप्तान हरमनप्रीत कौर (103) के विस्फोटक शतक और स्पिन गेंदबाजों के लाजवाब प्रदर्शन से न्यूजीलैंड को 34 रन से पीट दिया। भारत ने पांच विकेट पर 194 रन का मजबूत स्कोर बनाने के बाद न्यूजीलैंड को 20 ओवर में नौ विकेट पर 160 रन पर रोक दिया।

दूसरी तरफ पाकिस्तान को ऑस्ट्रेलिया के हाथों 52 रन से हार का सामना करना पड़ा। ऑस्ट्रेलिया ने पांच विकेट पर 165 रन बनाने के बाद पाकिस्तान को आठ विकेट पर 113 रन पर रोक दिया। पाकिस्तान को यदि टूर्नामेंट में बने रहना है तो उसे भारत के खिलाफ बेहतर प्रदर्शन करना होगा।
भारतीय स्पिन गेंदबाजों ने कीवी टीम के खिलाफ हर लिहाज से बेहतर प्रदर्शन किया और विपक्षी टीम को अच्छी शुरुआत के बावजूद बांध दिया।पदार्पण मैच खेल रही ऑफ स्पिनर दयालन हेमलता ने बेहतरीन गेंदबाजी की और चार ओवर में 26 रन देकर तीन विकेट लिए। लेग स्पिनर पूनम यादव ने चार ओवर में 33 रन पर तीन विकेट लिए जबकि लेफ्ट आर्म स्पिनर राधा यादव ने 31 रन पर दो विकेट लिए। प्लेयर ऑफ द मैच रही भारतीय कप्तान हरमनप्रीत ने गजब का प्रदर्शन किया और मात्र 51 गेंदों पर 103 रन की आतिशी पारी में सात चौके और आठ गगनचुम्बी छक्के ठोक डाले। हरमनप्रीत का ट्वंटी-20 में यह पहला शतक था और उनकी इस पारी ने पाकिस्तानी टीम को दहशत में डाल दिया होगा।
भारत का ट्वंटी-20 में पाकिस्तान के खिलाफ शानदार रिकॉर्ड है। भारत ने पाकिस्तान से 10 मैचों में आठ मैच जीते हैं और दो हारे हैं। भारतीय टीम चिर प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ इस रिकॉर्ड को कायम रखना चाहेगी।

Share it
Top