कुक ने ओवर थ्रो के लिये किया बुमराह का शुक्रिया

कुक ने ओवर थ्रो के लिये किया बुमराह का शुक्रिया

लंदन। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर चुके इंग्लैंड के ओपनर एलेस्टेयर कुक ने अपनी अंतिम टेस्ट पारी में 33वां शतक पूरा करने के लिए भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह का शुक्रिया अदा किया है। दरअसल, भारत के खिलाफ सीरीज के पांचवें और अंतिम टेस्ट में सोमवार को इंग्लैंड की दूसरी पारी के दौरान कुक जब 96 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे तभी रवीन्द्र जडेजा की गेंद पर कुक एक रन के लिए भागे। बुमराह ने गेंद को पकडऩे के बाद ओवरथ्रो कर दिया और वह चौके के लिए बाउंड्री के लिए चली गयी। जिसके कारण कुक को पांच रन मिल गए और उन्होंने अपनी अंतिम पारी में 33वां टेस्ट शतक बनाने के साथ ही करियर के आखिरी टेस्ट को यादगार बना दिया।

कुक ने कहा, कि जब मैं एक रन लेने के बाद 97 के स्कोर पर था। जैसे ही बुमराह ने ओवर थ्रो किया मैंने सोचा थोड़ा रुकता हूं, फिर मैंने रवि (जडेजा) को आस-पास नहीं देखा। तब मैंने सोचा थोड़ा रुकता हूं। देखिए उस ओवरथ्रो ने मुझे अपना शतक पूरा नहीं कर पाने की तकलीफ से बचा लिया। कुक ने कहा कि यदि चेतेश्वर पुजारा ओवरथ्रो को रोक लेते तो उन्हें काफी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता क्योंकि कुक ने अपने शतक का जश्न मनाना शुरू कर दिया था। इंग्लिश बल्लेबाज ने कहा, ओवरथ्रो ने मुझे नर्वस नाइन्टीज का शिकार होने से बचा लिया। बुमराह ने सीरीज के दौरान अपनी गेंदबाजी से मुझे कई बार परेशान किया है। लेकिन इस ओवरथ्रो के लिए मैं बुमराह को धन्यवाद दूंगा।

कुक और कप्तान जो रूट ने अपनी-अपनी शतकीय पारी से इंग्लैंड को सीरीज के अंतिम टेस्ट में मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया है। इंग्लिश बल्लेबाज ने कहा, जो रूट ने कुछ नहीं कहा। वह केवल मुस्कुरा रहे थे। शतक पूरा करने के बाद स्टेडियम में मौजूद दर्शकों का अभिवादन आश्चर्यजनक था। शतक पूरा करने के बाद के 10 मिनट दिल को छू लेने वाले रहे। 33 वर्षीय बल्लेबाज ने कहा, मैं पिछले कुछ दिनों से जिस भावनात्मक दौर से गुजर रहा हूं उसका वर्णन नहीं कर सकता। यह चार दिन मेरी जिन्दगी के सबसे यादगार दिन रहे। जब स्टेडियम में मौजूद दर्शक खड़े होकर बार्मी आर्मी गाना गा रहे थे, वह मेरे लिए बहुत ही विशेष क्षण थे। कुक ने कहा कि इस अवसर पर दोस्तों और परिजनों का मौजूद होना बहुत ही खास रहा। कुक ने कहा कि 161 टेस्ट मैच खेलने के बाद इस तरह शतक बनाकर मेरे लिए यह दिन यादगार बना दिया।

Share it
Top