क्वार्टरफाइनल के लिये भारतीय महिलाओं को लड़ानी होगी जान

क्वार्टरफाइनल के लिये भारतीय महिलाओं को लड़ानी होगी जान

लंदन। भारतीय महिला हॉकी टीम ने उतार चढ़ाव के दौर से गुजरते हुये महिला हॉकी विश्वकप टूर्नामेंट के क्वार्टरफाइनल में पहुंचने की अपनी उम्मीदों को जिंदा रखा है और अंतिम आठ में जाने के लिये उसे मंगलवार को इटली की चुनौती से जूझना होगा।

भारत पूल बी में आयरलैंड(6) और ओलंपिक चैंपियन इंग्लैंड(5) के बाद दो अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहा। टूर्नामेंट में हर पूल की शीर्ष टीम को सीधे क्वार्टरफाइनल में प्रवेश मिला है जबकि पूल बी दूसरे और तीसरे नंबर की टीम को दूसरे पूल की दूसरे और तीसरे नंबर की टीमों को क्रॉस मैच खेलना है। इन क्रॉस मैचों में विजेता टीम को फिर क्वार्टरफाइनल में पहले से मौजूद टीमों से खेलने का हक मिलेगा। भारत ने जहां अपने पूल में तीन मैचों में दो ड्रॉ खेले हैं और एक हारा है जबकि इटली ने तीन मैचों में दो जीते और एक में उसे पराजय मिली है। इटली के इस रिकार्ड को देखते हुये भारत के लिये क्वार्टरफाइनल की राह कतई आसान नहीं है। भारतीय टीम गोल करने के मामले में उतनी सक्षम नहीं दिखाई दे रही है जितना उसे विश्वकप में होना चाहिये। उसने इंग्लैंड से पहला मैच 1-1 से ड्रॉ खेला, दूसरे मैच में आयरलैंड से 0-1 की हार झेली और फिर तीसरे मैच में अमेरिका से 1-1 का ड्रॉ खेला। यानि तीन मैचों में अब तक भारतीय टीम सिर्फ दो गोल कर पायी है।

दूसरी ओर इटली ने चीन को 3-0 और कोरिया को 1-0 से हराया है जबकि हॉलैंड से उसे 1-12 की हार झेलनी पड़ी। भारतीय टीम इटली के हॉलैंड के खिलाफ प्रदर्शन से हौसला ले सकती है कि वह इस टीम को मात देने में कामयाब होगी। लेकिन इसके लिये कप्तान रानी रामपाल सहित टीम की सभी खिलाड़यिों को गोल करने पर अपना ध्यान केंद्रित करना होगा। रानी ने ही अमेरिका के खिलाफ 31वें मिनट में बराबरी का गोल दागा था।

रानी ने इटली के खिलाफ मुकाबले की पूर्व संध्या पर कहा,Þ हमें अपने खेल पर ध्यान लगाना होगा। हमें अपनी ताकत के हिसाब से खेलना होगा और यह देखना होगा कि हम अपने सकारात्मक पहलुओं का पूरी तरह इस्तेमाल कर सकें। यह हमारे लिये निर्णायक मुकाबला है और हम जीतकर ही क्वार्टरफाइनल में पहुंच सकते हैं।Þ

अमेरिका के खिलाफ रविवार को खेले गये आखिरी ग्रुप मैच में टीम के प्रदर्शन पर रानी ने कहा,Þ जब हमारी टीम बैठक हुई थी तो हमने विचार किया था कि यह किस तरह हमारे लिये करो या मरो का मुकाबला है। हम जानते थे कि हमारे लिये ड्रॉ काफी होगा लेकिन हम जीत के इरादे से उतरे थे और इसी जीत की भूख से हमें अमेरिका के खिलाफ मदद मिली। मुझे गर्व है कि हमारी टीम अमेरिका के खिलाफ अच्छा खेली और अब हमें इटली के खिलाफ ऐसे ही प्रदर्शन की जरूरत है।

कप्तान रानी ने कहा, टीम इटली का पूरी गंभीरता के साथ लेगी और 2015 हॉकी वल्र्ड लीग सेमीफाइनल टूर्नामेंट में इटली के खिलाफ शूटआउट में मिली जीत से प्रेरणा लेगी। इटली एक अच्छी टीम है और टूर्नामेट में उसका अब तक प्रदर्शन अच्छा रहा है लेकिन मुझे विश्वास है कि हम इस टीम को हरा सकते हैं। भारत और इटली का मंगलवार को मुकाबला भारतीय समयानुसार रात साढ़े 10 बजे खेला जाएगा।

Share it
Share it
Share it
Top