जीजा-साली का नाजुक रिश्ता न बिगड़े

जीजा-साली का नाजुक रिश्ता न बिगड़े

हमारे समाज में जीजा-साली का रिश्ता अत्यन्त नाजुक माना गया है। इस रिश्ते में छेड़छाड़ को सामाजिक मान्यता मिली हुई है लेकिन कभी-कभी पति और बहन के बीच यह रिश्ता अपनी मर्यादाओं को भूलने लगता है।

ऐसे में बड़ी दिक्कत आती है जिससे पत्नी को ही जूझना पड़ता है क्योंकि एक तरफ होता है उसका पति जिसके साथ वह रहती है और दूसरी तरफ उसकी बहन जिसके साथ भी रिश्ता बिगाड़ा नहीं जा सकता। उन दोनों की सीमाएं लांघने की गलती को भला वह कैसे बर्दाश्त कर सकती है। दोनों तरफ भी ठेस उसी को पहुंचती है।

हालांकि समाज में जीजा-साली के बीच हल्की-फुल्की छेड़छाड़, मजाक, गप्पें आदि मान्य हैं मगर कभी-कभी यह छेड़छाड़ गलत रूप धारण कर लेती है जिससे दो परिवारों की मर्यादाएं दांव पर लग जाती है। इससे रिश्तों में टकराव उत्पन्न होता है और अविश्वास बढ़ता है।

यदि पति मनचला है और बहन नादान तो आपको ज्यादा चौकस होने की जरूरत है।

ऐसे में अपने पति के मनचले व्यवहार पर रोक लगाएं। उसे प्यार से समझाएं और रिश्तों की मर्यादा को बनाए रखने के लिए कहें। अपने पति को अपनी बहन के साथ अकेला रहने का मौका ही न दें।

ऐसा भी नहीं होना चाहिए कि अपने पति पर हर समय शक की सुई दौड़ाती रहें। उसका आपकी बहन से मजाक करना हमेशा गलत नहीं हो सकता। समाज में जीजा-साली के बीच हंसी-मजाक को बिलकुल गलत माना ही नहीं गया है। वे हंसी-मजाक करेंगे ही। अपने पति पर बेवजह शक न करें। यह न मानें कि ऐसा है तो जरूर उनके बीच कुछ चल रहा है।

हर रिश्ते की एक मर्यादा होती है और फिर इस रिश्ते में तो मजाक चलता ही है अत: बेवजह पति पर शक करके उनका दिल नहीं तोडऩा चाहिए। इससे आपकी बहन पर भी दोष लगेगा। दोनों परिवारों में खटास उत्पन्न हो जाएगी। आप न मायके में सिर ऊंचा कर सकेंगी, न ससुराल में मुंह दिखा पायेंगी, इसलिए पहले अपने शक को साबित कर लें तभी अपनी पति से कुछ कहें।

अपनी बहन और पति पर जरूरत से ज्यादा विश्वास न करें। वे गलत कदम उठाएं, इससे पहले ही उनके मिलने-जुलने की सभी संभावनाओं पर ताले लगा दें। इससे सबकी मान-मर्यादा बनी रहेगी, बिगड़ेगी नहीं।

यदि पति व बहन में से कोई भी न माने तो अपने परिवार वालों के सामने यह समस्या रख दें। अपने माता-पिता को अपनी परेशानी बतायें। वे जरूर इसका कोई हल निकालेंगे। जल्दी से जल्दी अपनी बहन की शादी कहीं करा देने पर जोर दें। इससे उसका भी घर बस जायेगा और आपका घर भी उजडऩे से बच जायेगा। सभी की इज्जत बनी रहेगी और रिश्तों में भी कटुता उत्पन्न नहीं होगी।

- शिखा चौधरी

Share it
Top