महिला व पुरूष ने किया 6 साल के बच्चे का अपहरण, घटना सीसीटीवी में कैद

नोएडा। सेक्टर 53 गिझोड़ से 9 जुलाई को 6 साल के बच्चे को एक महिला समेत दो लोग अपरहण कर ले गए। परिजनों ने बच्चे की काफी खोजबीन की। लेकिन उसका पता नहीं चल सका। परिजनों ने कोतवाली सेक्टर 24 में बच्चे की गुमशुदगी दर्ज करा दी। परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने लापरवाही बरती और बच्चे की खोजबीन में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। परिजनों ने फेज-2 स्थित चाइल्ड वेलफेयर कमेटी (सीडब्ल्यूसी) के अधिकारियों को जानकारी दी। सीडब्ल्यूसी सदस्यों ने इस मामले को सीनियर पुलिस अधिकारियों तक पहुंचाया तब पुलिस ने गंभीरता से लिया। पुलिस ने शुक्रवार को बच्चे के घर के आस-पास लगे दो दर्जन से अधिक सीसीटीवी कैमरे की फुटेज की जांच की। एक फुटेज में एक युवक बच्चे को गोद में उठाकर जाता हुआ दिख रहा है। साथ में एक महिला भी है। पुलिस ने अब आरोपी युवक और महिला की तलाश शुरू कर दी है।

मंदिर में बहन से मिलने जा रहा था तभी हुआ अगवाः 6 साल का मासूम परिवार के साथ गिझोड़ में रहता है। बच्चे के पिता नरेंद्र कुल्फी बनाने और उसे बेचने का काम करते हैं। उत्कर्ष अपनी बड़ी बहन के साथ 9 जुलाई की शाम को घर से कुछ दूरी पर ही शिव शक्ति दुर्गा मंदिर में गया था। वहां से प्रसाद लेकर वह पहले घर चला आया था। उस समय बड़ी बहन मंदिर में ही रुक गई थी। घर आने के बाद उत्कर्ष प्रसाद खाया और फिर बहन से मिलने के लिए अकेले ही मंदिर जाने लगा। वह अपने घर से 50 कदम की दूरी पर पहुंचा था तभी गली में एक युवक व महिला मिले। युवक ने ही बच्चे को गोद में उठाकर अगवा कर लिया।

पुलिस ने बरती मामले में लापरवाही, अपरहरण के 24 घंटे बाद दर्ज की रिपोर्टः परिजनों ने बताया कि 9 जुलाई की शाम 7 बजे बच्चे के अगवा होने के थोड़ी देर बाद उनकी बहन घर लौटी। जिसके बाद उन्हें बच्चे के लापता होने का पता चला। इसके बाद परिजन बच्चे की तलाश में 3 घंटे तक गिझोड़ की गली-गली में भटके। बच्चे की काफी खोजबीन की गई। लेकिन उसका पता नहीं चल सका। इसके बाद उन्होंने कोतवाली सेक्टर 24 पुलिस को उसी दिन रात 10 बजे मामले की सूचना दी गई है। पुलिस ने उनसे कहा कि घर के आस-पास ढूंढों मिल जाएगा। पुलिस ने करीब 24 घंटे बाद 10 जुलाई को करीब 7 बजे रिपोर्ट दर्ज की है।

शुक्रवार को परिजनों ने सीडब्ल्यूसी में की शिकायत तब पुलिस हुई सक्रियः घटना को लेकर पुलिस की सक्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बच्चे के अपहरण होने के 48 घंटे बाद भी कोई छानबीन नहीं की थी। बच्चे के मामा ने बताया कि कई बार थाने के चक्कर लगाने के बाद भी पुलिस ने कोई पड़ताल नहीं की तब परिजनों ने फेज-2 स्थित चाइल्ड वेलफेयर कमेटी (सीडब्ल्यूसी) के अधिकारियों को जानकारी दी। सीडब्ल्यूसी सदस्यों ने इस मामले को सीनियर पुलिस अधिकारियों तक पहुंचाया तब पुलिस ने गंभीरता से लिया।

पुलिस ने दर्जनों सीसीटीवी खंगाले तब 12 जुलाई को दोनों संदिग्धों का पता चलाः शुक्रवार को सक्रियता दिखाते हुए गिझोड़ में दर्जनों सीसीटीवी कैमरों की जांच की। एसएचओ प्रदीप त्रिपाठी ने बताया कि इस दौरान एक सीसीटीवी में बच्चे को उठाकर ले जाते हुए युवक व महिला देखे गए। जिसके बाद पुलिस ने उन दोनों की तलाश शुरू की। जिले और आसपास के शहर में भी बच्चे की तलाश के लिए पुलिस स्टेशन से मदद ली जा रही है।

Share it
Top