दस साल की रंजिश में हुए गैंगवार में घायल हुए हरिनाथ ने भी तोड़ा दम

दस साल की रंजिश में हुए गैंगवार में घायल हुए हरिनाथ ने भी तोड़ा दम

नोएडा। सेक्टर 46 गार्डेनिया गैलेरिया सोसायटी स्थित एक बैंक के सामने वीरवार रात गैंगवार में घायल हुए दूसरे युवक हरिनाथ की शुक्रवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। जबकि गैंगवार में हरिनाथ के साथी बदमाश अनिल की मौके पर ही मौत हो गई थी। मृतक अनिल के भाई पुष्पेंद्र ने अपने गांव के ही शंभूनगर निवासी सत्येंद्र ऊर्फ भोलई, छोटना और हरिशंकर के खिलाफ कोतवाली सेक्टर 39 में नामजद मुकदमा दर्ज कराया है। आरोपी व पीड़ित पक्ष के बीच 10 सालों से रंजिश चली आ रही है। पुष्पेंद्र ने बताया कि मेरे भाई अनिल और हरिनाथ की हत्या इन्हीं तीनों ने की है। एसएसपी डा. अजयपाल शर्मा ने बताया कि सफदरजंग अस्पताल में भर्ती उरावर, फिरोजाबाद निवासी हरिनाथ की मौत इलाज के दौरान हो गई। वीरवार को अनिल की मौत हो गई थी। फिरोजाबाद का बदमाश अनिल अपने दोस्तों हरिनाथ और कर्मवीर के साथ नोएडा नौकरी की तलाश में आया था। वीरवार शाम को तीनों पैदल सेक्टर-46 की तरफ जा रहे थे तभी बाइक सवार दो बदमाशों ने अनिल व हरिनाथ को गोली मार दी थी। वहीं कर्मवीर बाल बाल बच गया था। कर्मवीर गार्डन गैलेरिया सोसाइटी के बेसमेंट में घुस गया। तो उसकी जान बच गई। बाद में सोसाइटी के गार्डों ने कर्मवीर को पुलिस के हवाले कर दिया था। पुलिस कर्मवीर से पूछताछ कर रही है। इस घटना के बाद जब मृतक की पहचान कुख्यात बदमाश अनिल के रूप में हुई तो मामले से पर्दा उठता गया। जब अनिल का भाई पुष्पेंद्र नोएडा पहुंचा तो उसने पुलिस को बताया कि उसके भाई की हत्या रंजिशन की गई है।

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

दस साल से चली आ रही है रंजिशः पुष्पेंद्र ने बताया कि वर्ष 2008 में बाइक हटाने को लेकर उसके सबसे बड़े भाई चंद्रपाल और भोलई के बीच विवाद हुआ था। इसमें भोलई ने चंद्रपाल की हत्या कर दी थी। इसका बदला पुष्पेंद्र के मंझले भाई अनिल ने भोलई के चाचा जवाहर की हत्या कर ली। इसके बाद अनिल व भोलई पर हत्या से लेकर कई मुकदमें दर्ज हो गए। वर्ष 2008 में ही भोलई और फिरोजाबाद पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई। इसमें एक कांस्टेबल मारा गया था। इसके बाद भोलई और अनिल जेल में रहा। अभी दोनों जेल से बाहर हुए थे। इसी दौरान अनिल व उसके साथी हरिनाथ की हत्या कर दी गई। इसमें भोलई सहित तीन लोगों को आरोपी बनाया गया है।

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

बंटू की तलाश कर रही पुलिसः इस घटना के बाद पुलिस बंटू नामक शख्स की तलाश हो रही है। बताया जाता है कि बंटू ने ही इस पूरे घटनाक्रम को अंजाम दिलाया है। उसने ही सारी मुखबिरी से लेकर अन्य तरह के इंतजाम भोलई के लिए कराया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार बंटू भी फिरोजाबाद का रहने वाला है। पुलिस की टीम बंटू के बारे में पता कर रही है।

5 दिसंबर को काम की तलाश में आए थे नोएडाः मृतक के भाई पुष्पेंद्र ने बताया कि उसके भाई अनिल अपने साथियों हरिनाथ और कर्मवीर के साथ 5 दिसंबर को नोएडा आए थे। यहां नौकरी की तलाश कर रहे थे। इसी दौरान तीनों छलेरा व सदरपुर आए थे और वहां से जा रहे थे। तभी सेक्टर-46 के पास बदमाशों ने अनिल व हरिनाथ को गोली मार दी। साथ में चल रहा कर्मवीर किसी तरह से भाग गया।

मृतक अनिल व भोलई ने बनाया था गिरोह, जेल में रहने पर हुआ कमजोरः अनिल व भोलई की गिनती फिरोजाबाद के बड़े बदमाशों में होती है। दोनों ने अपने साथ कई गुर्गे पाल रखे थे। इन दोनों के पास अच्छे खासे लोग थे। हालांकि करीब आठ साल तक दोनों जेल में रहे तो इनका गिरोह कमजोर हो गया और आर्थिक संकट भी आ गया। इसके बाद अनिल की हालत खराब हो गई और पुलिस से बचने और आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए नोएडा में नौकरी ढढने आया था।

रॉयल बुलेटिन की नई एप प्ले स्टोर पर आ गयी है।royal bulletin news लिखे और नई app डाउनलोड करें

Share it
Top