घर से बाहर खुले खेतों में नहीं लगाये जा सकेंगे सौर ऊर्जा संयंत्र: हाईकोर्ट

घर से बाहर खुले खेतों में नहीं लगाये जा सकेंगे सौर ऊर्जा संयंत्र: हाईकोर्ट

नैनीताल । उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने साैर ऊर्जा का प्रयोग करने वाले लोगों को घर के बाहर खाली जमीन और कृषि भूमि पर इस संयंत्र को लगाने की इजाजत नहीं दी है। अमूमन घरों इसे घरों की छतों पर लगाये जाने वाले सोलर ऊर्जा संयंत्र को अब छत ही नहीं घर परिसर के किसी भी कोने में लगाया जा सकता हैं।
राज्य सरकार केन्द्र की सौर ऊर्जा योजना को लोकप्रिय बनाने एवं आम जनता तक पहुंचाने के लिये राज्य में छोटी छोटी योजाना को संचालित कर रही है। केन्द्र सरकार इस योजना के तहत लाभार्थियों को 30 प्रतिशत छूट भी प्रदान कर रही है। केन्द्र सरकार के अधिवक्ता ललित शर्मा ने कहा कि योजना की शर्तों के अनुसार सौर ऊर्जा योजना के तहत लगने वाला संयंत्र घरों की छतों पर ही लगाया जाता है जबकि प्रदेश में कुछ लोगों ने ऊर्जा संयंत्र को खुले मैदानों एवं खेतों में लगाया हुआ है।
सरकार शर्ताें का उल्लंघन करने वाले ऐसे लोगों एवं लाभार्थियाें के इस कदम का विरोध कर रही है। श्री शर्मा ने बताया कि तीन लाभार्थियों ने सरकार के इस कदम को चुनौती दी। याचिकाकर्ताओं की ओर से सरकार के कदम को गलत बताया गया। न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकलपीठ में तीनों मामलों की एक साथ सुनवाई हुई।
सुनवाई के बाद पीठ ने कहा कि सौर ऊर्जा संयंत्र एवं उससे संबंधित उपकरणों को घरों की छतों के साथ साथ घर के परिसर के किसी कोने पर भी लगाया जा सकता है लेकिन पीठ ने परिसर से बाहर खुले मैदान एवं खेतों में इसके लगाने से इन्कार कर दिया।

Share it
Share it
Share it
Top