मैत्री बस सेवा भारत, नेपाल रिश्तों को और मजबूत करेगी: योगी

मैत्री बस सेवा भारत, नेपाल रिश्तों को और मजबूत करेगी: योगी

अयोध्या। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि नेपाल और अयोध्या के बीच शुरू हुई बस सेवा से दोनों देश के रिश्तों में और मजबूती आयेगी। योगी आज सरयू तट के किनारे स्थित रामकथा पार्क में आयोजित एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा " भारत और नेपाल दो शरीर एक आत्मा हैं जिसका सीधा सम्बन्ध मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्रीराम व माता जानकी से है। इसलिये नेपाल के जनकपुर से अयोध्या के लिये शुरू हुई बस सेवा से दोनों के रिश्ते और मजबूत होंगे। "
उन्होंने कहा कि पडोसी देश से रिश्तों को और अधिक मजबूती प्रदान करने के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हजारों वर्षों की इस सांस्कृतिक सम्बन्धों की यात्रा को प्रारम्भ कराकर नया आयाम दिया। इससे दोनों देशों में अच्छे सम्बन्ध भी स्थापित होंगे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हजारों वर्ष पहले भारत और नेपाल सामाजिक सम्बन्धों से जुड़े थे। बहुत से लोग आये होंगे लेकिन उन लोगों ने दोनों देशों के भावनात्मक और सांस्कृतिक सम्बन्धों को मजबूत करने के लिये कोई कार्य नहीं किया। प्रधानमंत्री मोदी ने काशी से काठमाण्डू और अयोध्या से जनकपुर को सीधी बस सेवा से जोडऩे का काम किया है।
उन्होंने कहा " जब भगवान राम जनकपुर गये होंगे तो उस समय परिस्थितियां कैसी रही होंगी तथा आज की परिस्थिति कैसी हैं, समय और परिस्थितियां बदली होगी फिर भी नेपाल तथा भारत के सामाजिक सम्बन्ध वैसे ही हैं जैसे महाराजा दशरथ के समय रहे होंगे। "
योगी ने कहा कि नेपाल भारत के सांस्कृतिक सम्बन्धों को कभी अलग नहीं किया जा सकता। जिस प्रकार काशी का संबंध पशुपतिनाथ मंदिर से आैर जनकपुर का अयोध्या से है। ऐसी अनेकों कडिय़ां भारत व नेपाल को जोड़ती हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सांस्कृतिक सम्बन्ध राजनीतिक सम्बन्ध की अपेक्षा ज्यादा मजबूत होते हैं। दोनों देशों के सम्बन्ध आगे भी अटूट बने रहेंगे। इस कड़ी को और आगे बढ़ाने के लिये मैत्री बस सेवा शुरू की गयी है जिसमें नेपाल के मंत्री, उच्चाधिकारी व तीर्थ यात्री अयोध्या आये हैं।
उन्होंने बताया कि यह लोग अयोध्या का महत्वपूर्ण स्थलों को देखेंगे तथा विवादित श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला का दर्शन भी करेंगे। योगी ने कहा कि अयोध्या के लोगों के लिये यह बहुत अच्छा अवसर है कि इन लोगों की अच्छी तरीके से खातिरदारी करें।
श्री योगी ने कहा कि केन्द्र तथा प्रदेश सरकार ने अयोध्या के विकास को आगे बढ़ाने का काम किया है। दीपावली पर्व का सम्बन्ध अयोध्या से है। सरकार ने दीपोत्सव पर्व प्रारम्भ कर यहाँ की पहचान को पुन: जीवित करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि इस बार दीपोत्सव पर्व अयोध्या में और अधिक भव्यता के साथ मनाया जायेगा।
इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नेपाल देश के जनकपुर से अयोध्या के लिये प्रारम्भ की गयी सीधी मैत्री बस सेवा का आज मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की नगरी पहुँचने पर भव्य स्वागत किया और कहा कि यह ऐतिहासिक स्वागत है क्योंकि माता सीता के मायके जनकपुर से आये हुए लोग बहुत ही अद्भुत दिखे।
प्रदेश सरकार की पर्यटन मंत्री प्रोफेसर रीता बहुगुणा जोशी ने भी सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनकपुर की माटी की सुगंध लेकर यह तीर्थ यात्री आज नेपाल से आये हैं। हम लोगों का नेपाल से सम्बन्ध त्रेता युग से रहा है। धार्मिक सांस्कृति, ऐतिहासिक दृष्टि से हमें कोई अलग नहीं कर सकता क्योंकि हम एक ही माटी के हैं।
जिले के प्रभारी और औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि जनकपुर से अयोध्या के लिए सीधी मैत्री बस सेवा शुरू होने से इतिहास की एक नयी कड़ी प्रारम्भ हुई है। हम लोगों ने जिस धरती पर जन्म लिया वह देव भूमि है। नेपाल देश का सम्बन्ध बेटी और रोटी का है जो युगों-युगों से चला आ रहा है। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध से दोनों देशों के रिश्ते मजबूत होंगे।
नेपाल के मंत्री सरोज कुमार कुशवाहा एवं मंत्री ऊषा यादव ने कहा कि रामलला की जन्मभूमि पर दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। इसके लिये हम सब अपने आपको भाग्यशाली समझते हैं। अयोध्या जनकपुर का रामायण कालीन सम्बन्ध पुन: जीवित हुआ है।
श्री कुशवाहा ने कहा कि दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों ने मैत्रिक बस सेवा के माध्यम से सम्बन्धों को मजबूत कराया। यह सम्बन्ध सदा के लिये अटूट तथा अपने आप में मर्यादित रहेगा। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार राम सीता का विवाह ऐतिहासिक रहा उसी तरह यह सम्बन्ध भी अमिट रहेगा। नेपाल के मंत्री सरोज कुमार कुशवाहा एवं ऊषा यादव तथा नेपाल की उप महापौर रीता कुमारी मिश्र नेपाल देश की अधिकारी सहित 64 लोगों का मुख्यमंत्री ने भव्य स्वागत किया था।
इस अवसर पर श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष एवं मणिराम दास छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास, दिगम्बर अखाड़ा के महंत सुरेश दास, मणिरामदास छावनी के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास, रंगमहल के महंत रामशरण दास, स्वामी विश्वेश प्रसन्नाचार्य, हनुमानगढ़ी के महंत धर्मदास, महंत रामकुमार दास, महंत मनमोहन दास, नाका हनुमानगढ़ी के महंत हनुमानदास, अधिकारी रामकुमार दास,
श्रीरामजन्मभूमि न्यास के सदस्य एवं पूर्व सांसद रामविलास दास वेदान्ती, राघवेश दास वेदान्ती, महंत रामानन्द दास, विश्व हिन्दू परिषद के वरिष्ठ पदाधिकारी पुरुषोत्तम नारायण सिंह, अयोध्या संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैयादास रामायणी, नेपाल देश के जनकपुर की उप महापौर रीता कुमारी मिश्रा, फैजाबाद के सांसद लल्लू सिंह, अम्बेडकरनगर जनपद के सांसद हरिओम पाण्डेय, अयोध्या विधायक वेदप्रकाश गुप्ता, गोसाईंगंज विधायक खब्बू तिवारी, रुदौली विधायक रामचन्द्र यादव, बीकापुर विधायक शोभा सिंह चौहान, मिल्कीपुर विधायक गोरखनाथ बाबा, अयोध्या नगर निगम महापौर ऋषिकेश उपाध्याय सहित कई वरिष्ठ भाजपा के नेता उपस्थित थे।

Share it
Top