वाराणसी: कैंट फ्लाईओवर हादसे पर शुरू हुई राजनीति, शिवसेना का प्रदर्शन. राज्यमंत्री रविन्द्र जायसवाल भी घटना स्थल पर पहुंचे

वाराणसी: कैंट फ्लाईओवर हादसे पर शुरू हुई राजनीति, शिवसेना का प्रदर्शन. राज्यमंत्री रविन्द्र जायसवाल भी घटना स्थल पर पहुंचे


वाराणसी। कैंट स्टेशन के सामने निर्माणाधीन फ्लाईओवर पर हादसे के बाद सियासत उबाल मारने लगी है। दुर्घटना के विरोध में शनिवार को हादसा स्थल के समीप शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने जहां जमकर प्रदर्शन किया। वहीं कांग्रेस ने भी शनिवार अपरान्ह बाद धरना प्रदर्शन का ऐलान किया है।

इसके पहले शिवसेना के कार्यकर्ता हादसा स्थल पर पहुंचे और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का प्रतीक पुतला फूंकना चाहा तो पुलिसकर्मियों ने उनसे पुतला छिन लिया। पुतला को लेकर पुलिसकर्मियों और कार्यकर्ताओं में छीनाझपटी भी हुई। नाराज शिवसैनिकों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग की।

पार्टी के नेता संदीप चौधरी ने कहा कि इसी फ्लाईओवर के दो विशाल बीम गिरने से 15 मई 2018 को बड़ा हादसा हुआ था। 15 लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी। उसके बाद कई जांच हुई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस रास्ते से आये गये। इसके बावजूद हादसे की पुनरावृत्ति हुई,एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। आखिर इसका कौन ज़िम्मेदार है। अन्य नेताओं ने कहा कि निर्माण कार्य में घोर लापरवाही बरती जा रही है।

प्रदेश के राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रविन्द्र जायसवाल भी घटना स्थल पर पहुंचे

कैंट फ्लाईओवर हादसे के बाद शनिवार दोपहर में प्रदेश के राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रविन्द्र जायसवाल,भाजपा जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा और अन्य नेताओं के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। मंत्री ने घटनास्थल का मुआयना कर पुल के निर्माण कार्य में जुटे सेतु निगम के अफसरों से भी जानकारी ली।

गौरतलब हो कि शुक्रवार की शाम कैंट स्टेशन के सामने निर्माणाधीन फ्लाईओवर की शटरिंग गिरने से एक राहगीर घायल हो गया। इसके पहले 15 मई 2018 को फ्लाईओवर की दो बीम गिरने से 15 लोगों की मौत हो गई थी। हादसे के बाद भी प्रशासन ने सबक नहीं लिया। दो बार हुए हादसे को लेकर लोगों में नाराजगी बढ़ती जा रही है।


Share it
Top