वाराणसी: मुख्यमंत्री योगी ने मंदिर परिक्षेत्र में अस्पताल आरोग्य मंदिर का किया उद्घाटन

वाराणसी: मुख्यमंत्री योगी ने मंदिर परिक्षेत्र में अस्पताल आरोग्य मंदिर का किया उद्घाटन


वाराणसी। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने दो दिवसीय वाराणसी दौरे के अन्तिम दिन रविवार को बाबा विश्वनाथ के दरबार में पहुंचे। दरबार में विधि विधान से दर्शन पूजन के बाद मुख्यमंत्री ने मंदिर परिक्षेत्र स्थित कारमाइकल लाइब्रेरी के भूखंड पर बने अस्पताल आरोग्य मंदिर का उद्घाटन भी किया। मंदिर में दर्शन पूजन के बाद मुख्यमंत्री सीधे सुदामापुर स्थित राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार डा.नीलकंठ तिवारी के आवास पर पहुंचे। मातृशोक में डूबे मंत्री और उनके परिजनों से मिलकर मुख्यमंत्री ने शोक संवेदना जताई। आवास पर ही मुख्यमंत्री ने राज्यमंत्री तिवारी की गोलोकवासी माताजी लाली देवी के चित्र पर माल्यार्पण किया और पिता ओंकारनाथ तिवारी से मिलकर ढ़ाढ़स बढ़ाया। इस दौरान राज्यमंत्री के आवास पर विधायक कैंट सौरभ श्रीवास्तव, कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर, एमएलसी केदारनाथ सिंह, प्रदेश सह प्रभारी सुनील ओझा,सैयदराजा चन्दौली विधायक सुशील सिंह, एमएलसी अशोक धवन आदि भी मौजूद रहे।

इसके पहले वाराणसी दौरे पर आये मुख्यमंत्री ने शारदीय नवरात्र के पहले दिन की शुरुआत स्नान ध्यान पूजा पाठ से की। इसके बाद वाहनों के काफिले में सीधे बाबा विश्वनाथ के दरबार में पहुंचे। यहां विधि विधान से पूजन अर्चन के बाद दरबार में चढ़े पुष्पों एवं पत्तियों से निर्मित अगरबत्ती का लोकार्पण भी सीएम ने किया।

यहां पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि काशी दुनिया की सबसे प्राचीन नगरी व सांस्कृतिक राजधानी है। काशी देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कर्म भूमि भी है। काशी की पहचान काशिधाम से है इस योजना को आगे बढ़ाया जा रहा है। वह एक नेक पहल है। मुख्यमंत्री ने मंदिर प्रांगण में ही मोबाइल चिकित्सालय का उद्घाटन कर इसके बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि आरोग्य मंदिर भक्तों को जरूरत पड़ने पर तुरंत आकस्मिक चिकित्सकीय सुविधा देगा। उन्होंने कहा कि काशी विश्वनाथ मंदिर लोगो के आस्था का केंद्र है। मंदिर में बाबा भोलेनाथ को चढ़ने वाले बिल्वपत्र, पुष्प आदि से आईटीसी द्वारा धूप एवं अगरबत्ती के साथ-साथ इत्र बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आईटीसी द्वारा शुरू कराए गए इस कार्य से महिला स्वयं सहायता समूह को रोजगार मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर मैं चढ़ने वाले बिल्वपत्र, धतूरा एवं पुष्प आदि से नवरात्रि की प्रतिपदा के दिन आईटीसी द्वारा शुरू किए गए धूप एवं अगरबत्ती के साथ-साथ एक निर्माण के इस कार्य से स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को रोजगार मिलेगा और उन्हें आर्थिक स्वावलंबन मिलेगा। नवरात्रि की प्रतिपदा के दिन महिलाओं के सशक्तिकरण का इससे अच्छा कार्य नहीं हो सकता।

गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के जसवंत सिंह के घर भी पहुंचे मुख्यमंत्री

दो दिवसीय काशी दौरे पर आये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अन्तिम दिन रविवार को गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पदाधिकारी जसबीर सिंह के सिगरा स्थित आवास पर भी पहुंचे। मुख्यमंत्री ने जसवंत सिंह से मुलाकात के बाद प्रदेश सरकार द्वारा ढाई वर्ष में किए गए विकास कार्यों के उपलब्धियों से संबंधित 'जन कनेक्ट कठोर परिश्रम और बड़े निर्णय के 100 दिन, विकास एवं सुशासन के 30 माह, सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास' नामक किताब भी भेंट की। यहां से मुख्यमंत्री वरिष्ठ अधिवक्ता त्रिपुरारी शंकर के रथयात्रा (सिगरा) स्थित आवास पर गये। अधिवक्ता से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. एसके पांडे के केंद्रीय कारागार मार्ग शिवपुर स्थित आवास पर जाकर उनसे मिले।

देर शाम वाराणसी पहुंचे, सर्किट हाउस में किया विश्राम

मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार की देर शाम वाराणसी पहुंचे। बाबतपुर एयरपोर्ट से भारी बारिश के बीच वाहनों के काफिले में सर्किट हाउस में आये। यहां थोड़ी देर विश्राम के बाद मुख्यमंत्री ने भाजपा के पदाधिकारियों विधायकों और मंत्रियों के साथ बैठक कर दो अक्टूबर को होने वाली पदयात्रा के संबंध में रणनीति बनाई। बैठक में भाजपा के काशी क्षेत्र के अध्यक्ष महेश चंद्र श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा व महानगर अध्यक्ष प्रदीप अग्रहरि, विधायक रोहनिया सुरेन्द्र सिंह, कैंट सौरभ श्रीवास्तव, कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर, विधायक सुशील सिंह आदि शामिल रहे।


Share it
Top