...जब राज्यसभा सांसद नीरज शेखर ने कहा, इधर भी बाढ़ है एसडीएम साहब !

...जब राज्यसभा सांसद नीरज शेखर ने कहा, इधर भी बाढ़ है एसडीएम साहब !


- व्हाट्सएप पर बाढ़ के दृश्य भेजकर दिखाया आईना

बलिया। बाढ़ से घिरे सदर तहसील के कई ऐसे गांव हैं, जहां जिला प्रशासन की निगाह नहीं गई है। गड़हांचल के इन गांवों पर राज्यसभा सांसद नीरज शेखर की नजर पड़ी है। बाढ़ के हालात देख उनका माथा ठनका और उन्होंने एसडीएम सदर को आईना दिखा दिया। गंगा में उफान आने के बाद सबसे पहले बैरिया तहसील के दर्जनों गांव जलमग्न हुए। इन गांवों में जिला प्रशासन राहत सामग्री पहुंचाने में जुटा है।

इस बीच बाढ़ ने सदर तहसील के सोहांव ब्लाक के गांवों में भी पांव पसार दिया। धीरे-धीरे दर्जनों गांव जलमग्न हो गए। सदर तहसील के एनएच 31 से लगे गांवों पर तो जिला प्रशासन की नजर पड़ गई। मगर बघौना, टुटुवारी, मेड़वारा, दुलारपुर, नसीरपुर, बिशेषरपुर आदि गांवों में बाढ़ के कहर का अंदाजा प्रशासन को नहीं हुआ। इन गांवों में अभी तक राहत की कोई सामग्री नहीं पहुंची है। लोगों का आरोप है कि सैकड़ों एकड़ खेतों में खड़ी धान की फसल बर्बाद हो चुकी है। इस पर भी प्रशासन का ध्यान नहीं है। दरअसल, इन्ही आरोपों की जानकारी होने पर राज्यसभा सांसद नीरज शेखर गुरुवार को बघौना में पहुंचे थे। इसके बाद वे अन्य गांवों में भी गए।

भारी बारिश के बीच उनके गांव में पहुंचते ही लोगों ने प्रशासन पर सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया। इतना सुनते ही श्री शेखर का माथा ठनका। उन्होंने एसडीएम सदर अश्विनी श्रीवास्तव को फोन लगाया।

एसडीएम से उन्होंने कहा कि इधर भी बाढ़ आई है और इसका आपको पता है ? इसके बाद उन्होंने खुद ही बाढ़ के दृश्य अपने मोबाइल कैमरे में कैद करके बाढ़ की तस्वीरों को भेजा। साथ ही निर्देश दिया कि बाढ़ में मदद भिजवाएं। सर्वे कराकर धान की फसल का मुआवजा भी दिलवाएं। इस दौरान बृजेन्द्र राय, पूर्व प्रमुख संजय सिंह, डॉ. अनिल राय, गुड्डू राय, कृष्णानंद राय, रियाजुद्दीन राजू आदि थे।


Share it
Top