जाम में फंसने पर भाजपा एमएलसी ने दो घंटे तक खुद संभाली यातायात व्यवस्था

जाम में फंसने पर भाजपा एमएलसी ने दो घंटे तक खुद संभाली यातायात व्यवस्था


वाराणसी। धर्म नगरी काशी में सड़कों और गलियों में लगने वाले जाम से शहरी और यहां आने वाले मेहमान अक्सर रूबरू होते हैं। यहां के सत्तारूढ़ दल के नेता और विधायक समस्या को जानने के बाद भी मौन साधे रहते हैं, लेकिन जब खुद जाम में फंसते हैं तो उन्हें नागरिकों की पीड़ा समझ में आती हैं। गुरुवार को रामनगर चौक में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष और एमएलसी लक्ष्मण आचार्य घर जाते समय भीषण जाम में फंस गये। जाम में उनका वाहन न तो आगे बढ़ पा रहा और न पीछे। पीछे खड़े वाहनों के हार्न और धुएं से बेहाल भाजपा नेता कुछ देर वाहन में बैठे रहे, लेकिन देर होते ही उनका गुस्सा फूट पड़ा।

तिलमिलाये एमएलसी वाहन से उतरे और बीच सड़क पर खड़ा होकर यातायात व्यवस्था संभालने के बाद वाहनों को पास करवाने लगे। एमएलसी के यातायात व्यवस्था संभालने की जानकारी पुलिस कर्मियों को मिली तो हड़कम्प मच गया। आनन-फानन में थानेदार के साथ कई सिपाही मौके पर पहुंच गये। भीषण जाम को छुड़ाने के लिए एमएलसी दो घंटे से अधिक समय तक खुद कमान संभाले रहे। इस दौरान उन्होंने एक दो एम्बुलेंस को जाम में फंसने पर आगे बढ़ाया।

एमएलसी के इस भूमिका को लेकर सोशल मीडिया पर भी चर्चा रही। लोगों का कहना था कि रामनगर चौक में आये दिन भीषण जाम लगता है। एमएलसी को पुलिस कर्मी घर से निकलते ही पास करा देते थे। आज जब वह जाम में फंसे तो उन्हें लोगों की पीड़ा का एहसास हुआ। वहीं लोग जाम के लिए अतिक्रमण और ठेले खोमचे वालों के साथ पुलिस कर्मियों को सीधे जिम्मेदार ठहरा रहे थे। लोगों का कहना था कि जाम लगता है तो भी पुलिसकर्मी अनदेखी करते हैं। मामला जब सिर के ऊपर से गुजरने लगता है तब जाम छुड़ाने के लिए पहुंचते हैं।


Share it
Top