प्रवासी भारतीयों ने किया रामलला का दर्शन

प्रवासी भारतीयों ने किया रामलला का दर्शन


अयोध्या। विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) से जुड़े विभिन्न देशों के प्रवासी भारतीयों के दल ने गुरुवार को अयोध्या में सरयू स्नान कर रामलला का दर्शन किया। इस कार्यक्रम में 22 देशों के प्रतिनिधि आये हुए हैं। सभी प्रवासी विहिप कार्यालय कारसेवक पुरम में रूके हुए हैं। विहिप के प्रान्त संगठन मंत्री भोलेन्द्र के नेतृत्व में प्रवासी भारतीयों ने अयोध्या के मंदिरों का दर्शन पूजन किया।
प्रातः काल प्रवासी भारतीयों ने सरयू स्नान किया। इसके बाद श्रीराम जन्मभूमि,कनक भवन और हनुमानगढ़ी मंदिर में दर्शन पूजन कर भगवान का आर्शीवाद लिया। यहां से निकलकर प्रवासी भारतीयों के दल ने कार्यशाला पहुंचकर राम मंदिर के लिए तराशे जाने वाले पत्थरों को भी देखा। अयोध्या के अन्य धार्मिक स्थलों और मंदिरों के दर्शन के बाद यह दल वापस रवाना हो जायेगा।
विश्व हिन्दू परिषद के प्रांतीय संगठन मंत्री भोलेन्द्र ने हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि हांगकांग से 150 प्रवासी भारतीय अयोध्या पहुंचकर रामलला समेत अन्य मंदिरों का दर्शन किया। हांगकांग से पधारे 150 प्रवासी भारतीयों के दल ने रामजन्मभूमि न्यास कार्यशाला व रामसेवकपुरम का भी भ्रमण कर राममंदिर की तैयारियों के बारे में जानकारी हासिल की।
भोलेन्द्र ने बताया कि विदेशों में कार्यरत विहिप के पदाधिकारी प्रवासी भारतीयों से संपर्क कर उन्हें प्रयाग और अयोध्या जाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इसी क्रम में यह दल अयोध्या दर्शन करने आया है। मंदिरों में दर्शन पूजन के बाद प्रवासी भारतीयों ने श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष व मणिराम दास छावनी के महंत नृत्य गोपाल दास महाराज का भी आशीर्वाद लिया।
विहिप अवध प्रान्त के संगठन मंत्री ने हिन्दुस्थान समाचार से कहा कि 2019 से पहले अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का शुभारम्भ हो जायेगा। उन्होंने कहा कि हम कोर्ट के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। हमें पूर्ण विश्वास है कि फैसला जल्द आयेगा।
मुस्लिम मंच द्वारा अयोध्या में सरयू तट पर आयत ए करीमा का पाठ करने के मुद्दे पर कहा कि यह महज दिखावा है। जब फैसला हमारे पक्ष में आने वाला है तो लोग लोकप्रियता हासिल करने के लिए इस प्रकार के कार्यक्रम कर रहे हैं।

Share it
Share it
Share it
Top