प्रणब मुखर्जी के किस अनुकरणीय योगदान के लिए मिला 'भारत रत्न'-संजय सिंह

प्रणब मुखर्जी के किस अनुकरणीय योगदान के लिए मिला



सुल्तानपुर। आम आदमी पार्टी के उत्तर प्रदेश के प्रभारी व राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न दिए जाने की घोषणा पर सवाल खड़ा किया है।

श्री सिंह अपने गृह जनपद सुल्तानपुर में विशेष बातचीत में यह आरोप लगाया है। उन्होंने आगे कहा कि प्रणब मुखर्जी ने ऐसा कौन सा अनुकरणीय योगदान हिन्दुस्थान के लिए कर दिया है। यह समझ में नहीं आता है,क्या उन्हें शाखा में जाने के लिए, संघ के कार्यक्रम में जाने के लिए, या उन्होंने हेडगेवार को भारत माता का पुत्र बता दिया,इसलिए उनको आप भारत रत्न दे देंगे। एक बड़ा सवाल है? यह सम्मान भाजपा या आरएसएस का नहीं है कि आप जिसे चाहें, उसे दें दें।

बताया कि आरटीआई से पता चला है कि अभी तक भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु को हिन्दुस्तान के अंदर शहीद का दर्जा भी नहीं मिला है। ऐसे लोग सम्मान में भी राजनीति करते हैं।

नेताजी सुभाष चन्द्रबोस को भारत रत्न ना मिलने का बहुत बड़ा मलाल है। श्री सिंह ने कहा कि मैं पिछले 25 सालों से पत्र के माध्यम से, समाचार पत्रों में बयान देकर भी नेताजी को भारत रत्न देने की मांग करते चले आ रहे हैं। हिन्दुस्थान की आजादी में इनका विशेष योगदान है। आजाद ने विदेश की धरती पर जाकर 'आजाद हिंद फौज' की स्थापना किया था। अंग्रेजों को हिन्दुस्थान से भगाने के लिए संघर्ष किया, उस समय बहुत सारे लोग मारे गए थे। उस 'आजाद हिंद फौज' के महान नायक स्वतंत्रता संग्राम सेनानी को भारत रत्न क्यों नहीं मिला?समझ में नहीं आता।

शहीद-ए-आजम भगत सिंह जिनके नाम मात्र लेने से रोम-रोम रोमांचित होता है। युवा उत्साहित होते हैं,उन्हें भारत में आज तक सम्मान नहीं मिला। डॉ राम मनोहर मनोहर लोहिया हिन्दुस्थान के प्रख्यात समाजवाद चिंतक रहे, जिन्होंने पूरा जीवन पिछड़ों दलितों और अल्पसंख्यकों की लड़ाई के लिए लड़ा, उनका भी कोई स्थान नहीं है।

खेल की विधा में यदि देखा जाए तो हॉकी के सबसे बड़े खिलाडी ध्यान चंद का नाम आता है। उनका हिटलर भी लोहा मानता था,उन्हें भी आज तक भारत रत्न नहीं दिया गया। कांग्रेस पार्टी द्वारा इन्हें भारत रत्न ना दिए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि क्या जो गलतियां कांग्रेस ने की, वहीं भारतीय जनता पार्टी भी करेगी, जनता को इनसे यह उम्मीद नहीं है।


Share it
Top