सहारनपुर में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बोलीं पिछले 70 साल से देश में धारा 370 काे लेकर किसी ने आवाज नहीं उठाई

सहारनपुर : सहारनपुर में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी बोली पिछले 70 साल से देश में धारा 370 काे लेकर किसी ने आवाज नहीं उठाई

स्मृति ईरानी ने धारा 370 हटाने की कार्रवाई काे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी का बड़ा कदम बताया, कहा यह साहसिक कदम भाजपा इसलिए उठा पाई है कि क्याेंकि देश की जनता ने भाजपा काे मजबूत नेतृत्व देने का काम किया है

स्मृति ने कांग्रेस काे निर्लज्ज पार्टी भी बताया

सहारनपुर (गौरव सिंघल)। रविवार को सहारनपुर पहुंची केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने धारा 370 काे बड़ी कामयाबी बताते हुए इस मुद्दे पर कांग्रेस काे घेरा और धारा 370 हटने की कार्रवाई काे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी का बड़ा कदम बताया।

स्मृति ईरानी ने कहा कि यह साहसिक कदम भाजपा इसलिए उठा पाई है कि क्याेंकि देश की जनता ने भाजपा काे मजबूत नेतृत्व देने का काम किया है।

गंगाेह उप चुनाव से पहले सहारनपुर पहुंची केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस काे आड़े हाथो लिया और धारा 370 पर लाेगाें काे भावनात्मक रूप से जाेड़ने की काेशिश करते हुए राहुल गांधी काे इस मुद्दे पर पाकिस्तान के पाले में खड़ा कर दिया। स्मृति ईरानी यहां जानजागरण कार्यक्रम के लिए आई थी। गांधी पार्क के पास स्थित जनमंच सभागार में कार्यक्रम काे संबाेधित करते हुए उन्हाेंने कहा कि पिछले 70 साल से देश में धारा 370 काे लेकर किसी ने आवाज नहीं उठाई। कांग्रेस पार्टी काे निर्लज्ज पार्टी बताते हुए वह बाेली कि, जब लाेकसभा में इस मामले काे उठाया गया ताे कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने यह सवाल उठाया कि, क्या संसद के पास कश्मीर पर इस प्रकार का प्रस्ताव लाने का अधिकार है ? इस सवाल पर अमित शाह ने जवाब दिया और कहा संसद पूरे देश की है और संसद काे यह पूरा अधिकार है कि वह कभी भी कहीं भी देश के किसी भी मुद्दे पर चर्चा करें और प्रस्ताव पास करे। इस तरह स्मृति ईरानी ने लाेगाें काे धारा 370 के मुद्दे पर जाेड़ते हुए कांग्रेस काे घेरना शुरू किया और कहा कि, धारा 370 पर बात हुई ताे कांग्रेस के नेता ने कहा कि यह विषय ताे हमने यूएन भेजा था। पहली बार काेई निर्लज्ज पार्टी यह कहती हुई सुनी गई कि ''हमने भेजा था''। यह प्रसंग उठाते हुए स्मृति ईरानी विषय काे 70 साल पीछे ले गई और कहा कि, उस समय नेहरू जी ने सरदार पटेल काे बिना बताए और देश की जनता काे विश्वास में लिए बगैर इस मामले काे यूएन भेज दिया। स्मृति बाेली कि, भला अपने घर के मसले काे, अपने घर की गरिमा काे काेई ऐसे बाहर भेज सकता है क्या ? कहा कि यह पाप उन्हाेंने किया जिसका दंश धारा 370 के रूप में 70 साल तक उन लाेगाें ने झेला जाे पश्चिमी पाकिस्तान से हिन्दुस्तान आए और जीवन भर शरणार्थी बनकर रह गए।

Share it
Top