सहारनपुर : पुलिस दो दिन बाद भी डा .भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा तोड़ने वालों का नहीं लगा सकी सुराग

सहारनपुर : पुलिस दो दिन बाद भी डा .भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा तोड़ने वालों का नहीं लगा सकी सुराग


घटना के दो दिन बाद घुन्ना क्षेत्र में अब स्थिति सामान्य हुई

सहारनपुर (गौरव सिंघल)। सहारनपुर देहात कोतवाली पुलिस ने गांव घुन्ना में डा. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा तोड़े जाने और उसके विरोधस्वरूप शाकुम्बरी देवी सड़क मार्ग पर जाम लगाने, देवी दर्शनों को जा रहे श्रद्धालुओं और पुलिस बल पर पथराव करने के मामले में प्रभारी निरीक्षक मुनेंद्र सिंह की ओर से 104 नामजद और 600 अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307, 353, 342, 336, 332, 504, 147, 148, 149 और सात क्रिमिनल एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज करा दिया गया था। आरोपियों में भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर के दो भाई कमल किशोर और भगत सिंह एवं राष्ट्रीय महासचिव कमल वालिया भी शामिल हैं। पुलिस को अभी तक मूर्ति तोड़ने वालों का सुराग नहीं लगा है और ना ही पुलिस ने अभी तक किसी की गिरफ्तारी कर पाई है। अलबत्ता घटना के दो दिन बाद घुन्ना क्षेत्र में अब स्थिति सामान्य हो गई है। लेकिन लोगों में पुलिस कार्रवाई को लेकर शंका और बैचेनी व्याप्त है।

एसपी सिटी ने बताया कि पुलिस और खुफिया एजेंसियां अराजक तत्वों को चिन्हित करने के काम में लगी है। जिन लोगों को पुलिस ने मुकदमें में नामजद किया है उनमें इस गांव का अनुसूचित जाति का नरेश कुमार पुत्र सिंगारू भी शामिल है। इसी ने पुलिस को गांव में लगी अंबेडकर प्रतिमा तोड़े जाने की सूचना भी दी। एसएसपी दिनेश कुमार प्रभु के मुताबिक जिन भी असामाजिक तत्वों ने मूर्ति तोड़ी, हिंसा, उपद्रव किया उन्हें किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। प्रशासन ने उसी स्थान पर डा. अंबेडकर की नई मूर्ति स्थापित करा दी थी। उसके बावजूद गांव के अनुसूचित जाति के लोगों ने माहौल बिगाड़ने का काम किया। पुलिस और आमजन समेत एक दर्जन के करीब लोग पथराव में घायल हो गए थे। पुलिस ने बल प्रयोग कर उपद्रवियों को खदेड़ा था। एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि नामजद आरोपी और संदिग्ध अराजक तत्व फरार हैं। पुलिस उनकी गिरफ्तारी के प्रयासों में लगी हुई है। पथराव में जिन लोगों को चोटें आईं उनमें सीओ सिटी मुकेश मिश्र, थाना प्रभारी मुनेंद्र सिंह, नकुड़ क्षेत्र के खेड़ा अफगान निवासी राहुल पुत्र राजेंद्र, महेश पुत्र भोपाल, विश्वास पुत्र सुंदर काला, बहादुर पुत्र चंद्रसेन, जाॅनी पुत्र राजसिंह, सन्नी पुत्र पवन आदि शामिल हैं।

Share it
Top