दलित और राजपूत युवकों में हुई मारपीट के बाद रोष, पुलिस ने सात राजपूतों के खिलाफ किया एससी/एसटी एक्ट में मामला दर्ज, दो गिरफ्तारी

दलित और राजपूत युवकों में हुई मारपीट के बाद रोष, पुलिस ने सात राजपूतों के खिलाफ किया एससी/एसटी एक्ट में मामला दर्ज, दो गिरफ्तारी


सहारनपुर (गौरव सिंघल)। भीम आर्मी के प्रभाव वाले इलाके में राजपूत युवकों को दलितों से उलझना महंगा पड़ गया। पुलिस ने राजपूत वर्ग के सात लोगों के खिलाफ थाना फतेहपुर में एससी/एसटी एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर आज दो लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

थानाध्यक्ष एमपी सिंह ने आज पत्रकारों को बताया कि बीती रात अनुसूचित जाति के तीन युवकों को राजपूतों ने उस जमकर मारापीटा जब अनुसूचित जाति के युवक रामप्रसाद पुत्र लाल सिंह, सोनू सिंह पुत्र सुरेंद्र सिंह एवं अनुज पुत्र सुघनचंद निवासी गांव दाबकी जुनारदार से बुलट बाइक से गांव अलहेड़ी में राजू पुत्र हुकुम सिंह की बेटी की शादी में शामिल होने गए थे। वहां से लौटते वक्त गांव बरहेड़ी घोघू में उनकी बुलट में से पटाखे जैसी आवाज निकलने से राजपूत युवकों ने उन्हें रोक लिया और वादविवाद के बाद उनकी पिटाई कर दी। बारातियों के साथ हुई मारपीट से लड़की के परिवारीजन भी मौके पर पहंुंच गए, जिससे दोनों वर्गों के बीच जबरदस्त संघर्ष हो गया।

सीओ चैब सिंह और एसएचओ एमपी सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए और स्थिति को काबू में किया। थानाध्यक्ष के मुताबिक गांव दाबकी चुनारदार निवासी दलित सुघनचंद ने सात राजपूत वर्ग के सात लोगों के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट में रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस ने आज राजपूत वर्ग के दो नामजद लोगों 19 वर्षीय सेवा पुत्र काला और 40 वर्षीय टीटू पुत्र राजवीर सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है। बाकी 5 लोगों की गिरफ्तारी हेतु दबिशे दे रही है।

भीम आर्मी के नेताओं ने एसएसपी उपेंद्र अग्रवाल से मांग की है कि आरोपी राजपूत युवकों की गिरफ्तारी कराई जाए और उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। भीम आर्मी ने यह भी आरोप लगाया कि राजपूत वर्ग दबंगई कर रहा है और अनुसूचित जाति वर्ग के साथ अत्याचार और गुंडई कर रहा है। मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए पूरे मामले और स्थिति पर कड़ी निगाह रखे हुए हैं।

Share it
Top