थाना हसनगंज में मौलाना नदवी के खिलाफ दी गयी तहरीर

थाना हसनगंज में मौलाना नदवी के खिलाफ दी गयी तहरीर


लखनऊ। श्रीश्री रविशंकर के निकट माने जाने वाले अमरनाथ मिश्रा ने गुरूवार को थाना हसनगंज में मौलाना नदवी के खिलाफ तहरीर दी है। अमरनाथ ने तहरीर देते हुए मौलाना पर झूठ बोलने और नदवा कालेज में लगे सीसीटीवी कैमरों की जांच कराने की मांग की है।
थाना हसनगंज में तहरीर देकर निकले अमरना​थ मिश्रा ने बताया कि वह तीन दशकों से रामजन्मभूमि के मंदिर निर्माण के लिए प्रयासरत हैं। पिछले कुछ समय से आपसी भाईचारा सद्भावना के साथ रामलला विराजमान के स्थान पर भव्य राम मंदिर बने इस हेतु मुस्लिम धर्मगुरूओं से निरंतर वह सम्पर्क बनाये हुए थे। इसी क्रम में वह पांच फरवरी 2018 को नदवा कालेज में मौलाना सलमान नदवी से सुबह नौ बजकर पैतालिस मिनट पर मिलने गये। इसके पहले चार फरवरी को मौलाना सलमान नदवी के मोबाइल फोन पर बात भी हुई थी। उन्होंने वहीं बुलाया था।
उन्होंने बताया कि मौलाना सलमान नदवी ने हमसे हिन्दुओं की ओर से राम मंदिर निर्माण और मस्जिद के सम्बन्ध में लिखित प्रस्ताव मांगा और हमसे बोला 9,10 और 11 फरवरी को हैदराबाद में होने वाले मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड की बैठक में पेशकर सहमति बनायेंगे। इसके बाद मौलाना नदवी ने उनके द्वारा दिये गये कागजात को बैंग्लोर की मीडिया के सामने प्रस्तुत किया। मौलाना ने वहां बताया कि वह अमरनाथ मिश्रा को नहीं जानते हैं और न ही उनसे मिले, लेकिन मौलाना झूठ बोल रहे हैं, जिसे पकड़ने के लिए नदवा कालेज के सीसीटीवी फुटेज की जांच होनी चाहिए। जिस दिन वे वहां गये थे और मौलाना नदवी से मुलाकात हुई थी।
बता दें कि अमरनाथ मिश्रा को आर्ट आफ लिविंग के संरक्षक श्रीश्री रविशंकर के शिष्यों में गिना जाता है। लखनऊ में डालीगंज मोहल्ले में स्थित अमरनाथ के मकान पर श्रीश्री रविशंकर कई बार आ चुके हैं और अक्सर वहां नजदीक रहने वाले लोग उनसे मिलने पहुंचते रहे हैं।

Share it
Top