70 लाख नौजवानों को स्वावलम्बी बनायेगी योगी सरकार

70 लाख नौजवानों को स्वावलम्बी बनायेगी योगी सरकार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कौशल विकास योजना के तहत पांच वर्षों में 70 लाख नौजवानों को स्वावलम्बी बनाने की घोषणा की है।
केन्द्रीय कौशल विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राजीव प्रताप रुड़ी के साथ करीब डेढ़ घण्टे बैठक करने के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में योगी ने कहा कि चालू वर्ष में दस लाख युवाओं को इस योजना के तहत प्रशिक्षित करने का कार्यक्रम है। छह लाख से अधिक युवाओं ने पंजीयन भी करा लिया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशिक्षित नहीं होने की वजह से काफी दुर्घटनायें चालकों की लापरवाही हो रही हैं। पुलिस महानिदेशक(यातायात) ने एक बैठक के दौरान उन्हें बताया था कि 13 हजार लोगों की मृत्यु हर महीने दुर्घटनाओं में हो रही है। आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं।
उन्होने कहा कि मोटर अधिनियम का उल्लंघन कर सैकड़ों की संख्या में लोग प्रतिदिन मर रहे हैं। इसे रोकने के लिए कौशल विकास योजना के तहत हर मण्डलीय मुख्यालय पर पांच-पांच एकड़ जमीन पर मोटर ड्राईविंग स्कूल खोला जायेगा। यह सरकारी होगा। इसका फ्रेंचाइजी नहीं दिया जायेगा।
योगी ने कहा कि अक्सर देखा जाता है कि वाहन चला रहे लोग मोबाइल फोन पर बात करते रहते हैं। कान में ईयर फोन लगाये रहते हैं और कुछ तो शराब पीकर गाड़ी चलाने से बाज नहीं आ रहे हैं। अब इस पर सख्ती की जायेगी।
उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत पारम्परिक उद्योगों को प्राथमिकता देकर आगे बढ़ाया जायेगा। उनका कहना था कि निजी क्षेत्र के औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में ज्यादातर का मानक पूरा नहीं है। उनकी गुणवत्ता पर भी सवाल खड़े होते हैं। इन सब को जल्द ही ठीक किया जायेगा।
इस अवसर पर रुड़ी ने कहा कि पांच वर्षों में उत्तर प्रदेश में कौशल विकास का जाल बिछा दिया जायेगा। इस योजना में 23 मंत्रालय और 50 विभाग काम कर रहे हैं। राज्य के पिछली सरकारों में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों की गुणवत्ता में ह्रास हुआ है। कौशल विकास के लिए 200 करोड की मदद राज्य सरकार को जल्द ही दी जायेगी। 70 लाख नौजवानों को स्वावलम्बी बनायेगी योगी सरकार
ते हैं और कुछ तो शराब पीकर गाड़ी चलाने से बाज नहीं आ रहे हैं। अब इस पर सख्ती की जायेगी।
उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत पारम्परिक उद्योगों को प्राथमिकता देकर आगे बढ़ाया जायेगा। उनका कहना था कि निजी क्षेत्र के औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में ज्यादातर का मानक पूरा नहीं है। उनकी गुणवत्ता पर भी सवाल खड़े होते हैं। इन सब को जल्द ही ठीक किया जायेगा।
इस अवसर पर रुड़ी ने कहा कि पांच वर्षों में उत्तर प्रदेश में कौशल विकास का जाल बिछा दिया जायेगा। इस योजना में 23 मंत्रालय और 50 विभाग काम कर रहे हैं। राज्य के पिछली सरकारों में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों की गुणवत्ता में ह्रास हुआ है। कौशल विकास के लिए 200 करोड की मदद राज्य सरकार को जल्द ही दी जायेगी।

Share it
Share it
Share it
Top