कांवड़ यात्रा संपन्न, मेरठ-हरिद्वार हाईवे यातायात के लिए खुला

कांवड़ यात्रा संपन्न, मेरठ-हरिद्वार हाईवे यातायात के लिए खुला


मेरठ । पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ एवं सहारनपुर मण्डल में सावन शिवरात्रि पर कांवडियों द्वारा शिवालयों पर जलाभिषेक के साथ ही कांवड़ यात्रा का समापन हो गया। कांवड यात्रा की सुरक्षा के मद्देनजर गत 17/18 जुलाई की मध्यरात्रि से बंद किए गये मेरठ-हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग-2 को कल शाम से यातायात के लिए खोल दिया गया है। मेरठ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक प्रशान्त कुमार ने आज यहां बताया कि सावन शिवरात्रि के मौके पर कल बागपत, मेरठ, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, गाजियाबाद, बुलंदशहर और आसपास के क्षेत्रों के बडी संख्या में कांवडियों ने शिवालयों पर जलभिषेक किया। यह सिलसिला रात तक जारी रहा।
मुख्य रुप से बागपत जिले के पूरा महादेव मंदिर पर लाखों शिव भक्तों ने जलाभिषेक कर वहां पूजा अर्चना की। जलाभिषेक के साथ ही इस क्षेत्र की कांवड यात्रा का सकुशल समापन हो गया । गौरतलब है कि इस कांवड यात्रा के मद्देनजर कांवडियों की भीड को देखते हुए दिल्ली-हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग-दो को मेरठ से रुड़की तक यातायात के लिए बंद करना पडता है और सावन शिवरात्रि पर कांवडियों के जल चढाने के बाद इसे खोला जाता है। इस बार चार-से पांच करोड़ कांवडियों ने विभिन्न शिवालयों पर जलाभिषेक किया। वाराणसी, इलाहाबाद, लखनऊ, गोरखपुर, देवीपाटन आदि मण्डलों में पूरे सावन में कांवडिये सोमवार को शिवालयों में जलाभिषेक करते हैं जबकि मेरठ़, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर और बिजनौर आदि जिले में यह कांवड यात्रा शिवरात्रि पर समाप्त हो जाती है। पूर्वी जिलों में जिला प्रशासन ने कांवडियों की सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इतंजाम कर रखे हैं। कांवडियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए हेलीकाप्टर के साथ ही ड्रोन कैमरों की भी मदद ली जा रही है और बडी संख्या में सुरक्षाबलों को लगाया गया है।

Share it
Share it
Share it
Top