कानपुर: हॉस्टल में लगी आग से दम्पति की मौत, मेडिकल स्टूडेंट सहित 14 झुलसे

कानपुर: हॉस्टल में लगी आग से दम्पति की मौत, मेडिकल स्टूडेंट सहित 14 झुलसे


कानपुर। काकादेव इलाके में स्थित एक हॉस्टल में बीती रात लगी भीषण आग की चपेट में आने से सोते हुए डेढ़ दर्जन लोग झुलस गये। आग की जानकारी पर पहुंची दमकल ने आग पर काबू करते हुए झुलसे हुए लोगों को कड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकाला और अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने एक दम्पति को मृत घोषित कर दिया। घायलों में हॉस्टल मालिक के परिजनों समेत 14 लोग हैं जिनका अलग-अलग हॉस्पिटलों में इलाज चल रहा है।
काकादेव के तुलसी नगर में धर्मेन्द्र सिंह का दो मंजिला मकान है। मकान में वह अपने परिवार के साथ रहते हैं। काकादेव कोचिंग मंडी होने के चलते धर्मेन्द्र ने मकान में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वालों को लिए हॉस्टल भी बना रखा है। हॉस्टल में मेडिकल की तैयारी करने वाले अलग-अलग जनपदों से आए दर्जनभर से अधिक छात्र-छात्राएं रहते हैं। इसके साथ ही छह माह पूर्व शादी कर आए नवदम्पति भी हॉस्टल में रहकर तैयारी कर रहे थे। बुधवार-गुरुवार की दरम्यानी देर रात करीब तीन बजे के आसपास जब हॉस्टल मालिक सहित वहां रहने वाले सभी छात्र-छात्राएं गहरी नींद में सो रहे थे, तभी अचानक हॉस्टल में आग लग गई। आग ने पूरी बिल्डिंग को अपनी गिरफ्त में ले लिया। जब तक कमरों में सो रहे छात्र-छात्राएं कुछ समझ पाते सभी आग की लपटों में घिर गये और दम घोटू धुएं से परेशान होकर चीखने लगे। आग की लपटें व चीख-पुकार सुन इलाकाई लोग उठ गये और दमकल व पुलिस को सूचना देते हुए आग बुझाने में जुट गए।
बिल्डिंग के नीचे गैरेज में खड़ी बाइक व कारें भी आग के सम्पर्क में आ गईं जिनके पेट्रोल टैंक फटने से आग ने और विकराल रूप ले लिया। मौके पर पहुंची दमकल व फायर ब्रिगेड कर्मियों ने मास्क पहनकर किसी तरह से आग को काबू कर अंदर फंसे लोगों को बाहर निकला और आनन-फानन पास के कुलवंती व हैलट अस्पताल में भर्ती कराया। डाक्टरों ने आग के दम घोटू धुएं की चपेट में आने से बेहोश व झुलसी हालत में पहुंचे नव दम्पति की मौत की पुष्टि करते हुए अन्य झुलसे हुए लोगों का इलाज शुरू कर दिया। काकादेव थाने के इंस्पेक्टर अजय कुमार सिंह ने बताया कि आग लगने का कारण स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। आग में हॉस्टल मालिक का परिवार व मेडिकल की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं को मिलाकर कुल 14 लोग शामिल हैं जिनका इलाज चल रहा है। इनमें पांच लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है।
प्राइवेट व हैलट हॉस्पिटल में उपचाराधीन
काकादेव इलाके में स्थित निजी कुलवंती हॉस्पिटल में हॉस्टल मालिक धर्मेन्द्र सिंह, उर्मिला सिंह, शालिनी उर्फ शीलू, नेहा, प्रताप उर्फ प्रकाश, सिद्धी व लाडो का इलाज चल रहा है। वहीं हैलट अस्पताल में जालौन निवासी मेडिकल स्टूडेंट हर्षित तिवारी, मिर्जापुर निवासी सगे भाई अजय व राजन यादव व एक जौनपुर निवासी स्टूडेंट अतुल का उपचार किया जा रहा है।
झुलसे लोगों की जानकारी में आ रही परेशानी
हादसे में झुलसे सभी 14 लोग के बेहोशी की हालत में होने के चलते फिलहाल पूरी जानकारी नहीं हो सकी है। इसके साथ ही उनके सभी दस्तावेज भी जलने से उनके परिजनों व नजदीकियों को घटना की सूचना देने में दिक्कत आ रही है। फिलहाल पूछताछ के आधार पर जिन लोगों के परिजनों की जानकारी हो गई है, उनके परिवारीजनों को घटना की जानकारी दे दी गई है। अभी तक मृतक नव दम्पति के बारे में पुलिस को कोई ज्यादा जानकारी नहीं मिल सकी है। हालांकि जिन कोचिंग सेंटरों में स्टूडेंट्स पढ़ते हैं व उनके दोस्तों से जानकारी जुटाकर जल्द परिजनों से सम्पर्क करने की कोशिश में पुलिस तेजी से जुटी है।

Share it
Share it
Share it
Top