उत्तर प्रदेश में कोविंद का पलड़ा भारी...शिवपाल सिंह यादव भी समर्थन में कूदे

उत्तर प्रदेश में कोविंद का पलड़ा भारी...शिवपाल सिंह यादव भी समर्थन में कूदे

लखनऊ। कडी सुरक्षा व्यवस्था के बीच राष्ट्रपति पद के लिए उत्तर प्रदेश विधान भवन के तिलक हाल में आज सम्पन्न हुए मतदान में समाजवादी पार्टी (सपा) के एक विधायक को छोड़ सभी मतदाताओं ने अपने-अपने वोट डाले।
सपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने नेतृत्व से बगावत कर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के पक्ष में मतदान किया। मतदान के बाद श्री यादव ने पत्रकारों से स्पष्ट कहा कि उन्होंने श्री कोविंद को वोट दिया है। सपा विधायक अबरार अहमद तबीयत खराब होने की वजह से मतदान नहीं कर सके। सपा सूत्रों के अनुसार श्री अहमद पीजीआई लखनऊ में भर्ती हैं। कुल 4०3 निर्वाचित विधायकों में से 4०2 तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत तीन सांसदों ने यहां मतदान किया। यहां मतदान करने वाले सांसदों में उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती भी शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने मतदान के शुरुआती दौर में ही वोट डाल दिया था। बाद में विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित और सपा नेता मौहम्मद आजम खान ने भी अपने मताधिकार का प्रयोग किया। मतदान पूर्वान्ह दस बजे से सांय पांच बजे तक चला। राष्ट्रपति चुनाव में लोकसभा, राज्यसभा और विधानसभा के निर्वाचित सदस्य मतदाता होते हैं। राज्य विधानसभा के प्रमुख सचिव और पीठासीन अधिकारी प्रदीप दुबे ने बताया कि सांसदों को दिल्ली में मतदान करना है, लेकिन चुनाव आयोग की अनुमति से सांसद कहीं भी मतदान कर सकते हैं। इसी क्रम में तीन सांसदों ने यहां मतदान किया। श्री योगी गोरखपुर लोकसभा सीट, श्री मौर्य फूलपुर तथा सुश्री भारती झांसी लोकसभा सीट से सांसद हैं। श्री दुबे ने बताया कि राज्य विधानसभा के कुल चार सौ चार में से चार सौ तीन सदस्य मतदाता हैं। मनोनीत एक सदस्य इस चुनाव में मतदाता नहीं होता। उत्तर प्रदेश विधानसभा के चार सौ तीन सदस्यों के कुल मतों की वैल्यू 83824 है। इस तरह एक विधायक के मत की वैल्यू 2०8 है। राज्य विधानसभा में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सदस्यों की संख्या 325 है। इसमें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 312, अपना दल के ०9 और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के ०4 सदस्य हैं। समाजवादी पार्टी के 47 और बहुजन समाज पार्टी के 19 विधायक हैं। कांग्रेस के सात और राष्ट्रीय लोकदल का एक विधायक हैं,जबकि चार अन्य सदस्य हैं। देश के सर्वोच्च पद के लिए हो रहे चुनाव के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किये गये थे। मतदान स्थल (तिलकहाल) तक चुनाव से जुडे अधिकारियों, कर्मचारियों के अलावा केवल मतदाताओं को ही जाने की अनुमति थी। मतदान के लिए मतदाताओं को बैगनी रंग की स्याही वाली विशेष पेन प्रयोग के लिए दी गयी थी। मतदान के बाद मतपेटियां हवाई जहाज से दिल्ली ले जायी गयीं जहां मतगणना 2० जुलाई को होगी। गौरतलब है कि राष्ट्रपति के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से रामनाथ कोविंद और संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की ओर से लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष मीरा कुमार उम्मीदवार हैं।

Share it
Share it
Share it
Top