बजट सत्र के पहले दिन शोर शराबे के बीच विधान परिषद की कार्रवाई स्थगित

बजट सत्र के पहले दिन शोर शराबे के बीच विधान परिषद की कार्रवाई स्थगित

लखनऊ । उत्तर प्रदेश विधान परिषद में आज बजट सत्र के पहले दिन विपक्षी दलों ने कानून व्यवस्था का मुद्दा उठाया। सदस्य सदन के बीचाे-बीच आकर शोर शराब करने लगे, हंगामें के बीच सभापति ने सदन की सेवा 12 बजे तक स्थगित कर दी।
बजट सत्र के पहले दिन प्रश्न प्रहर के समय समाजवादी पाटी (सपा) और कांग्रेस के सदस्य सदन के वेल में आकर सरकार विरोधी नारेबाजी करने लगे। सभापति रमेश यादव द्वारा बार-बार अपने स्थान पर जाने का अनुरोध किये जाने के बाद भी सदस्य लगातार नारेबाजी करते रहे। सभापति ने सदन पहले 20 मिनट और बाद में 12ः15 बजे तक के लिये स्थगित कर दिया।
जैसे ही 12़ 20 बजे जैसे ही सदन की कार्रवाई प्रारम्भ हुई सपा एव कांग्रेस,बहुजन समाज पार्टी के सदस्य पुनः वेल मे आकर सरकार विरोधी नारेबाजी करने लगे । इस दौरान सदस्यों ने सभापति के आसन की ओर कागज के गोले अादि फेंकने लगे।
शोर शराबे के बीच ही नेता सदन डा0 दिनेश शर्मा ने वित्तीय वर्ष 2017-2018 के आय-व्यय को सदन में प्रस्तुत किया। नेता सदन ने जब तक बजट प्रस्तुुत किया सपा के सभी सदस्य सरकार विरोधी नारे लगाते रहे और कागज के गाेले एवं कागज फेंकते रहे ।
मार्शल एवंं अन्य सुरक्षाकर्मी कागज के गोले को रोकने के लिए सभापति के आसन के सामने खडे हो गये।
शोर शराबे के बीच सभापति ने कहा कि आज के सभी प्रश्न उत्तरित माने जायेंगे इस बीच सपा के सभी सदस्य नारेबाजी करते रहे ।
इस बीच सभापति ने सदन की बैठक कल 11ः00 बजे तक के लिये स्थगित कर दी।
बजट सत्र के पहले दिन मुख्य विपक्षी दल सपा के वरिष्ठ सदस्य राजेन्द्र चौधरी ,एसआरएस यादव, बलराम यादव के समेत सभी सदस्य लाल टोपी लगाकर हाथों में बैनर और पोस्टर लेकर कानून व्यवस्था एवं अन्य मुद्दों को लेकर सरकार विरोधी नारे लगाते रहे ।
जिसके कारण प्रश्न प्रहर नहीं हाे सका । इस दौरान कांग्रेस ,बसपा, निर्दलीय समूह के सदस्यों ने भी अपनी मांगों को लेकर सरकार विरोधी नारे लगाये । बजट प्रस्तुत होने के पहले राष्ट्रीय लोक दल के चौधरी मुश्ताक सरकार पर किसानों की उपेक्षा करने का आराेप लगाते हुए सदन से बहिर्गमन किया ।


Share it
Share it
Share it
Top