यूपी बजट: योगी ने खोला किसानों के लिये पिटारा...पहले बजट में गरीबों का भी रखा गया ख्याल, विकास को दी खास तरजीह

यूपी बजट: योगी ने खोला किसानों के लिये पिटारा...पहले बजट में गरीबों का भी रखा गया ख्याल, विकास को दी खास तरजीह

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने चुनावी वायदों को अमली जामा पहनाते हुए पहले आम बजट में किसानों के फसली ऋण माफ करने के लिये 36 हजार करोड रूपये का प्रावधान किया वहीं राज्य में विकास की गति को धार देने के लिये बजट में कई अहम योजनाओं को जगह दी गयी है।
विधानसभा में आज बजट सत्र के पहले दिन विपक्षी दलों के शोरशराबे के बीच वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में वित्तीय वर्ष 2०17-18 के लिये तीन लाख 84 हजार 659 करोड़ बजट पेश किया, जो पिछले साल की तुलना में 1०.9 फीसदी अधिक है। बजट पेश करते हुए श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश के लघु एवं सीमांत किसानों के फसली ऋण की राज्य सरकार द्वारा अदायगी के लिये 36 हजार करोड रूपये की व्यवस्था बजट में की गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में बीहड बंजर एवं जल भराव वाले क्षेत्रों को सुधारने, खेतिहर मजदूरों को रोजगार मुहैया कराने के लिये दीनदयाल उपाध्याय कृषि समृद्धि योजना के लिये बजट में 1० करोड रूपये की व्यवस्था की गयी है। उन्होंने कहा कि गरीबों, बेरोजगारों, किसानों के लिए हमारा बजट है। बजट में शहर और ग्रामीण दोनों वर्गों का ध्यान रखा गया है। किसान उत्पादों पर करों की दर जीरो रखी गई है। बुंदेलखंड को दिल्ली से एक्सप्रेस-वे से जोडऩे के लिए केंद्र से अनुरोध किया गया है। राजमार्गों को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने का प्रस्ताव है। वित्त मंत्री ने कहा कि 55 हजार 781 करोड़ रुपए की नई योजनाओं को बजट में शामिल किया गया है, जबकि दीन दयाल उपाध्याय नगर विकास योजना के लिए 3०० करोड़ का बजट रखा गया है। प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के लिए तीन हजार करोड़, मलिन बस्ती विकास योजना के लिए 385 करोड़ रुपए का बजट रखा गया है। चीनी उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए 273 करोड़ का बजट है। श्री अग्रवाल ने कहा कि अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति के लिए 791 करोड़ 83 लाख रूपये का प्रावधान किया गया है, जबकि कानून व्यवस्था को और मजबूत करने के लिये प्रदेश में डेढ लाख पुलिसकर्मियों की भर्ती की जायेगी। कानपुर, वाराणसी, आगरा, गोरखपुर में मेट्रो रेल परियोजनाओं के लिए 288 करोड़, सब्जियों के उत्पादन-प्रबंधन के लिए 25 करोड़, जिला मुख्यालयों को फोरलेन से जोडऩे के लएि 71 करोड़ रूपये का प्रस्ताव है। गोरखपुर में लोक मल्हार और अयोध्या में सावन झूला पर विशेष आयोजन होंगे। उन्होने कहा कि पूर्वांचल की विशेष योजनाओं के लिए 3०० करोड़ रूपये बजट मे प्रस्तावित है, जबकि बुंदेलखंड में विशेष योजनाओं के लिए 2०० करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। शहीदों के नाम पर स्कूल खोले जाएंगे। 24 जनवरी को यूपी दिवस के रूप में मनाया जाएगा। वित्त मंत्री कहा कि जेवर में अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा बनाया जाएगा। कानपुर, फैजाबाद, मेरठ, बांदा, इलाहाबाद में फसलों पर शोध होगा। आलू किसानों से एक लाख मीट्रकि टन आलू खरीदने का हमारा लक्ष्य है। संपर्क मार्गों के निर्माण के लिए 2०० करोड़ और उनके रखरखाव के लिए 25० करोड़ रूपये रखे गये हैं। सोलर पंप योजना के लिए 125 करोड़ का बजट है जबकि किसान समृद्धि योजना के लिए 1० करोड़ रूपये प्रस्तावित है। वित्त मंत्री ने कहा कि सड़कों के रख-रखाव और उन्हें गड्ढा मुक्त करने के लिए तीन हजार 972 करोड़ करोड रूपये का प्रावधान किया गया है। राज्य सड़क विकास निगम की स्थापना होगी। सड़कों के चौड़ीकरण के लिए 598 करोड़ का बजट है। लड़कियों को ग्रेजुएशन तक मुफ्त शिक्षा दी जाएगी। अहिल्याबाई निशुल्क शिक्षा योजना के लिए 21 करोड़ रूपये का बजट है। स्कूलों में बच्चो को जूता, मोजा, स्वेटर बांटने के लिए 3०० करोड़ का बजट है। बच्चों को यूनिफॉर्म और किताबों के लिए 124 करोड़ का बजट है। उन्होंने कहा कि सिंगल विंडो क्लीयरेंस के लिए 1० करोड़ का बजट है। स्कूलों में बच्चों को बैग बांटने के लिए 1०० करोड़ का बजट है। वित्त मंत्री ने कहा कि उनकी सरकार लोक कल्याण संकल्प पत्र के अनुरूप बिना किसी भेदभाव से युवाओं के विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। अगले साल दो अक्टूबर तक राज्य को खुले में शौच से मुक्त करने का लक्ष्य सरकार ने रखा है। इससे पहले सुबह 11 बजे विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस तथा समाजवादी पार्टी के विधायकों ने कानून-व्यवस्था को लेकर जमकर नारेबाजी की। हंगामे के बीच विपक्षी दलों ने पोस्टर तथा बैनर लहराए। सपा विधायक सदन के भीतर ही धरने पर बैठ गए। विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित ने सदस्यों को समझाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने। इसके बाद अध्यक्ष ने विधानसभा 12.15 बजे तक स्थगित कर दी। हंगामे तथा नारेबाजी के बीच संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने कहा कि विपक्ष सदन का समय खराब कर रहा है। सरकार डंके की चोट पर काम कर रही है। विपक्ष के व्यवहार से आहत विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित ने कहा सदन में इस प्रकार की नारेबाजी सदन की गरिमा के विपरीत काम है। श्री अग्रवाल ने कहा कि यह बजट सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाए के लिए है। हमारा बजट समाज के सबसे निचले तबके को केंद्र में रख कर बनाया गया है।

Share it
Share it
Share it
Top